Tuesday , 21 August 2018
Home » Major Disease » Kidney » बड़ी से बड़ी पथरी का इलाज पहला पाषाणभिन्न रस दूसरा पाषाणवज्र रस और तीसरा वरना की छाल

बड़ी से बड़ी पथरी का इलाज पहला पाषाणभिन्न रस दूसरा पाषाणवज्र रस और तीसरा वरना की छाल

पथरी होने के कारण व प्रकार

पथरी चार प्रकार की होती है एवं इसी आधार पर इस का इलाज किया जाता है बिना इस का प्रकार जाने इसे निकलना मुश्किल है

1 वात से होने वाली पथरी  2. पित्त से होने वाली पथरी 3. कफ से होने वाली पथरी 4. शुक्र धातु अर्थात वीर्य से होने वाली पथरी

वीर्य से हुई पठेई को छोड़कर शेष तीनो पथरी प्राय: कफ के आश्रय से होती है और वीर्य से हुई पथरी में केवल वीर्य ही कारण होता है .

पथरी चाहे किसी भी कारण  से हुई हो समय पर इलाज नहीं किया जाय तो मृत्यु का कारण भी बन सकती है

pathri ka ayurvedic ilaj , pathri ka ilaj, pathri ka gharelu ilaj, kidney stone, stone ka ilaj, kidney stone ka ilaj, पथरी, पथरी का इलाज, गुर्दे के पथरी, गुर्देके पथरी का इलाज, आयुर्वेद, आयुर्वेदिक नुस्खे, घरेलु नुस्खे, पथरी निकालने के घरेलु नुस्खे, home remedies, home remedies for kidney stone,

सभी प्रकार की पथरी का रामबाण इलाज पाषाणभिन्न रस

शुद्ध पारा 12 ग्राम , शुद्ध गंधक 24 ग्राम और शुद्ध शिलाजीत 12 ग्राम इन सब को मिला कर एक दिन श्वेत पुनर्नवा के रस में फिर एक दिन अदुसे के रस में फिर एक दिन सफ़ेद अपराजिता के रस में खरल करो जब यह सुख जाये एक छोटी हांड़ी या कुल्लड  में रख कर उस का मुह बंद कर दो. फिर एक बड़ी हांड़ी के बीच में इस छोटी हांड़ी या कुल्लड को लटका दो और अब बड़ी हांड़ी के नीचे आग जला  कर उस पे रख दो कुछ देर बाद छोटी हांड़ी या कुल्लड में से दवा को निकाल लो फिर उसे इ आवला के  फल के रस , इन्द्रवारुणी की जड़ के काढ़े और दूध के साथ तीन तीन घंटे  तक खरल कर के दो दो रत्ती यानी दो चावल के दाने के बराबर की गोलियां बना लो फिर एक एक गोली दूध या कुल्थी के काढ़े के  साथ खाने पर पथरी गल के निकल जाती है .

[ ये भी पढ़िए सफ़ेद दाग का इलाज Safed daag ka ilaj ]

pathri ka ayurvedic ilaj , pathri ka ilaj, pathri ka gharelu ilaj, kidney stone, stone ka ilaj, kidney stone ka ilaj, पथरी, पथरी का इलाज, गुर्दे के पथरी, गुर्देके पथरी का इलाज, आयुर्वेद, आयुर्वेदिक नुस्खे, घरेलु नुस्खे, पथरी निकालने के घरेलु नुस्खे, home remedies, home remedies for kidney stone,

दूसरा कारगर इलाज पाषाणवज्र रस

शुद्ध पारा 4 तोले और शुद्ध गंधक 8 तोले दोनों को मिला कर एक दिन सफ़ेद पुनर्नवा के रस के खरल करो और एक हांड़ी में रख कर उस के ऊपर दूसरी हांड़ी औंधी यानी उलटी कर के रख दो इस के बाद दोनों हांडियों को संध बंद कर के कपड मिट्टी कर दो ( अच्छी तरह से दोनों को बंद कर के मिट्टी और कपडे से एयर टाइट कर दो )  फिर एक गड्ढा कर के उस में हांड़ी को रख दो और उस गड्ढे में जंगली काँटों से आग लगा दीजिये . आज शीतल होने पर हांड़ी में से दवा निकाल लो और गुड के साथ अच्छे से खरल कर के दो दो रत्ती की गोलियां बना लो और एक एक गोली सुबह शाम कुल्थी के काढ़े या इन्द्रायण के जड़ के काढ़े के साथ खाने से पथरी और वस्तिशुल नष्ट हो जाते है .

Kidney stone ka ilaj – किडनी में पथरी, पेशाब में जलन, और बूँद बूँद पेशाब का इलाज

अन्य घरेलु नुस्खे

  • पीसी हुई हल्दी को गुड के साथ मिलाकर तुषोदक के साथ लेने पिने से बहुत पुराणी शर्करा पथरी नष्ट हो जाती है
  • पेठे के रस में जवाखार और गुड मिला कर पिने से मूत्र की रूकावट शर्करा और पथरी रोगों में आराम होता है
  • सौठ, वरना, गोखरू, पाषाणभेद और ब्राह्मी इन के काढ़े में दो मासे जवाखार और दो मासे गुड मिला कर पीने से सब तरह की पथरी में आराम होता है
  • कटेरी का स्वरस शहद में मिला कर पीने से पथरी और भयंकर मूत्रकृच्छ आराम हो जाते है
  • डेढ़ तोले वरना की छाल के काढ़े में दो तोले गुड मिला कर पीने से पथरी और वस्ति-शूल-पेडू का दर्द नष्ट हो जाता है और बड़ी से बड़ी पथरी ११ दिन में गल जाती है   

[ ये भी पढ़िए कैंसर का इलाज Cancer ka ilaj ]

pathri ka ayurvedic ilaj , pathri ka ilaj, pathri ka gharelu ilaj, kidney stone, stone ka ilaj, kidney stone ka ilaj, पथरी, पथरी का इलाज, गुर्दे के पथरी, गुर्देके पथरी का इलाज, आयुर्वेद, आयुर्वेदिक नुस्खे, घरेलु नुस्खे, पथरी निकालने के घरेलु नुस्खे, home remedies, home remedies for kidney stone,

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status