Sunday , 17 December 2017
Home » आयुर्वेद

आयुर्वेद

जिन महिलाओं को गर्भ नहीं ठहरता, बार बार गर्भपात हो जाता है, सिस्ट हो, ल्युकोरिया इत्यादी का रामबाण

महिलाओं में प्रजनन तंत्र सम्बंधित बहुत सी समस्याए होती है। आज के लेख में हम ऐसी ही एक औषधि की चर्चा करने जा रहे है जो महिलाओंं में न केवल प्रजनन तंत्र की समस्याओ का समाधान करती है बल्कि जिन महिलाओं में बार बार गर्भपात होने का डर रहता हैं और जिनमे दूध का सत्राव कम होता है  उनमे भी …

Read More »

ये दो चीजे घर में है तो डेंगू, चिकुनगुनिया, मलेरिया और वायरल बुखार कभी किसी को भी नहीं होगा !!

डेंगू, चिकुनगुनिया, मलेरिया और वायरल बुखार आजकल के मौसम में बहुत तेजी से बढ़ने वाली बीमारियां हो गई हैं। देशभर में कई लोग इन बीमारियों की गिरफ्त में हैं। आलम ये है कि कई लोगों की इन बीमारियों के चलते मौत भी हो गई है। आज की स्थिति ये है कि भारत के कई राज्‍य इसकी चपेट में आ चुके …

Read More »

हजारो लाखो तो खर्च कर दिए पर अब और नहीं कई बिमारिओ का काल है ये औषधी – Scientifically Proven

Scientifically Proven इस औषधी के जितने गुण आप को हजारो खर्चने के बाद भी नहीं मिलेंगे !! चिया के बीज ( Chia Seeds for Health) चिया के बीज, तुलसी की प्रजाति के बहुत ही छोटे बीज होते हैं। ये शरीर को स्वस्थ बनाए रखने में बहुत फायदेमंद होते हैं। चिया के बीजों में कई औषधीय गुण भी होते हैं, जो …

Read More »

सामान्य पौधे, ये करते हैं इन बड़े रोगों में रामबाण का काम का कम करते है !!

पौधे और तमाम तरह की जड़ी-बूटियों को आदिवासी पूजा-पाठ में इस्तेमाल करते हैं। ग्रामीण अंचलों में इन्हीं सब जड़ी-बूटियों से रोगों का उपचार भी किया जाता है। आदिवासी जड़ी-बूटियों के इस्तेमाल से पहले इनकी पूजा करते हैं। ऐसी मान्यता है कि इससे जड़ी-बूटियों की क्षमता दुगुनी हो जाती है। इन जड़ी-बूटियों और उनके गुणों की पैरवी और पुष्टि आधुनिक विज्ञान …

Read More »

महंगी महंगी दवाएं खा खा कर थक चुकें हैं तो एक बार इसकी शरण में आ कर देखो।

मालकांगनी को चरक संहिता में शिरोविरेचनार्थ एवं उन्माद व् अपस्मार की चिक्तिसा में प्रयोग बताया है. सुश्रुत संहिता में ज्योतिषमिति तेल को शिरोविरेचनार्थ उन्माद व् अपस्मार के साथ में कुष्ठ की चिकित्सा में प्रयोग बताया है. मालकांगनी अर्थात ज्योतिषमिति का प्रयोग दिमाग को राकेट जैसा तेज़ करने, कमजोरी दूर करने, ताक़त बढाने, पुरुष रोगों में, कुष्ठ रोगों में,  मिर्गी जैसे कड़े रोगों …

Read More »

अमरबेल के दिव्य औषधिय गुण और 30 औषधीय प्रयोग !! जैसे यकृत, गठिया,छोटा कद, गंजापन…

 अमर बेल ( Amarbel ) एक पराश्रयी (दूसरों पर निर्भर) लता है, जो प्रकृति का चमत्कार ही कहा जा सकता है। बिना जड़ की यह बेल जिस वृक्ष पर फैलती है, अपना आहार उससे रस चूसने वाले सूत्र के माध्यम से प्राप्त कर लेती है। अमर बेल का रंग पीला और पत्ते बहुत ही बारीक तथा नहीं के बराबर होते हैं। …

Read More »

अरंडी का तेल ( Castor Seed oil ) के #61 फायदे( ब्यूटी, वेट लॉस, स्तनपान, पुरुषो के लिए, दांत आदि)

कैस्टर ऑयल के फायदे: Castor Seed oil benefits कैस्टर ऑयल ( Castor Seed oil ) क्या है और यह कैसे बनाया जाता है? कैस्टर ऑयल ( Castor Seed oil ) के विभिन्न प्रकार (जिसमें एक खरीदने के लिए?) सेहत एंव स्वास्थ के लिये कैस्टर ऑयल के फायदे त्वचा में कैस्टर ऑयल के फायदे बालों के लिये कैस्टर ऑयल ( Castor Seed oil ) के …

Read More »

वैज्ञानिको ने भी माना बाएं ओर करवट ले कर सोने से होते है ये अधभुत लाभ ( left side sleeping )

इंसान का एक ही करवट में रातभर लेटे रहना नामुमकिन है, आप को जिस भी करवट आराम मिलता है उस ओर सो सकते हैं. बाएं ओर करवट लेट कर सोने से कई बीमारियां, दिल का रोग, पेट संबन्‍धित खराबी, थकान, पेट का फूलना और अन्‍य शारीरिक समस्‍याएं हल हो सकती हैं. ( left side sleeping ) आपने कभी सोचा हैं …

Read More »

आयुर्वैदिक भस्म और इस के प्रकार से जोड़ी सम्पूर्ण जानकारी !!!

आयुर्वेद में, निस्तापन (कैल्सिनेशन) से प्राप्त पदार्थों (औषधियों) को भस्म कहते हैं।  आयुर्वेद में भस्म, एक ऐसा पदार्थ जिसे पकाकर (निस्तापन) प्राप्त किया गया, के रूप में परिभाषित किया गया है। भस्म (जलाये जाने के बाद बचा अवशेष या जल कर राख कर देने के बाद बची सामग्री) और पिष्टी (बारीक पीसी हुई मणि या धातु) को आयुर्वेद में जड़ी बूटियों के साथ औषधीय रूप …

Read More »

स्त्री पुरुषों के लिए वरदान – तोड़े कमजोरी की मुंडी – इसका नाम ही है गोरखमुंडी

गोरखमुंडी के फायदे, Benefit of Gorakhmundi, gorakhmundi ke fayde, benefit of Sphaeranthus indicus in hindi गोरखमुंडी का इस्तेमाल आयुर्वेद मतानुसार प्लीहा, पीलिया, पित्त विकार, वातज, कंठमाला, क्षयजनित ग्रंथियां, खुजली, दाद, कुष्ठ, यौन रोग तथा गर्भाशय की वेदना दूर करने के लिए किया जाता है. गोरखमुंडी कटु, तिक्त आदि गुणों के कारण अपची, अपस्मार, गलगंड, एवं शलिपद आदि रोगों का शमन …

Read More »
Share
DMCA.com Protection Status