Saturday , 23 September 2017
Home » Health » ulcer » acidity » मलाशय को स्वस्थ रखने के 10 उपाए

मलाशय को स्वस्थ रखने के 10 उपाए

1 of 3

मलाशय को स्वस्थ रखने के 10 उपाए

कोलन या मलाशय हमारे पाचन तंत्र का महत्त्वपूर्ण हिस्सा है, यह हमारे पेट से उन अपाच्य भोजन को बाहर निकाल देता है जो पचता नहीं है जैसे पानी, नमक, विटामिन और अन्य पोषक तत्व। इसलिए जब यह ठीक से काम नहीं करता है और तब यह विषैले तत्वों से ग्रसित हो जाता है। और कई सारी परेशानियाँ पैदा करता है जैसे सिर दर्द, सूजन, कब्ज, गैस, वजन बढ़ना , कम ऊर्जा, थकान और पुरानी बीमारी को उजागर कर देना। यह सारी परेशानियाँ अपाच्य भोजन से होती है जो बहुत सारे अन्य रसायनों से तैयार किये जाते हैं, जिनसे आगे चल कर कोलन में बलगम जमा होने लगता है और शरीर के लिए बहुत हानिकारक होता है ।वैसे तो कोलन को साफ़ रखना काफी आसान है जिससे आपके शरीर को हानिकारक विषैले तत्वों से छुटकारा मिल जायेगा, और आपका पाचन तंत्र भी मजबूत होगा। तो आइये जाने कुछ ऐसे ही घरेलू नुस्ख़े

पानी

कोलन को साफ़ और स्वस्थ रखने का सबसे आसान तरीका है खूब पानी पियें। दिन कम से कम 10 से 12 गिलास पानी पिए। यह कोलन को साफ़ और आपके शरीर को विषैले पदार्थ से बचाएगा।

सेब का रस कोलन की सफाई के लिए सबसे अच्छे घरेलू उपचारों में से एक है। सेब के रस का नियमित सेवन, मल त्याग को प्रोत्साहित कर विषाक्त पदार्थों को बाहर निकलता है। और पाचन तंत्र को स्वस्थ्य रखने के साथ ही लीवर को भी बेहतर रखता है।

1. अपने दिन की शुरुआत एक गिलास अनफ़िल्टर्ड सेब के रस के साथ करें

2. 30 मिनट के बाद, एक गिलास पानी पियें

3 . इसे दिन में कई बार दोहराएँ और तीन दिनों तक करें , बीच में, आप भी बेर का रस एक गिलास पी सकते हैं।

नींबू के रस में मौजूद एंटीऑक्‍सीडेंट और विटामिन सी पाचन तंत्र के लिए अच्‍छा होता है। इसलिए आप कोलन की सफाई के लिए नींबू का रस ले सकते है। इसके लिए आप एक गिलास गुनगुने पानी में एक नींबू का रस, चुटकी भर समुद्री नमक और थोड़ा सा शहद मिलाकर सुबह खाली पेट ले। इसका सेवन आपको अधिक ऊर्जा, बेहतर मल त्‍याग और त्‍वचा को बेहतर बनाने में मदद करता है।

मलाशय को स्वस्थ रखने के अन्य उपाए  next पर क्लिक कर के पढ़िए.

मलाशय को स्वस्थ रखने के अन्य उपाए  next पर क्लिक कर के पढ़िए.

2 of 3

मलाशय को स्वस्थ रखने के 10 उपाए

कोलन की सफाई के लिए एक या दो दिन में पके हुए और संसाधित भोजन से दूर रहना जरूरी होता है। ठोस आहार की जगह एक दिन में कई बार ताजा सब्जियों का जूस पीने का शुरू कर दें । सब्जियों के जूस में मौजूद शुगर मल त्‍याग में सुधार करता है। इसके अलावा इसमें मौजूद विटामिन, खनिज, अमीनो एसिड और एंजाइम आपके शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करते है।

फाइबर से भरपूर पदार्थ कोलन से हानिकारक विषाक्त पदा‍र्थों को बाहर निकालने में मदद करते है। फाइबर मल को नर्म कर मल त्‍याग में सुधार करता है। और अपशिष्ट उत्पादों को निष्कासित करने के लिए शरीर को प्रोत्साहित करता है। इसके अलावा फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ पेट की किसी भी प्रकार की समस्‍याओं के लिए रामबाण होता है। रसभरी, नाशपाती और सेब जैसे ताजे फल के साथ मटर और ब्रोकोली जैसी ताजा सब्जियों और अनाज जैसे साबुत अनाज, नट्स, बीन्‍स और बीज को अपने आहार में शमिल कर फाइबर की उच्‍च मात्रा पा सकते हैं।

नियमित रूप से दही का सेवन कोलन को स्‍वस्‍थ रखने का अच्‍छा उपाय है। दही आपके शरीर को समर्थक जैविक और अच्‍छे बैक्‍टीरिया देता है और बुरे बैक्‍टीरिया से छुटकारा दिलाने में मदद करता है। दही में मौजूद उच्‍च मात्रा में कैल्शियम कोलन की कोशिकाओं का विकास करता है।

मलाशय को स्वस्थ रखने के अन्य उपाए  next पर क्लिक कर के पढ़िए

मलाशय को स्वस्थ रखने के अन्य उपाए  next पर क्लिक कर के पढ़िए

3 of 3

मलाशय को स्वस्थ रखने के 10 उपाए

अलसी ओमेगा -3 फैटी एसिड, एंटीऑक्सिडेंट और प्राकृतिक फाइबर का अच्छा स्रोत है। आहार में अलसी का सेवन कोलन को साफ करने का एक शानदार तरीका है। अलसी पानी को अवशोषित कर विषाक्त पदार्थों और बलगम को दूर करने में सहायता करता है। अलसी कोलन को साफ करने के साथ ही कैंसर, हृदय रोग और मधुमेह को रोकने में भी मदद करती है।

1. एक चम्मच समुद्री नमक को एक गिलास पानी में मिलाएं

2. सुबह उठने के बाद इस घोल को पियें

3. कुछ देर रुके, फिर लेट जाएँ और अपने अपने कोलन के स्थान पर हल्के-हल्के मालिश करें। इससे आपके मल त्याग आसानी से होगा और आपके शरीर से हानिकारक विषाक्त पदार्थ और बैक्टीरिया होंगे।

4.इसे एक महीने में पांच बार करें

सावधानी यह घोल आपको दस्त की बीमारी दे सकता है। इसलिए खूब पानी पिए और साथ ही फलों के जूस भी लें। अगर आप रक्तचाप दिल की बीमारी से ग्रस्त हैं तो इसे ना करें।

एलोवेरा में एंटीऑक्सीडेंट पाये जाते हैं। और यह लैक्सटिव के रूप में कार्य भी करता है। इसलिए इसे कोलन की सफाई का एक कारगर उपाय माना जाता है। एलोवेरा में मौजूद औषधीय गुण कोलन के स्‍वास्‍थ्‍य में सुधार करता है।

1. एलोवेरा की पत्तियों से जैल को निकालकर उसमें नींबू को रस मिलाकर पीसकर जूस बना लें।

2. इस जूस को दो तीन घंटे के लिए फ्रिज में रखें

3. इस जूस को एक दिन में कई बार पियें।

अदरक आसानी से उपलब्‍ध होने वाली सामग्री में से एक है। यह सूजन को कम और कोलन की कार्यक्षमता को बढ़ा कर शरीर को हानिकारक विषाक्त पदार्थों से मुक्त रखने में मदद करता है।

1. कोलन को साफ़ रखने के लिए अदरक का सेवन रस, टुकड़े या किसी भी रूप में कर सकते है।

2. इसके अलावा दो कप पानी में अदरक का रस, उसमें एक-चौथाई चम्मच निम्बू का रस मिला लें फिर इसे दिन में दो से तीन बार पियें स्वाद के लिए आप इसमें शहद भी मिला सकते हैं।

कृपया इस जानकारी को जनहित के लिए शेयर जरुर करे 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
DMCA.com Protection Status