Wednesday , 17 January 2018
Home » Beauty » झुर्रियों के लिए सरल घरेलू नुस्खे और आयुर्वेदिक रामबाण इलाज।

झुर्रियों के लिए सरल घरेलू नुस्खे और आयुर्वेदिक रामबाण इलाज।

झुर्रियां आना मतलब बुढ़ापे की दस्तक। हालांकि झुर्रियां आना बायोलॉजिकल प्रोसेस है लेकिन आजकल त्वचा की सही देखभाल न होने पर समय से पहले ही झुर्रियां नज़र आने लगती हैं। या फिर प्रदूषण, तनाव, गलत खानपान और जीवनशैली की समस्याओं का भी नतीजा हो सकती हैं।

त्वचा में मौजूद कोलाजेन (Collagen) उम्र बढ़ने के साथ कम होने लगता है परिणाम स्वरुप त्वचा पर झुर्रियां नज़र आती हैं।  झुर्रियों की समस्या को दूर करने के लिए आज बाजार में ढेर सारे उत्पाद मौजूद है, लेकिन उनके प्रयोग से भी ज्यादातर कुछ खास असर नही हो पाता और बहोत से पैसे भी खर्च करने पड़ते है जो की सब के बस की बात नही है। लेकिन आज हम आपको को कुछ घरेलू और आयर्वेदिक नुस्खे बताने जा रहे है जो आपके बजट के हिसाब से तो फिट हैं ही, साथ ही ये पूरी तरह प्राकृतिक और असरदार भी है। आइये जाने।

सुबह नहाने के आधा घंटा पहले या रात को सोने से आधा घंटा पहले पानी से चेहरा अच्छी तरह धोएं और बाद में खुरदरे तोलिये से रगड़-पोंछकर सुखा लें। इसके पश्चात आधा चम्मच दूध की ठंडी मलाई में निम्बू की चार-पांच बुँदे मिलाकर झुर्रियां पर अच्छी तरह मलें। मलाई दोनों हथेलियों से तब तक मलते रहें जब तक की मलाई घुलकर त्वचा में रस न जाएँ। बीस मिनट या आधा घंटे के बाद स्नान कर लें या पानी से मुंह धो डालें परन्तु साबुन का प्रयोग न करें। नित्य 15-20 दिन तक नियमित प्रयोग से झुर्रियां दूर होती है तथा चेहरे के काले दाग मिटकर चेहरा कान्तिमान और रसनीय हो जाता है।

उपरोक्त प्रयोग करते समय यदि स्नान के पश्चात चेहरे पर धीरे-धीरे जैतून के तेल की मालिश करें तो सोने पे सोहागा का काम देगा।

खुरदुरे तौलिये से घर्षण पैदा होता है। जो त्वचा के सौंदर्य और इसके स्वस्थ रखने में बहुत लाभदायक हैं। आजकल हम महंगे महंगे तौलिये इस्तेमाल करते हैं, जिनसे हमारी त्वचा को नित्य मिलने वाला घर्षण नहीं मिल पाता और हमको इसके ये बेहतरीन फायदे नहीं मिल पाते।

 

चेहरे पर तेल मालिश या उबटन की विधि –

चेहरे को साफ़ किये बिना मालिश न करें। जिस तरफ की झुर्रियां पड़ती हो, उसके ठीक विपरीत दिशा में उँगलियों के पोरों पर गुनगुने जैतून के तेल की कुछ बुँदे लगाकर मालिश करें। मालिश करते समय या तेल लगाते समय ललाट को दोनों हथेलियों से धीरे-धीरे ऊपर की और तथा कनपटियों की तरफ उंगलिया ले जाते हुए मलें।

अपनी उँगलियों की झुर्रियां मिटने के लिए भी निम्बू के रस की बुँदे मिली दूध की ठंडी मलाई की मालिश करें।

झुर्रियां मिटाने के लिए घरेलु नुस्खे।

1. नहाने से पहले पके हुए पपीते का एक टुकड़ा काटकर चेहरे पर घिसें या पपीते का गुदा मसलकर चेहरे पर लगाएं। कुछ देर बाद स्नान कर लें। कुछ दिन लगातार ऐसा करने से चेहरे की झुर्रियां दूर होती हैं, धब्बे-झाइयां, मैल-कालिमा नष्ट होती हैं एवं मुहांसे मिटकर चेहरे की रंगत निखरती है।

2. नहाने से पहले पके पपीते के गूदे को पांच मिनट गर्दन पर रगड़ें। इससे गर्दन की मैल साफ़ होगी, त्वचा निखरेगी और प्रौढ़ अवस्था के साथ पड़ने वाली गर्दन की झुर्रियां दूर होंगी।

चेहरे की झुर्रियां के लिए निम्नलिखित व्यायाम लाभदायक है।

1. ‘ई’ और ‘ओ’ बोलते हुए

‘ई’ और ‘ओ’ बोलते हुए एक बार चेहरे को फैलाएं और फिर सिकोड़ें। मतलब ‘ई’ के उच्चारण के साथ ऐसी मुद्रा बनाए मानो कि आप मुस्कराने जा रहे है। कुछ क्षण इसी मुद्रा में रहने के बाद होठों को आगे की तरफ बढ़ाते हुए इस प्रकार मुद्रा बनाए मानो कि आप सीटी बजाने जा रहे है। इस प्रकार व्यायाम होता है, जिससे गालों की पुष्टि होती और झुर्रियां से बचाव। यह क्रिया एक बार में 15-20 बार करें और दिन में तीन बार करें।

2. मुंह से फूंक मारते हुए

मुंह से फूंक मारते हुए गाल फुलाएं व पेट पिचकाएँ। फिर नाक से साँस खिचे। इस प्रकार 15-20 बार करें और दिन में तीन बार करें। गाल पुष्ट होंगे।

3. सिंहासन-

योगासनो में सिंहासन चेहरे की झुर्रियां दूर करने में प्रभावशाली है। सिंहासन करने की सरल विधि-अपनी कमर, गला, पीठ को सीधे रखते हुए वज्रासन में घुटनो के बल (जैसे मुसलमान नमाज पड़ते समय बैठते है) बैठकर घुटने थोड़े फैला लें। दोनों हथेलियाँ भीतर की और रखते हुए घुटनो के बीच फर्श पर जमा लें और उंगलियो को फैला लें। मुख को जितना खोला जा सके, यथासाध्य खोलते हुए जीभ को अधिक-से-अधिक मुंह के बाहर निकालते हुए, आँखे खुली रखते हुए गले की नस-नाड़ियों को तानते हुए सिंह की भांति अपना उग्र रुप बनाए। यही सिंहासन है। इस आसन के अभ्यास से कंठ और मुख के स्नायुओं में अच्छी तरह खिचाव आता है और मुंह और आँखों के आसपास पड़ी झुर्रियां दूर होती है .यदि झुर्रियां नही भी है तो आने वाली झुर्रियों से रक्षा होती है। प्रतिदिन लगातार इसका एक से पांच मिनट तक अभ्यास करने से टांसिल का ऑपरेशन करवाने की आवश्यकता नही रहती। इससे चेहरे की झुर्रियां नष्ट होती है परन्तु ललाट की झुर्रियों पर असर प्राय: नही होता है।

4. ललाट की झुर्रियों को दूर करने के लिए

ललाट की झुर्रियों को दूर करने के लिए हथेली की मदद से ललाट को पीछे की और, जहां से बालों की सीमा प्रारम्भ होती है, मालिश करें। यदि माथे पर कोई रेखा है तो लगातार अभ्यास से दूर हो जाएगी।

5. चेहरे में आँखों के छोर की रेखाएं मिटाने के लिए

चेहरे में आँखों के छोर की रेखाएं मिटाने के लिए खीरे को गोलाई में टुकड़े काटकर आखों के नीचे-ऊपर लगा लें। माथे पर कुछ लम्बे टुकड़े तनाव-रहित होकर कुछ देर लेटना चाहिए। इस क्रिया को प्रतिदिन एक बार से लगभग दो सप्ताह में ये लकीरे मिट जाती है।

6. गालों और आखों के इर्द-गिर्द झुर्रियां और झुरिया मिटाने के लिए

गालों और आखों के इर्द-गिर्द झुर्रियां और झुरिया मिटाने के लिए रात को दूध की ताजा मलाई में महीन आटा मिलाकर मुंह पर लेप कर लें। इसके बाद कुछ देर घरेलू काम करने के बाद गीले हाथ से चेहरे को खूब मलें जिससे की मटमैले रेशे गिर जाएँ। फिर चेहरा धोकर मुंह में ठंडा पानी भरकर आखों पर ठडे पानी के खूब छींटे मरें और चेहरा पोछ लें। इस प्रयोग से गालों और आँखों के आसपास की झुर्रियां मिटती है तथा झाइयां नष्ट हो जाती है।

7. गालों की झुर्रियां-

यदि आप गालों पर निम्बू का रस लगाकर निम्बू निचोड़े छिलके कुछ दिन मलें तो गाल झुर्रियां-रहित और सुन्दर हो जायेगे। साथ ही मुख धोने के बाद गालों को हथेलियों से थपथपा कर सुखाएं तो गालों में खून का परवाह अच्छा होगा एवं चेहरे की झुर्रियां मिटेगी।

8. त्वचा की झुर्रियां

त्वचा की झुर्रियां मिटाने के लिए आधा गिलास गाजर का रस नित्य शाम चार बजे दो सप्ताह लें।

झुर्रियों से बचाव

1.शीतल जल ढीली त्वचा को कसकर रखने एवं रक्त संचार को ठीक करने के लिए प्रभावपूर्ण है। चेहरा धोने के पश्चात उसे कभी भी तोलिये से न पोंछे बल्कि हथेलियों से थपथपाकर चेहरे का पानी सुखाएं। ऐसा करने से जल का कुछ अंश त्वचा के रोम छिद्रों के द्वारा शरीर में प्रवेश कर जाता है। परिणामस्वरूप चेहरे की ताजगी एवं खूबसूरती बनी रहती है और चेहरे पर झुर्रियां नही पड़ती।

2. चिंता, मानसिक तनाव व थकावट से बचे। मुस्कराने और खुलकर हसने की आदत डालें।

3. चेहरे पर पड़ी झुर्रियों से छुटकारा पाने के लिए अंकुरित चने एवं मूंग को सुबह व शाम खाएं। इनमे विद्यमान विटामिन ‘ई’ झुर्रियां मिटने और युवा बनाये रखने में विशेष सहायक होता है।

 

3 comments

  1. Fisher treatment for madicin

  2. Gurmail Singh Dhanjal

    Good, Congratulations!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
DMCA.com Protection Status