Saturday , 25 November 2017
Home » gharelu gyaan » कहीं आपका इम्युनिटी सिस्टम इन कारणों से तो कमज़ोर नहीं हो रहा.

कहीं आपका इम्युनिटी सिस्टम इन कारणों से तो कमज़ोर नहीं हो रहा.

कहीं आपका इम्युनिटी सिस्टम इन कारणों से तो कमज़ोर नहीं हो रहा.

जानिए किन आदतों से हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता होती है कम। 

आदतें ही होती हैं जो हमारे जीवन, सेहत और चरित्र आदि का निर्माण करती हैं। स्वस्थ रहने के लिये आपको एक आदर्ष जीवशैली और अच्छी आदतों का पालान करना होता है। जिसमें नियमित व्यायाम व पौष्टिक आहार आदि शामिल होते हैं। इस तरह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है और शरीर रोगों से दूर रहता है। हमारी जीवनशैली से जुड़ी खराब आदतें हमारे स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाती हैं और कुछ खराब आदतें ऐसी भी होती हैं, जिनसे शरीर के रोगों से लड़ने की क्षमता खतम हो जाती है।

इन आदतों के चलते शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है और शरीर बीमारियों से लड़ नहीं पाता है और बीमारियों के बैक्टीरिया और वाइरस शरीर की प्रणाली पर हमला कर आसानी से उसे खराब करने लगते हैं। इसमें से कई आदतों के बारे में तो हमें पता ही नहीं चलता है। आएं जाने कौन सी है वो आदतें।

1. तेज़ धुप.

लगातार देर तक धूप में रहने से इम्यून पावर कमजोर हो सकती है। यूं तो सुबह की ताज़ी सूरज की रोशनी से शरीर को ‘विटामिन डी’ मिलता है जिससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है लेकिन बहुत ज्यादा तेज धूप में रहने से त्वचा को नुकसान हो सकता है और त्वचा कैंसर तक की समस्या हो सकती है।

2. बिमारियों को इगनोर करना.

अगर आप छोटी छोटी बिमारियों को नज़रंदाज़ करते रहते हैं तो यह भी आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को कम करता है. असल में होता यह है के जब ये छोटे छोटे रोग आपको घेरते हैं तो आपकी रोग प्रतिरोधक शक्ति इनसे लडती है. मगर आप अगर सही समय पर उचित खान पान और परहेज़ नहीं करते तो जब तक आपकी रोग प्रतिरोधक शक्ति मज़बूत है वो इनसे आपको बचाती रहेगी, मगर आखिर में वो बिलकुल कमज़ोर हो जाएगी तो आप बहुत कमज़ोर हो जायेंगे. इसलिए चाहे आप दवा लेना चाहे या ना लेना चाहे, आप उचित खान पान और परहेज ज़रूर रखें.

3. तनाव

बहुत ज्यादा तनाव से भी रोग प्रतिरोधक क्षमता घटने लगती है। कहते भी हैं के चिंता चिता समान है, अर्थात चिंता से अधिक स्वास्थय नाश करने वाला कोई नहीं है. तनाव होने पर शरीर में कोर्टिसोल (तनाव हार्मोन) का स्तर बढ़ जाता है जिससे इम्यूनिटी तो कमजोर होती ही है, साथ ही पाचन क्रिया भी पूरी तरह से गड़बड़ा जाती है।

4. शरीर की साफ़ सफाई पर ध्यान ना देना.

साफ-सफाई के प्रति लचर व्यवहार भी रोग प्रतिरोधक क्षमता को नाकारात्मक तरीके से प्रभावित करता है। शरीर का साफ-सफाई पर ध्यान ना देने से हानिकारक कीटाणु शरीर में प्रवेश कर जाते हैं। जिससे कई बीमारियों और इंफेक्शन हो जाते हैं। साथ ही बहुत ज्यादा शराब का सेवन या धूम्रपान भी शरीर की रोगों से लड़ने की शक्ति कम हो जाती है।

5. आलसी और सुस्त जीवन.

आलसी और सुस्त जीवन भी इसका एक कारण है. शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने के लिए आप निरंतर व्यायाम ज़रूर करें.

6. बद परहेजी.

जाने-अनजाने में ही सही लेकिन खाने की गलत आदतें और बदपरहेजी धीरे धीरे रोग प्रतिरोधक त्क्षमता को खत्म करती हैं और कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी का कारण भी बन सकती हैं। एक ताजा शोध के अनुसार तो डिब्बाबंद और माइक्रोवेव में बनाए खाद्य को खाने से कैंसर सहित कई गंभीर बीमारी हो सकती हैं।

7. पूरी नींद ना लेना.

इसके अलावा पर्याप्त नींद न लेने से ये दिमाग व पाचन क्रिया को सीधे-सीधे प्रभावित करती है। और इससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी घटती है। इसलिये समय से सोएं और पूरी नींद लें। नियमित एक्सरसाइज करें और अच्छा भोजन करें। इस तरह आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ेगी और रोग आपको छू भी नहीं पाएंगे।

8. सही पोषण ना मिलना.

भोजन में सही पोषण ना मिलना भी एक बड़ा कारण है इसका. अगर आप भोजन में सदा वही दाल सब्जी और रोटी ही खाते रहते हैं तो ये भी आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को कम कर सकता है. इसके लिए आप सप्ताह में एक दो बार जूस पीजिये, मौसमी फलों का सेवन करें. और भोजन में भी बदलाव करते रहें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
DMCA.com Protection Status