Thursday , 29 June 2017
Home » आयुर्वेद » जड़ी बूटियाँ » सर्दियों मे आयुर्वेद का विशेष उपहार – सोंठ पाक

सर्दियों मे आयुर्वेद का विशेष उपहार – सोंठ पाक

सर्दियों मे आयुर्वेद का विशेष उपहार – सोंठ पाक

आयुर्वेद में एक से बढ़ कर एक ऐसे दिव्य योग उपलब्ध है जिनका सेवन करके शरीर में शक्ति का संचार किया जा सकता है। सौंठ दुनिया की सर्वश्रेष्ठवातनाशक औषधि है, सौंठ पाक सौंठ से बानी हुयी आयुर्वेद की उत्तम औषिधि हैं जो सर्दियों में अमृत समान हैं। सर्दियों में सोंठ पाक का कैसे उपयोग किया जाए, आइये जाने इसके बारे में।

सोंठ पाक

सोंठ                 320 ग्राम
देशी घी            800 ग्राम (यदि गाय का घी मिले तो बहुत अच्छा)
दूध                       5 लीटर(यदि गाय का हो तो अधिक अच्छा )
चीनी                    2 किलो (चीनी के स्थान पर मिश्री या खांड ले तो अधिक गुणकारी होगा)

सोंठ, काली मिर्च, पीपल, दालचीनी, छोटी इलायची, तेजपता प्रत्येक 10ग्राम लेवें।

इस तरह से कुल तैयार मिश्रण लगभग 4 किलो बनता है। कम बनाने के लिए दिए गए तौल के अनुपात मे कम या अधिक बना सकते है। सोंठ पिसी हुई ले या खुद पिसे, परंतु उसमे घुन न लगा हो। बहुत दिनो की पिसी हुई न ले यदि साबुत सोंठ को खुद पिसें तो अधिक गुणकारी होगा। सबसे पहले सोंठ व दूध को मिलाकर इतना पकाए की इसका खोया (मावा) बन जाए। अब इसमें घी मिला लें। घी मिलाकर खोये को इतना भुने कि लगभग सूख जाए। इसके बाद आग से उतार कर इसमे पिसी हुई चीनी या मिश्री मिलाकर दूसरी औषधियाँ भी मिला दे। ध्यान रहे खोये मे पानी कम रहे नहीं तो ये खराब हो जाएगा।

इसके सेवन के फायदे निम्नलिखित हैं।

1. सर्दी मे बार बार होने वाले खांसी जुकाम से बचाएगा।
2. डिप्रेशन मे अत्यंत लाभकारी है।
3. चलते फिरते समय चक्कर आने मे लाभकारी है ।
4. आमवात अर्थात जोड़ों के दर्द मे फायदा करता है।
5. बालो को समय से पहले सफ़ेद होने से रोकता है।
6. पुरुषों के रोगों मे भी फायदा करती है।

मात्रा और सेवन विधि :-

अपनी पाचन शक्ति के अनुसार 25 ग्राम से 50 ग्राम वजन में, सुबह खाली पेट खूब चबा-चबाकर खाएं और ऊपर से मीठा गुनगुना दूध पियें।

सावधानी

मधुमेह के रोगी इससे बचें या डॉक्टर की सलाह से लें। यदि पाचन शक्ति अच्छी न हो तो उसे अवश्य बढ़ाने के उपाय करें अन्यथा इस बहुमूल्य औषधि का पूरा लाभ नहीं मिलेगा। इसे बच्चे बूढ़े जवान स्त्री पुरूष सभी ले सकते है बस मात्रा का ध्यान रखें। कोशिश करें की सर्दी के मौसम में ही सेवन करें बहुत अधिक गर्मीं में इसका सेवन नहीं करें। क्योंकि स्वभाव से यह योग उष्ण प्रकृति का है।

(ये प्रयोग गदनिग्रह का है। गदनिग्रह आयुर्वेद का बहुत विश्वसनीय पुस्तक है)

[Read. यौन शक्ति दायक और उत्तम वाजीकारक लहसुन पाक।]

One comment

  1. Sir mujhe HLA-B27 positive h yani ki Rhumated Arthritis …Gathia vat rog h ji …ko medicines btaye ji plz

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status