Saturday , 21 October 2017
Home » Major Disease » हृदय » क्या आपके हार्ट में ब्लॉकेज है एंजियोप्लास्टी का विचार है तो इसको पढ़ें और फिर विचार करें.

क्या आपके हार्ट में ब्लॉकेज है एंजियोप्लास्टी का विचार है तो इसको पढ़ें और फिर विचार करें.

Heart Attack kyo aata hai? heart attack se kaise bache, heart attack ka ilaj, Stroke se kaise bache, stroke ka ilaj,

हमारा इस पोस्ट को करने का मुख्यः उद्देश्य हार्ट अटैक और स्ट्रोक का मूल कारण और उसका निवारण बताना है.

एक डॉक्टर जिसको एक नहीं दो दो बार नोबेल पुरस्कार मिला वो भी उनकी ऐसी खोज के लिए जिसको लोगों ने सिरे से नकार दिया और pharma कंपनियों ने उनका Carrier ख़त्म करने के लिए जी जान लगा दी, मगर अंत में जीत इनकी ही हुयी और लोगों को उनकी खोज के आगे नतमस्तक होना पड़ा. मगर ये आज भी दुर्भाग्य है के लोग और डॉक्टर उनकी इस बात को फॉलो नहीं करते. अगर वो उनको फॉलो कर लें तो कभी भी किसी को हार्ट अटैक और स्ट्रोक जैसी कोई समस्या नहीं होगी. इनका नाम था डॉक्टर Linus Pauling. जिनका कहना था के : –

“Nearly all Disease can be traced to a nutritional deficiency”

आज उनके बारे में Only Ayurved में बता रहें हैं श्री बलबीर सिंह जी शेखावत Pharmacist – Sikar Rajasthan. आपको ये जानकारी अच्छी लगे तो शेयर ज़रूर कीजियेगा. और हाँ अपने डॉक्टर से भी इस पर विचार करवाइए.

डॉक्टर Linus Pauling जिनका स्वपन था “A world Without Heart Disease” उन्होंने स्टडी की के vitamin सी और Lysine जो के एक एमिनो एसिड है ये ना सिर्फ हार्ट अटैक और स्ट्रोक को रोकता है बल्कि जो धमनियों में थक्के जम गए हैं, उनको भी पुनः सही करता है. इसको Pauling Therapy भी कहा जाता है. इस थेरेपी के जनक Dr. Pauling और उनके एसोसिएट्स Dr. Matthias Rath हैं. इस थेरेपी में मुख्यः बात ये है के रोगी को बिना दवा के vitamin सी की हाई डोज़ और इसके साथ में Lysine दिया जाता है. ऐसे में रोगी को हार्ट अटैक और स्ट्रोक आने का खतरा नहीं रहता और अगर arteries में थक्के जम गए हैं तो वो भी सही हो जाते हैं. Www.OnlyAyurved.com

हमारी रक्त वाहिनियों की Flexibility को बनाये रखने के लिए Collagen की बहुत आवश्यकता होती है और vitamin C कोलेजन बनाने के लिए बहुत ही उपयोगी है.collagen एक प्रकार का गोंद है जो रक्त वाहिनियो की कोशिकाओ को आपस में जोड़ कर रखते है जैसे किसी छत में सीमेंट बाकी चीजों को जोड़ कर रखता है और lysine एक प्रकार की स्टील रोड है जो कंक्रीट में लगाये जाती है जो की collagen को मजबूत बनाते है. जब हमारी रक्त वाहिनियों में Collagen कम हो जाता है, जिस से वो कमज़ोर और क्षतिग्रस्त हो जाती है तो उनमे लीकिंग शुरू हो जाती है. जिससे क्लॉट बनने का खतरे होता है तो उस समय कोलेस्ट्रॉल (LDL) वहां पर आकर Collagen की जगह जमा होना शुरू हो जाता है और वहां पर covering बना लेता है. इसे Atherosclerosis plaque कहते है. उस समय अगर हमारे शरीर को अत्यधिक मात्रा में Vitamin C की डोज़ मिल जाए तो हमारे शरीर में Collagen की कमी नहीं आएगी. तो वहां पर कोलेस्ट्रॉल जमा नहीं होगा. Www.OnlyAyurved.com

[कोलेस्ट्रॉल की साज़िश को आप समझिये – यहाँ क्लिक कर के]

Lysine की अधिक मात्रा लेने पर जो रक्त वाहिनियों के लीकिंग होने पर कोलेस्ट्रॉल जम गया था वो इस Amino Acid से हटना शुरू हो जायेगा क्यूंकि Lysine लिपो प्रोटीन (LDL cholesterol) की Binding को रोकता है. Cholesterol मुख्यतः उसी जगह पर जाकर इकट्ठे होते हैं जहाँ पर रक्त वाहिनियों को Lysine नहीं मिल पाता. क्यूंकि कोलेस्ट्रॉल Lysine Binding Site पर जाकर जुड़ता है. उस कोलेस्ट्रॉल को जमा होने की प्रक्रिया को मॉडर्न साइंस में Atherosclerosis कहते है यदि उचित मात्रा मे lysine का सेवन किया जाये तो atherosclerosis की प्रक्रिया वापस नार्मल किया जा सकता है. Lysine हमारी रोजाना दिनचर्या में बहुत आसानी से मिल जाता है. वस्तुत सभी प्रकार के अनाज में ये मिल जाता है. Www.OnlyAyurved.com

Is Cholesterol Harmful or Harmful

डॉक्टर्स अभी तक कोलेस्ट्रॉल को ही Heart Disease का एक बड़ा कारण मानते आये हैं, जबकि कोलेस्ट्रॉल Vitamin C की कमी होने पर जो Collagen नहीं बन पाता, उसकी वजह से Blood Vessels Leaking होना शुरू हो जाती हैं, उस लीकिंग को रोकने के लिए अपनी body एक प्रक्रिया का इस्तेमाल करती है जिसमे कोलेस्ट्रॉल वहां पर जाकर उस लीकिंग को रोकता है, अगर ये लीकिंग नहीं रुकेगी तो आदमी हार्ट अटैक और स्ट्रोक आने से पहले ही मर जायेगा. इसलिए ये हमारे शरीर के द्वारा की जाने वाली Life Saving Process है और इसको ही Heart Disese का मुख्य कारण माना गया है.  Www.OnlyAyurved.com

 

फार्मा कंपनियों ने उनकी इतनी बड़ी शोध होने के बावजूद कभी इस को प्रैक्टिस में नहीं आने दिया, यहाँ तक के आज तक भी डॉक्टर सिर्फ कोलेस्ट्रॉल को ही इसका जिम्मेवार समझ कर इसी का उपचार करते आ रहें हैं. इसका मूल कारण है उस पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा, मरीज सिर्फ बड़े बड़े अस्पतालों के लिए सिर्फ और सिर्फ ग्राहक हैं और डॉक्टरों को अधिकतर से अधिकतर अपना टारगेट पूरा करना होता है, ये प्राइवेट हॉस्पिटल की सच्चाई है. इसको कोई नकार नहीं सकता. Www.OnlyAyurved.com

vitamin c और lysine दोनों हमारे body में नहीं बनते है इनको हमें डाइट में लेना ही पड़ेगा वो भी अत्यधिक मात्रा में जिन लोगो में कोरोनरी artery के ब्लॉकेज है उनको लगभग 3000 से 6000 mg daily dose लेनी होगी

vitamin c के स्त्रोत

Lysine के स्त्रोत

संतरा सभी अनाज
मौसमी सभी दालें
नारंगी बथुआ का साग
निम्बू कुसुम का साग
आंवला (आंवला किसी भी सूरत में लें.) चुकंदर
चौलाई गाजर
रामदाना प्याज
पत्तागोभी मूली
हरी अजवायन के डंठल लौकी के पत्ते.
अजमोद गाजर के पत्ते
मूली के पत्ते सहजन के पत्ते
पत्तेदार सब्जियां सेब
सहजन की फली आम
शिमला मिर्च पपीता
अमरुद, दूध
पपीता पनीर
आड़ू दही

References :- http://www.timescolonist.com/life/health/the-doctor-game-vitamin-c-lysine-can-help-curb-heart-attacks-1.322233

http://www.paulingtherapy.com

https://www.google.co.in/amp/s/thedailyhealth.co.uk/linus-pauling-vitamin-c-lysine-heart-disease-prevention/amp/

[ये भी ज़रूर पढ़ें – कभी नहीं होगा हार्ट अटैक अगर सिर्फ एक ये प्रयोग कर लें.]

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
DMCA.com Protection Status