Sunday , 28 May 2017
Home » Health » allergy » बच्चों को सोना (स्वर्ण भष्म ) खिलाने के फायदे

बच्चों को सोना (स्वर्ण भष्म ) खिलाने के फायदे

feeding-baby

बच्चों को सोना (स्वर्ण भष्म ) खिलाने के फायदे

जानिए बच्चों को सोना खिलाने से यानि Swarna Prashana के फायदे

आयुर्वेद में सोने का इस्तेमाल प्राचीन काल से किया जाता रहा है।  सोने को मेमोरी में सुधार करने और इम्यून सिस्टम बढ़ाने के लिए जाना जाता है।  यही कारण है कि राजा-महाराजाओं का खाना सोने के बर्तनों में परोसा जाता था। एक और बात यह भी प्रचलित है कि पत्थर पर सोने के आभूषण रगड़ने के बाद उसे पानी से धो दिया जाता है और  उस पानी को बच्चे को पिलाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि इससे बच्चे के स्वास्थ्य में सुधार होता है। इस तकनीक को आयुर्वेद में स्वर्ण प्राशन (swarna prashana) कहते हैं। कॉलेज ऑफ आयुर्वेदिक साइंस एंड रिसर्च हॉस्पिटल में न्यूरोलोजी एंड चाइल्ड हेल्थकेयर यूनिट की डॉक्टर मधु गुप्ता  आपको इस तकनीक से जुड़ी अहम बातें बता रही हैं।

बच्चे को सोना खिलाने की तकनीक :-

परंपरागत रूप से स्वर्ण भस्म या कच्चे सोने को थोड़े से पानी के साथ साफ पत्थर पर रगड़ा जाता है। इस पानी में शहद और घी मिलाकर बच्चे को चटाया जाता है। कई जगहों पर स्वर्ण भस्म को वाचा चूर्ण और ब्राह्मी जड़ी बूटी के साथ मिलाकर बच्चे को दिया जाता है।

इससे क्या लाभ होते हैं जानने के लिए next पर क्लिक करे 

Leave a Reply

Your email address will not be published.