Thursday , 23 November 2017
Home » Women » vaginal disease » Vaginal Itching और infection का घरेलु उपचार।

Vaginal Itching और infection का घरेलु उपचार।

Vaginal Itching और infection का घरेलु उपचार।

गुप्तांगों में खुजली या संक्रमण होना स्त्रियों की एक आम समस्या है, इसके कई कारण हो सकते है, मगर अच्छे से सफाई करने से इस रोग से बचा जा सकता है, ऐसी परिस्थिति में आप कुछ घरेलु नुस्खे अपनाकर भी इस समस्या से आराम पा सकते हैं। आइये जाने इस के घरेलु नुस्खे।

1. तुलसी के पत्तों का लेप लगाएं। खुजली ठीक हो जाएगी।

2. केले के गूदे में आंवले का रस और मिश्री मिलाकर खाने से खुजली ठीक हो जाती है।

3. नारियल के तेल में भीमसेनी कपूर मिलाकर लगाने से भी खुजली ठीक हो जाती है।

4. नीम की पत्‍ती, गिलोय, मुलहठी, त्रिफला और शरपुंखा को एक समान मात्रा में लेकर कूट लें। फिर 10 ग्राम चूर्ण को पांच सौ ग्राम पानी में उबालें। जब आधा पानी रह जाए, तो उतार कर छान लें। इस पानी से 2-3 बार नियमित रूप से धोने से खुजली दूर हो जाएगी।

5. अच्छी Quality के Alcohol से धोने से खुजली से आराम मिलता है।

6. 200 ग्राम गेहूं को रात में पानी में भिगो दें। सुबह इसे पीस कर शुद्ध घी में इसका हलवा बनाकर दिन में 2-3 बार खाएं। खुजली में आराम मिलेगा।

7. गुप्त अंग और इसके आस पास हमेशा साफ सफाई रखें।

8. अरंड के तेल को रूई के फाहे में भिगोकर अंदर रखने से संक्रमण में एक सप्ताह में संतोष जनक आराम मिलेगा।

9. एक गिलास छाछ में एक नींबू निचोड़कर सुबह खाली पेट पीने से 4-5  दिन में खुजली दूर हो जाएगी।

10. अगर श्वेतप्रदर के कारण खुजली हो रही है, तो सुबह शाम पांच पांच ग्राम आंवले का चूर्ण चीनी के साथ लेने से आराम मिलता है।

11. गूलर की ताजी पत्तियां पचास ग्राम ले लेकर आधा लीटर पानी में उबालिए, जब पानी आधा रह जाए तो उतार कर छान लीजिए। फिर इसमें डेढ़ ग्राम सुहागा पीस कर मिला लें। इसके बाद गुनगुने पानी को किसी पिचकारी में भरकर अच्छी तरह साफ करें।

12. गूलर के सत्‍व को गर्म पानी में घोलकर डूश करने से गर्भाशय की खुजली में भी आराम मिलता है।

Vaginal infection का घरेलु उपचार

1. मुलैठी को पीसकर उसमें घी मिलाकर लेप बनाएं। इस लेप को अन्दर लगाने से संक्रमण में आराम मिलेगा।

2. ताजी निंबोली (नीम का फल) का रस निकालकर उसे उंगलियों से धीरे धीरे मलें। यदि ताजा निंबोली न मिलें तो सूखी निंबोली का चूर्ण पानी में भिगोकर पानी निचोड़ लें और उसको प्रयोग करें। नीम की पत्तियों का रस और नीम का तेल भी फायदेमंद है।

3. संक्रमण होने पर दूध दही का सेवन भी फायदेमंद होता है। इस रोग में दही का सेवन करें। थोड़ा सा दही योनिमार्ग के आसपास लगाने से भी लाभ होता है।

4. संक्रमण के कारण अगर शुष्कता (सूख) आ गई हो या जलन हो रही हो, तो नारियल का तेल लगाएं। जलन से बहुत राहत मिलेगी।

[Must Read मासिक धर्म – माहवारी (periods) के सभी दोषों को दूर कैसे करें ]

6 comments

  1. sanjay Kumar nishad

    Sir I have purchase a aurveda book you send the book

  2. Please tell me the perfect remedy for cervical spondylytis

  3. Sir mujhe dr ne pid ki problem btayi h jiski why se mere uterus m infection of swelling a gyi h treatment chal rha h par mene Google par isk bare m check kiya to dekha agar ye fir se ho skta h mujhe agar mere husband ka b treatment na hua to qki unki penis par iska virus store rahega jisse mujhe fr se infection ho skta h after vaginal , oral or anal sex ..to plz mere husband k liye koi home remedy btaiye jisse unki penis se wo virus remove ho jaye or mujhe fr se infection na ho

    • never do unsafe sex. use condom… aur husband ko penis par self urine lagane ko kaho. unko bolo jab bhi urine jaaye to wo self urine is par zarur lagaye…

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
DMCA.com Protection Status