OnlyAyuved_OutstreamVideo
Tuesday , 25 July 2017
Home » Women » delivery » प्रेग्नेंसी के बाद घी खाना जरूरी क्यों है जानिए फायदे onlyayurved

प्रेग्नेंसी के बाद घी खाना जरूरी क्यों है जानिए फायदे onlyayurved

Health benefits of ghee after pregnancy

प्रेग्नेंसी के पहले और बाद दोनों ही स्थिति में महिलाओं की सेहत का बहुत ध्यान रखा जाता है। प्रेग्नेंसी के दौरान जहां दूध-फल और प्रोटीन ज्यादा लेने कर की सलाह दी जाती है तो वहीं डिलीवरी के बाद खाने में ठोस आहार को प्राथमिकता दी जाती है। गाय का शुद्ध देशी घी स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है। गाय का घी स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होने के कारण अधिकतर डॉक्टर डिलीवरी के बाद महिलाओं को इसका सेवन करने की हिदायत देते हैं।

क्यों होता है घी फायदेमंद ?

घी में वेजिटेबल ऑयल की तुलना में अधिक पोषक तत्व होते हैं। इस कारण रोजाना घी का एक बार सेवन करना जरूरी है। ऑलिव ऑयल के बाद घी ही स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है लेकिन घी का अधिक उपयोग भी स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है।

ज्यादा कैलोरी वाला खाना खाने से बचें डिलीवरी के बाद महिलाओं को अधिक कैलोरी वाला भोजन नहीं करना चाहिए। खासकर अधिक तैलीय पदार्थों का तो सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए, लेकिन प्रसव के बाद महिलाओं को स्वास्थ्य के लिए अच्छा भोजन करने की भी जरूरत होती है। ऐसे में डॉक्टर घी से बनी चीजों का सेवन करने की हिदायत देते हैं।

घी खाने के फायदे…

पोषक तत्व प्राप्त करने के लिए :-

डिलीवरी के बाद महिलाओं के जोड़ों में चिकनाई की कमी हो जाती है। इसलिए कैल्शियम युक्त भोजन का सेवन करना चाहिए। घी में बने इन खाद्य पदार्थों से अधिक मात्रा में पोषक तत्व प्राप्त होते हैं।

माइग्रेन के लिए :-

जो महिलाएं माइग्रेन की मरीज हैं वो डिलीवरी के बाद घी का इस्तेमाल जरूर करें।

कमजोरी से बचने के लिए :-

डिलीवरी के बाद होने वाली कमजोरी से बचने के लिए भी घी खाना फायदेमंद रहता है।

बच्चों के लिए :-

घी खाने से जोड़ों के दर्द में राहत मिलती है और यह शरीर में ताकत देने के साथ ही मां के दूध के जरिए बच्चों को भी पोषक तत्व देने का काम करता है।

गाय के घी के लाभ पाचन के लिए:-

अच्छा पाचन अच्छे स्वास्थ्य की कुंजी है और घी आपके पेट की परत को ठीक करके स्वस्थ पाचन का समर्थन कर सकता है।

ब्यूटिरिक एसिड एक शॉर्ट-चेन फैटी (short-chain fatty) एसिड में समृद्ध होने के कारण, यह आंतों की कोशिकाओं को पोषण देता है। यह सूजन की स्थितियों को कम कर देता है, अपरिवर्तित खाद्य कणों का रिसाव कम करता है और म्यूकोसॉल की दीवार (mucosal wall) की रिपेयर में सहायक है।

गाय के घी के गुण वजन बढ़ाने में :–

नियमित रूप से उन लोगों को आहार के रूप में घी लेने की सलाह दी जाती है जो वजन बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं। घी शारीरिक दुर्बलता, दुबले शरीर और सूखी त्वचा वाले लोगों के लिए उपयोगी है।

गाय के घी से मालिश त्वचा के लिए :-

घी के साथ दूध का उपयोग भी सूखेपन से राहत देने में मदद करता है। शल्य चिकित्सा (post surgical care) में भी घी एक आहार सामग्री के रूप में इस्तेमाल किया गया है। घी एक उत्कृष्ट मॉइस्चराइजर है और जब पूरे शरीर की मालिश के लिए इस्तेमाल किया जाता है, तब एक सुखद और शीतलक प्रभाव देता है। पूरे शरीर पर इसे लगा कर हल्के दबाव के साथ शरीर की मालिश की जाती है।इसके आलावा राजस्थान में गावों में आज भी डिलेवरी के एक महीने बाद एक महीने तक प्रसूता के सर कि मालिश घी से ही कि जाती है।

देशी गाय के घी के फायदे नवजात शिशु के लिए :–

2 से 5 घी की बूँदें नवजात को देने की सलाह दी जाती है। गाय का घी और दूध जन्म से ही बच्चों के लिए अनुकूल होता है। स्तनपान कराने वाली मां को भी इसका सेवन करने की सलाह दी जाती है। यह मां के दूध को पौष्टिक गुणों से भर देता है।

घी गर्भावस्था को स्थिर करने के लिए :-

आयुर्वेद में गर्भावस्था में घी एक आवश्यक आहार घटक के रूप में बताया गया है। क्योंकि घी एक मीठा पदार्थ है जो जन्म के बाद से किसी भी व्यक्ति के लिए अनुकूल है। घी गर्भावस्था को स्थिर करने के लिए नाल क्षेत्र (umbilical region) के नीचे भी लगाया जाता है।

देसी घी के फायदे बनाएँ हड्डियों को मजबूत :–

घी उन खाद्य पदार्थों में से एक है जो विटामिन के (Vitamin K) विशेष रूप से विटामिन के 2 में समृद्ध है।

प्रसूता के लिए विटामिन के 2 (K2) कैल्शियम सहित खनिजों का उपयोग करने में मदद करने के लिए शरीर के लिए जरूरी है। वास्तव में, यह विटामिन कैल्शियम की तुलना में बेहतर हड्डियों बनाता है और इस विटामिन की दाँत क्षय के विरुद्ध रक्षा के लिए उचित स्तर की आवश्यकता होती है। घी भी जोड़ों और संयोजी ऊतकों के लचीलेपन को बढ़ावा देता है।

गाय का घी कैसे खाएँ :–

हालांकि घी के कई स्वास्थ्य लाभ हैं, अधिक घी का सेवन शरीर के लिए खतरनाक हो सकता है। बिना किसी क्लीनिकल कंडीशन के एक स्वस्थ व्यक्ति जिसका वजन सामान्य है, उसे एक चम्मच तेल या मक्खन के बजाय एक चम्मच घी भोजन में शामिल करना चाहिए। घी की अधिकतम दैनिक खपत प्रतिदिन 7 से 10 ग्राम (2 छोटा चम्मच)से अधिक नहीं होनी चाहिए।

भोजन लेते समय घी के साथ पहले सख़्त खाद्य सामग्री का सेवन किया जाना चाहिए, फिर नर्म खाद्य पदार्थ और अंत में दही।

आमतौर पर घी की खपत के बाद एक गर्म पेय लेना अच्छा होता है। उदाहरण के लिए, सुबह आधा या एक चम्मच घी एक कप चाय/कॉफी से पहले लिया जा सकता है।

सुबह आधा चम्मच घी नाश्ते में शामिल कर अपने दिन की शुरुआत आप शानदार तरीके से कर सकते हैं।

अपने दाल और चावल में आप एक छोटा चम्मच घी शामिल कर सकते हैं।

चपाती या पराठे पर घी डालकर खा सकते हैं।

लहसुन और कुछ मसालों को तलने के लिए भी घी का इस्तेमाल किया जा सकता है।

मसाले और जड़ी बूटियों को घी में मिलाया जा सकता है और चिकन और मछली पर डाला जा सकता है।

इसे दलिये में मिलाया जा सकता है।

पिघले घी को ताजे पॉपकॉर्न में डाला जा सकता है।

कुछ पश्चिमी जड़ी बूटियों के साथ घी मिलाकर पिटा ब्रेड पर लगाया जा सकता है।

कुछ घी को गर्म सूप में डाला जा सकता है।

घी का उपयोग विभिन्न बेकरी उत्पादों की तैयारी में भी किया जा सकता है।

गाय के घी के नुकसान :–

पीलिया, हेपेटाइटिस, फैटी लीवर परिवर्तन के दौरान घी के इस्तेमाल से बचना सबसे अच्छा होता है।

ज़्यादा घी अपच और दस्त का कारण बन सकता है।

घी वजन बढ़ाता है इसलिए एक मोटापे से ग्रस्त व्यक्ति को प्रतिदिन 3 से 5 ग्राम घी तक का ही सेवन करना चाहिए और उसके बाद एक कप गर्म पानी पीना चाहिए। यदि घी को भोजन के साथ लेना है, तो घी के बेहतर पाचन के लिए भोजन गर्म होना चाहिए।

सर्दी और कफ के दौरान घी का उपयोग करने से हालत और भी खराब हो सकती है।

अमिश्रित घी पित्त की स्थिति में नहीं लिया जाना चाहिए, ख़ासतौर से जब पित्त अमा से जुड़ा हो। इस हालत में लिया गया घी पीलिया उत्पन्न करता है और घातक साबित हो सकता है।

जब गर्भवती महिलाएं ठंड या अपच के साथ पीड़ित हों, तब घी लेने से बचें।

अगर घी खाने के बाद अपच या पेट का भारीपन लगे, तो एक कप गर्म पेय या कम वसा वाली छाछ का सेवन किया जा सकता है।

अधिक घी खाने पर क्या करें :–

अगर आपको लगता है कि आपने अधिक घी खा लिया है, तो तब तक खाना ना खाएं जब तक घी पूरी तरह से पच ना जाए।
हर आधे घंटे में गर्म पानी पिएं।यदि आप भूख महसूस करने लगें, तो गर्म तरल खाद्य पदार्थों को ही खाने की कोशिश करें जैसे वेज सूप।
जब आप पेट और शरीर में हल्कापन महसूस करने लगें, तो आप अपनी आहार दिनचर्या को फिर से शुरू कर सकते हैं।
बिना फैट वाली छाछ घी के गलत उपयोग के बुरे प्रभावों का मुकाबला करने के लिए, एक विशेष उपाय के रूप में बताई जाती है। यह पाचन में सुधार करने में मदद करती है।

यह जानकारी आपको कैसी लगी कृपया कमेंट करके हमें जरुर बताएं। अगर इसके आलावा घी के बारे में आपको कोई और अधिक जानकारी है तो भी हमें जरुर बताए इसके लिए आप पोस्ट के निचे कमेंट जरुर करें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status