Friday , 15 December 2017
Home » Health » DENGUE » डेंगू बुखार का काल हैं मेथी के पत्ते, और गिलोय पपीता तुलसी रातों-रात बढ़ाते हैं प्लेटलेट्स – अमृत रस

डेंगू बुखार का काल हैं मेथी के पत्ते, और गिलोय पपीता तुलसी रातों-रात बढ़ाते हैं प्लेटलेट्स – अमृत रस

आजकल के मौसम में डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया और टाइफाइड जैसी बीमारियां बहुत ही आम हो गई हैं। बच्चे से लेकर बूढ़े तक हर कोई इन बीमारियों की चपेट में आ रहा है। डेंगू एक ऐसी जानलेवा बीमारी है जिसकी चपेट में आने पर व्यक्ति की मौत भी हो सकती है। यह रोग मच्छर के काटने से होता है। डेंगू के बारे में सबसे खास बात यह है कि इसके मच्छर दिन के समय काटते हैं तथा यह मच्छर साफ पानी में पनपते हैं। डेंगू के दौरान रोगी के जोड़ों और सिर में तेज दर्द होता है और बड़ों के मुकाबले यह बच्चों में ज्यादा तेजी से फैलता है।

डेंगू बुखार में प्लेटलेट्स का स्तर बहुत तेजी से नीचे गिरने के कारण यदि इसका इलाज तुरंत न किया जाए तो यह जानलेवा भी हो सकता है। डेंगू के इलाज में अगर आप अंग्रेजी दवाओं से कुछ खास असर नहीं दिख रहा है तो आप साथ साथ घरेलू नुस्खे भी अपना सकते हैं। हम आपको कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे बता रहे हैं जिन्हें अपनाकर आप डेंगू से छुटकारा पाने के साथ ही कुछ दिनों में रोगी की प्लेटलेट्स भी बढ़ा सकते हैं।

डेंगू बुखार का काल हैं मेथी के पत्ते।
डेंगू में रातों-रात प्लेटलेट्स बढ़ाते हैं गिलोय पपीता तुलसी ।

डेंगू के सब से आयुर्वेदिक दावा है अमृत रस ।

मेथी के पत्ते

डेंगू से बचाव के लिए मेथी के पत्ते बहुत फायदेमंद होते हैं। ये बुखार को ठीक करने में मददगार होते हैं। मेथी से शरीर के विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं जिससे डेंगू के वायरस भी खत्म होते हैं। मेथी के पत्ते पीड़ित का दर्द दूर कर उसे आसानी से नींद में भी मदद करते हैं। इसकी पत्तियों को पानी में भिगोकर उसके पानी को पीने से प्लेटलेट्स भी बहुत जल्दी बढ़ती हैं। इसके अलावा मेथी के पत्तों को पानी में उबालकर हर्बल चाय के रूप में इसका प्रयोग किया जा सकता है।

प्लेटलेट बढ़ाने के लिए गिलोय

गिलोय की बेल का सत्व मरीज को दिन में 2-3 बार दें, या गिलोय के 7-8 पत्‍तों को लेकर कुचल लें उसमें 4-5 तुलसी की पत्तियां लेकर एक गिलास पानी में मिला कर उबालकर काढा बना लीजिए और इसमें पपीता के 3-4 पत्तों का रस मिला कर लेने दिन में तीन चार लेने से रोगी को प्लेटलेट की मात्रा में तेजी से इजाफा होता है। प्लेटलेट बढ़ाने का इस से बढ़िया कोई इलाज नहीं है। यदि गिलोय की बेल आपको ना मिले तो किसी आयुर्वेदिक स्‍टोर से आप गिलोय घनवटी लेकर एक एक गोली रोगी को दिन में 3 बार दे सकते हैं।

प्रभावशाली दवा है बकरी का दूध

बकरी का दूध बहुत से लोगों को भले ही पसंद न हो लेकिन इसके फायदे बहुत हैं। डेंगू बुखार के लिए बकरी का दूध एक और बहुत ही प्रभावशाली दवा है। बकरी के दूध में गिरते हुए प्‍लेटलेट्स को तुरंत बढ़ाने की क्षमता होती है। डेंगू के उपचार के लिए रोगी को बकरी का कच्चा दूध थोड़ा-थोड़ा करके पिलाएं, इससे प्लेटलेट्स बढ़ने के साथ-साथ जोड़ों के दर्द में भी आराम मिलेगा।

 

ऐसे में शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने की बहुत आवश्यकता होती है, इसके लिए प्राकृति ने हमको 3 विशेष चीजें दी हैं जो आयुर्वेद के साथ एलॉपथी जगत में भी विशिष्ट स्थान रखती हैं. इनमे हैं गिलोय, तुलसी और पपीते के पत्ते. ये तीनों चीजें ही हमको स्वास्थ्य का भरपूर खजाना देते हैं. इन्ही सब गुणों को देखते हुए Only Ayurved ने इन तीनो को मिलाकर अमृत रस निकाला है, जिसको सिर्फ 3 से 5 दिन पीने से आपका किसी भी प्रकार का वायरल फीवर, स्वाइन फ्लू, डेंगू, मलेरिया इत्यादि में आराम हो सकता है. इसको आप दिन में 30 – 30 ml 3 बार गर्म या गुनगुने पानी के साथ लीजिये. और अनाज इत्यादि से परहेज करवाएं. सिर्फ फलाहार पर रहें. और चाय तो बिलकुल बंद कर दीजिये. Amrit Ras, Swine flu ka ilaj, dengue ka ilaj

इस के आलावा यह अमृत रस  रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में एवं स्वाइन फ्लू, डेंगू, Viral Fever,  typhoid, डायबिटीज , सुजन, गठिया, आर्थराइटिस, सोरैसिस, एक्जिमा, मुहासे, इत्यादि के लिए बेहद लाभकारी है एवं यह प्राकृतिक रक्त शोधक भी है .

गिलोय पपीता और तुलसी से बना Amrit Ras, Swine Flu ka ilaj

इन सभी चीजो को देखते हुए Only Ayurved ने इन तीनो चीजो का स्वरस निकला है, जिसमे गिलोय पपीता और तुलसी का स्वरस है यह अमृत रस छोटे मोटे बुखार से ले कर के किसी भी प्रकार के फ्लू से लड़ने में बेहद सक्षम है भयंकर रोगों में इस का सेवन 30 Ml. सुबह शाम एक गिलास पानी में और स्वस्थ व्यक्ति जो कबी बीमार नहीं होना चाहता वो इस का एक चम्मच सुबह शाम सेवन करें.

इस के आलावा यह अमृत रस  रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में एवं स्वाइन फ्लू, डेंगू, Viral Fever,  typhoid, डायबिटीज , सुजन, गठिया, आर्थराइटिस, सोरैसिस, एक्जिमा, मुहासे, इत्यादि के लिए बेहद लाभकारी है एवं यह प्राकृतिक रक्त शोधक भी है. Amrit Ras, Swine Flu ka ilaj, dengue ka ilaj

Amrit Ras कहाँ से मिलेगा. Swine Flu ka ilaj, dengue ka ilaj

अमृत रस की Franchisee लेने के लिए आप Only Ayurved के CEO चेतन सिंह जी से संपर्क कर सकते हैं 7014016190 और अगर आप ये प्रोडक्ट लेना चाहते हैं तो आप निमिन्लिखित जगहों पर संपर्क कर सकते हैं.

बिहार

पटना – 7677551854

छत्तीसगढ़

बिलासपुर – 9584891808, 9926758959

आसाम

सिलचर – 9954000321

राजस्थान

जयपुर – 8290706173, 8005648255

जोधपुर – 8432863869, 8005724956

अजमेर – 7976779225

सिरोही – 9875238595

टोंक – 9509392472

अजीतगढ़ – 8005648255

हरियाणा

पानीपत – 9812126662

बाढ़डा ( चरखी दादरी ) – 9050589707

पंजाब

मोगा – 9988009713

बठिंडा – 9779566697

मलेर कोटला – 9872439723

लुधियाणा – 9803772304

जालंधर – 9814832828

मलोट – 9877159004

हिमाचल प्रदेश

नालागढ़ – 9816022153

महाराष्ट्र

मालेगांव (महाराष्ट्र) – 9860785490

धुले (महाराष्ट्र) – 9270558484

कल्याण – 8454050864

गुजरात

द्वारिका (गुजरात) – 9033790000

चिकली (गुजरात) – 9427869061

उत्तर प्रदेश

मेरठ – 9871490307, 8449471767

हाथरस ( U. P. ) –  9997397043, 7017840020

दिल्ली

सराय कालें खां  (दिल्ली ) – 9971406805, 9015439622, 9871490307

डिस्ट्रीब्यूटर बनने के लिए आप 7014016190 पर संपर्क कर सकते हैं.

Amrit Ras, अमृत रस, Amrit Ras By Only Ayurved, Amrit ras ke fayde, Swine flu ka ilaj, dengue ka ilaj

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
DMCA.com Protection Status