Tuesday , 21 November 2017
Home » Women » period » कष्ट दायक मासिक स्त्राव के लिए घरेलु उपचार।

कष्ट दायक मासिक स्त्राव के लिए घरेलु उपचार।

कष्ट दायक मासिक स्त्राव के लिए घरेलु उपचार। Pain Full periods

मासिक धर्म स्त्री में होने वाली एक स्वाभाविक और प्राकृतिक प्रक्रिया है। मगर कई बार ये बहुत ही कष्टदायक हो जाती हैं। आइये जानते हैं इस से बचने के लिए घरेलु उपाय।

1. तारपीन:

कमर तक गुनगुने पानी में बैठे और पेडू (नाभि) पर सेक करने के बाद तारपीन के तेल की मालिश करने से मासिक-धर्म की पीड़ा नष्ट हो जाती है।

2. बबूल:

लगभग 250 ग्राम बबूल की छाल को जौकूट यानी पीसकर 2 लीटर पानी में पकाकर काढ़ा बना लें। जब यह 500 मिलीलीटर की मात्रा में रह जाए तो योनि में पिचकारी देने से मासिक-धर्म जारी हो जाता है और उसकी पीड़ा भी शान्त हो जाती है।

3. कालीमिर्च:

कालीमिर्च एक ग्राम, रीठे का चूर्ण 3 ग्राम दोनों को कूटकर जल के साथ सेवन करने से आर्तव (माहवारी) की पीड़ा (दर्द) नष्ट हो जाती है।

4. अजवायन:

अजवायन, पोदीना, इलायची व सौंफ इन चारों का रस समान मात्रा में लेकर लगभग 50 ग्राम की मात्रा में मासिकस्राव के समय पीने से आर्तव (माहवारी) की पीड़ा नष्ट हो जाती है।

5. रीठा:

मासिकस्राव के बाद वायु का प्रकोप होने से स्त्रियों का मस्तिष्क शून्य हो जाता है। आंखों के आगे अंधकार छा जाता है। दांतों की बत्तीसी भिड़ जाती है। इस समय रीठे को पानी में घिसकर झाग (फेन) बनाकर आंखों में अंजन लगाने से तुरन्त वायु का असर दूर होकर स्त्री स्वस्थ हो जाती है।

6. मूली:

जब मासिक-धर्म खुलकर न आए तब ऐसी दशा में मूली के बीजों का चूर्ण 4-4 ग्राम की मात्रा में सुबह, दोपहर और शाम सेवन करें। यदि मासिक धर्म बंद हो गया हो, कई महीनों से नहीं आया हो तो मूली, सोया, मेथी और गाजर के बीजों को समान मात्रा में लेकर 4-4 ग्राम की मात्रा में खाकर ऊपर से ताजा पानी पीने से बंद मासिक धर्म खुलकर आता है। मासिक धर्म की कमी के कारण यदि मुंहासे निकलते हों तो प्रात:समय पत्तों सहित एक मूली रोजाना खाएं।
मूली रज (मासिक-धर्म) और वीर्य पुष्ट करती है। श्वेत प्रदर के रोग को दूर करने में भी यह सहायक है।

7. अदरक:

मासिक-धर्म के कष्ट में सोंठ और पुराने गुड़ का काढ़ा बनाकर रोगी को पिलाना लाभकारी होता है। ध्यान रहे कि ठण्डे पानी और खट्टी चीजों से परहेज रखें।

8. मेथी:

रजोनिवृति के रोग में मेथी को खाने से लाभ मिलता है।

9. गुड़हल:

6-12 ग्राम गुड़हल के फलों का चूर्ण कांजी के साथ दिन में 2 बार सेवन करने से मासिक-धर्म की परेशानी दूर हो जाती है।

10. केसर:

लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग केसर को दूध में मिलाकर दिन में 2 से 3 बार पीने से मासिक-धर्म के समय दर्द में आराम मिलता है।

मासिक धर्म सम्बन्धी अन्य जानकारियो के लिए यहाँ क्लिक कर के पढ़े। 

11 comments

  1. मासिक धर्म ज्यादा व लगातार पुरे महिने तक आता है व ब्लड़ भी बहुत ज्यादा जाता हो तो ऐसे में क्या करना चाहिए ? कृपया सलाह प्रदान अवश्य करें !

  2. महावरी के समय पेट में दर्द होता है तो ऐसे में क्या करना चाइये|

  3. Respected SIR/MADAM,everything is ok.periods time par aata hain..but periods jab aata hain that time pain bahut jaada hota hain..pain ko kam karna ka liya yah pain bilkul bhi na ho iska liya sabse easy method konsa hain..please tell me sir..

    • bahan ji ye pain ko kam karne ki hi dawa batayi hai.. baaki aap kalaunji wali post padh kar wo bhi use kar sakti hain.. wo bhi bahut best hain.

  4. Mujhko sist/ polifs ki wajah SE bahut pain hota hai periods ke samay. Ek Dr. NE operation bataya pur woh phir SE bhi ho sakta hai, yeah bhi bola. Ek Dr. NE 3 months medicine ki medicine do hai & kaha hai phir check karenge . agar thik nahi hoga to operation karenge. What I can do?

    • aap upar search me pcos ya pcod likh kar search kare… aapko jopost milegi us me likhe huye upchaar kar sakte hai… bahut upyogi hai.

  5. Dear pls suggest me to reduce fat pls

  6. mujhe period time per nhi aata45din kabhi60din bad area has upaya bataye

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
DMCA.com Protection Status