Wednesday , 23 August 2017
Home » Major Disease » paralysis » पक्षाघात के लिए रामबाण हैं प्राणायाम और एक्यूप्रेशर।

पक्षाघात के लिए रामबाण हैं प्राणायाम और एक्यूप्रेशर।

ACUPRESSURE AND YOGA FOR PARALYSIS

पक्षाघात रोगी के लिए प्राणायाम और एक्यू प्रेशर चिकित्सा बहुत कारगर हैं। दवाओ के साथ इनको भी ज़रूर ज़रूर करे। इस से रोगी के जल्दी ही स्वस्थ होने की संभावना बहुत बढ़ जाती हैं। जितनी जल्दी रोगी को प्राणायाम और एक्यू प्रेशर शुरू करवा दे उतना ही जल्दी वो रिकवर होगा। आइये जानते हैं इसके बारे में।

पक्षाघात रोगी के लिए प्राणायाम हैं रामबाण।

अगर आपको एक तरफ से पैरालिसिस हुआ हैं तो इसके लिए अनुलोम विलोम प्राणायाम रामबाण हैं।
जिस तरफ से हाथ काम कर रहा हैं। उस हाथ से हर रोज़ कम से कम 1 घंटे से ले कर २ घंटे तक अनुलोम विलोम करे। इस से आपको रिजल्ट बहुत जल्दी मिलेंगे। आप एक से तीन महीने में सही हो सकते हैं।

एक्यू प्रेशर पद्धती भी बहुत कारगार हैं।

पक्षाघात का शरीर में आक्रमण होने पर स्नायु संस्थान पर हमें पाँव की दूसरी अंगुली, हाथ की अंगुली और एड़ी के सामांतर जाती अंगूठे तक की मनके रुपी माला के मनको को हाथ के अंगूठे से दबाव देना चाहिए। दबाव का समय पांच मिनट तक होना चाहिए। जिगर, आमाशय, अंतड़ियों, फेफड़ो, हृदय, गुर्दो पर प्रेशर अवश्य दे। इन दबाव केन्द्रो पर प्रेशर देने से पक्षाघात का प्रकोप दूर किया जा सकता हैं। इसके लिए आप एक बार किसी योग्य प्रशिक्षक की सलाह ज़रूर ले।
अटैक के बाद जितना जल्दी एक्यू प्रेशर से इलाज किया जाए उतना जल्दी आराम आता हैं। अगर रोग पुराना हैं तो ६ महीने तक समय भी लग सकता हैं। मगर धैर्य रख कर ये प्रयोग करना चाहिए।

पक्षाघात के लिए आयुर्वेदिक दवा और घरेलु नुस्खों के लिए जो के बहुत उपयोगी है ।

 

3 comments

  1. Paralysis , Brain Hemorrhage & Heart Patient

  2. Sir,
    My father is effected from paralysis since 19 years, his right hand is more effected. he cann’t hand up and feast is not open properly and also left feet. He is unable to speak clearly.

    Please suggest me, what should i do for him? Please share your contact no. if any.

    Regards,
    Akhilesh Sharma
    Mob. 9650414801

  3. Mer papa Kong paralysis ek tariff see he plies ilaaz batae

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
DMCA.com Protection Status