Sunday , 24 September 2017
Home » Women » pregnancy » गौरवर्ण सुंदर और स्वस्थ संतान उत्पत्ति के उपाय

गौरवर्ण सुंदर और स्वस्थ संतान उत्पत्ति के उपाय

गौरवर्ण सुंदर और स्वस्थ संतान उत्पत्ति के उपाय

हर माँ की इच्छा होती हैं कि उसकी संतान गौरी सुन्दर और तंदुरुस्त हो। इसके लिए जैसे ही माँ को पता चले के गर्भ ठहर गया हैं तो ये उपाय करने चाहिए।यहा बताये सभी उपाय हमारे हजारो वर्षो पुराने आयुर्वेद के ग्रंथो का कुछ  भाग हैं ।ये उपाय अपनाकर हमारी पुरानी औरते आराम से गौरवर्ण सुंदर और स्वस्थ संतान जन्म देती थी आप भी जानिए

1. गर्भवती स्त्री को पहले महीने से आठवे महीने तक रोजाना दो संतरे दोपहर को खिलने से बच्चा सुंदर और गौरवर्ण अर्थात गौरा होता है।

2. गर्भधान का पता चलते ही आधा से एक ग्राम असली वंशलोचन का चूर्ण रात्रि सोने से पहले प्रथम तीन-चार महीने दूध के साथ निरंतर लेते रहने से बच्चा गोरा पुष्ट उत्पन्न होता है, माँ स्वस्थ और ताकतवर रहती है और गर्भपात का भी डर नही रहता। सहायक उपचार के रूप में यदि वंशलोचन के सेवन के दिन में जितनी खा सकें, रुचिपूर्वक कच्चे नारियल की गिरी, मिोश्री के संग चब चबाकर खाते रहने से संतान का वर्ण अवश्य गोरा होगा, साथ ही वह सुंदर और हष्ट पुष्ट होगी और गर्भवती स्त्री की कमजोरी दूर होगी।

2. गर्भवस्था में नो माह तक नित्य भोजन के बाद सोंफ चबाते रहने से संतान गौरवर्ण ही होती है।

3. गर्भवती स्त्री को यदि नियमित रूप से ताजा अंगूरों का रस 60 ग्राम की मात्रा में दिन में दो बार देने से गर्भस्थ, दांत का दर्द, मरोड़, सूजन, अफरा और कब्ज आदि भी नही होती है।

4. रोजाना नाश्ते में आंवले का एक मुरब्बा खाते रहने से बच्चा गोरा और स्वस्थ और माँ स्वयं भी स्वस्थ रहेगी।

[Click here to Read. प्रेग्नेंसी के दौरान फोलिक एसिड हैं बहुत महत्वपूर्ण।]

आपको हमारी यह पोस्ट अगर अच्छी लगी हो तो इसे शेयर करके जरूरतमंद लोगो तक जरुर पहुचाएं ।आपने पोस्ट को पूरा पढ़ा इसके लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद। अगर इस पोस्ट से सम्बंधित आपका कोई सवाल है तो कृपया कमेंट करे हमें जरुर बताये ।

 

2 comments

  1. Achhi jankari ha.

  2. Left .right sawas k baare m batao

  3. Sir ye vanslochan kya h? Market me mil jayega?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
DMCA.com Protection Status