Thursday , 24 August 2017
Home » How To » मुरब्बा » आंवले का शहद वाला मुरब्बा बनाने की सर्वोत्तम विधि

आंवले का शहद वाला मुरब्बा बनाने की सर्वोत्तम विधि

आंवले का शहद वाला मुरब्बा बनाने की सर्वोत्तम विधि

एक कहावत हैं के आंवले का खाया और सयाने (समझदार) का कहा बाद में पता चलता हैं। अगर आप हर रोज़ एक आंवला भी खाते हैं तो आप 100 वर्ष तक निरोगी और जवान रह सकते हैं। इसके गुणों के बारे में लिखे तो एक पूरी किताब भी लिखी जा सकती हैं। आंवला कैसे भी खाया जाए ये सेहत के लिए बहुत बढ़िया हैं, मुरब्बे के रूप में आंवले खाने का प्रचलन बहुत पुराना हैं, इस से आंवले के गुण भी बरक़रार रहते हैं और खाने का भी मज़ा डबल हो जाता हैं। आज हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसे ही स्वादिष्ट आंवले के शहद वाले मुरब्बे के बारे में, जिसमे आंवले के गुणों के साथ शहद के गुण होने के कारण ये अमृत समान हो जाता हैं। तो आइये जाने आंवले का शहद वाला मुरब्बा बनाने की विधि और इसको अपनी नियमित खुराक में ज़रूर शामिल करे।
आइये जाने आंवले का मुरब्बा बनाने की विधि। 

500 ग्राम स्वच्छ हरे आंवले कद्दू कस कर के उनका गुद्दा किसी कांच के मर्तबान में डाल दे और गुठली निकाल कर फेंक दे। अब इस गुद्दे पर इतना शहद डाले के गुद्दा शहद में तर हो जाए। तत्पश्चात कांच के पात्र को ढक्कन से ढक कर उसे दस दिन तक रोज़ाना चार पांच घंटे धुप में रखे। इस प्रकार प्राकृतिक तरीके से मुरब्बा बन जाएगा। बस दो दिन बाद इसे खाने के काम में लाया जा सकता हैं। इस विधि से तैयार किया गया मुरब्बा स्वस्थ्य की दृष्टि से श्रेष्ठ हैं। क्युकी आग की बजाये सूर्य की किरणों से निर्मित होने के कारण इसके गुण धर्म नष्ट नहीं होते। और शहद में रखने से इसकी शक्ति बहुत बढ़ जाती हैं।

सेवन विधि –

प्रतिदिन प्रात: खाली पेट ९० ग्राम ( दो चम्मच भर ) मुरब्बा लगातार तीन-चार सपताह तक नाश्ते के रूप में ले, विशेषकर गर्मियों में। चाहे तो इसके लेने के पंद्रह मिनट बाद गुनगुना दूध भी पिया जा सकता है। चेत्र या क्वार मांस में इसका सेवन करना विशेष लाभप्रद है। 

ऐसा मुरब्बा विधार्थियो और दिमागी काम करने वालो की मस्तिष्क की शक्ति और कार्यक्षमता बढ़ाने और चिड़चिड़ापन दूर करने के लिए अमृत है। इससे विटामिन सी, ए, कैलशियम, लोहा का अनूठा संगम है। 100 ग्राम आंवले के गूदे में 720 मिलीग्राम विटामिन सी, 15 आइ. यू. विटामिन ए, 50 ग्राम कैल्शियम, 1.2 ग्राम लोहा पाया जाता है।

[Clich here to Read. सर्दियों और आर्थराइटिस के लिए विशेष – गोंद के लड्डू।] 

4 comments

  1. VERY NICE TIPS.SIR .THANK YOU.

  2. Very informative and useful

  3. बहुत बढ़िया

  4. Very nice and easy to use tips

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
DMCA.com Protection Status