Sunday , 17 December 2017
Home » पुरुषों के रोग » शीघ्रपतन » न पुं स क ता और वीर्यरोगों को दूर कर धातुपुष्ट कर के शक्ति बढाने वाले रामबाण नुस्खे – 1

न पुं स क ता और वीर्यरोगों को दूर कर धातुपुष्ट कर के शक्ति बढाने वाले रामबाण नुस्खे – 1

न पुं स क ता और वीर्यरोगों को दूर कर धातुपुष्ट कर के शक्ति बढाने वाले रामबाण नुस्खे – 1

प्रिय पाठकों सर्दियाँ आ रहीं हैं, ऐसे में Only Ayurved ओनली आयुर्वेद आपके लिए विशेष 200 ऐसे नुस्खे ले कर आ रहा है जिनको अपनाने से आपका बल वीर्य शक्ति अपार गुणा बढ़ जायेगी.

अक्सर कहा जाता है के सर्दियों में किया गया भोजन पूरा वर्ष शरीर को पुष्ट करता है. विवाहित पुरुषों के लिए ये मौसम बहुत बढ़िया रहता है. इस मौसम में अपनाये गए विशेष घरेलु नुस्खे सदियों से बल वीर्य शक्ति बढाते आये हैं. इसी कड़ी में हम आपको बताएँगे 200 ऐसे रामबाण नुस्खे जो न पुं स क ता, शी घ्र प त न, वीर्य के तमाम रोग दूर कर के धातु को पुष्ट कर के बल वीर्य को बढ़ा कर आपको अपार शक्ति भर देंगे, इनमे से कुछ नुस्खे तो ऐसे हैं जिनको अपनाकर  नामर्द  भी मर्द  बन जाता है. अर्थात अपार बल और वीर्य बढ़ता है. इनसे बल और वीर्य तो बढेगा ही साथ ही कमर, हड्डियों और दूसरी शरीरिक कमजोरियां भी दूर होंगी.

आइये जानते हैं नपुंसकता और वीर्यरोगों को दूर कर धातुपुष्ट कर के शक्ति बढाने वाला पहला नुस्खा.

इस नुस्खे के लिए ज़रूरी सामान.

सफ़ेद प्याज का रस (अगर ना मिले तो लाल प्याज भी चलेगा) – 8 ग्राम.

अदरक का रस – 6 ग्राम.

शहद – 4 ग्राम.

घी – 3 ग्राम.

न पुं स क ता और वीर्यरोगों को दूर कर धातुपुष्ट कर के शक्ति बढाने वाला पहला नुस्खा

जैसा के पीछे बता दिया गया है के इस नुस्खे में ज़रूरी 4 सामान की आवश्यकता है. ये सारा सामान आपको ताज़ा ही लेना है. अर्थात प्याज का रस और अदरक का रस ताज़ा ही लेना है.

कई लोगों को यहाँ पर ये सोचना होगा के शहद और घी को मिलाने से टोक्सिन बनते हैं, तो उनको बता देना चाहते हैं के शहद और घी कभी भी बराबर मात्रा में नहीं लेने चाहिए. इनकी मात्रा में हमेशा शहद और घी की मात्रा कम ज्यादा होनी चाहिए, अर्थात एक की कम और दुसरे की ज्यादा. ऐसा करके अनेक आयुर्वेदिक नुस्खे बनाये जाते हैं.

प्याज के रस अदरक के रस शहद और घी को आपस में मिला लीजिये, और इसका सेवन आपको सवेरे ही करना है. और इस प्रयोग को करने के एक घंटे तक कुछ ना खाएं. यह प्रयोग कम से कम 2 महीने से 3 महीने तक निरंतर करना है. जिन लोगों की धातु ज्यादा पतली हो गयी है वो ये प्रयोग करने के 15 दिन तक सम्भोग ना करें. और इसके बाद यह प्रयोग वो सुबह और शाम में दो समय भी कर सकते हैं. इस प्रयोग की सफलता इसी पर आधारित है के ये प्रयोग आपको निरंतर करना है. बीच में छोड़ देंगे तो थोड़े दिन तो जान रहेगी मगर फिर कमजोरी आ घेर लेगी. कम से कम 3 महीने तक निरंतर करने के बाद फिर आप ये प्रयोग अगली सर्दियों में कर सकते हैं.

इसके अलावा इस प्रयोग को इस प्रकार से भी कर सकते हैं.

अदरक का रस 6 ग्राम, प्याज का रस 12 ग्राम, शहद 3 ग्राम, देसी घी 4 ग्राम. इन सबको मिलाकर सवेर ही चाटने से 41 दिन में  बहुत अधिक ताक़त आ जाएगी. यह प्रयोग भी तभी सफल होगा अगर इसको कम से कम 3 महीने तक किया जाए.

अब अगली कड़ी में आपको बताएँगे अगला बेहतरीन घरेलु नुस्खा जो के आपके बल वीर्य शक्ति स्तम्भन बढाने में कई गुणा शक्तिशाली है.

ज्यादा जानकारी के लिए हमारे पेज से कनेक्टेड रहें.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
DMCA.com Protection Status