Saturday , 24 June 2017
Home » मसाले » सौंफ खाने से साफ होता है गला, दमकती है स्किन, दूर भागती है एसिडिटी..!!

सौंफ खाने से साफ होता है गला, दमकती है स्किन, दूर भागती है एसिडिटी..!!

लाजवाब औषधि सौंफ को मसालों का राजा कहा जाता है। सौंफ के औषधीय गुणों को हर कोई जानता है। इसमें अनेक चमत्कारी औषिधीय गुण मौजूद होते हैं जो कि स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाभकारी होते है। सोंफ के रस से कई प्रकार के एन्जाईम भी बनाये जाते हैं। भोजन के बाद माउथ फ्रैशनर के तौर पर भी इसका प्रयोग किया जाता हैं।
सुगंधित और खाने में स्वादिष्ट होने के साथ-साथ सौंफ के कई फायदे भी हैं। इसके लगातार सेवन से आंखों की रोशनी भी बढ़ती है। ऐसा माना जाता है कि खाने के बाद चीनी के साथ थोड़ी सी सौंफ खा लेने से खाना अच्छी तरह डाइजेस्ट हो जाता है। दिमागी बीमारियों के लिए सौंफ काफी फायदेमंद मानी जाती है। आइए आपको बताते हैं कि किचन में मौजूद सौंफ के कितने फायदे हैं।

1. पेट के लिए लाभकारी-

सौंफ  (Saunf) के रोजाना इस्तेमाल से पेट में कब्ज की समस्या नहीं होती है। इसके लिए सौंफ को मिश्री के साथ पीसकर चूर्ण बना लें और लगभग 5 ग्राम चूर्ण को सोते समय गुनगुने पानी के साथ लें। इससे कब्ज और गैस की समस्या के साथ पेट की अन्य समस्याओं से भी निजात मिलती है। पेट सही रहने पर आप तमाम बीमारियों से दूर रहते हैं।

2. आँखों के लिए फायदेमंद-

सौंफ  (Saunf) का सेवन आँखों की रोशनी को बढ़ाता है। रोजाना खाना खाने के बाद एक चम्मच सौंफ खाएं या फिर आधा चम्मच सौंफ का चूर्ण मिश्री में मिलाकर रात को सोते समय दूध के साथ लें। दूध की जगह पानी का भी इस्तेमाल भी किया जा सकता है। इससे आँखों को काफी लाभ मिलता है।

3. खांसी को करे छूमंतर-

10 gm सौंफ (Fennel) के अर्क को शहद में मिलाकर दिन में 2 से 3 बार सेवन करने से खांसी दूर हो जाती है। अन्य उपाय में, एक चम्मच सौंफ और 2 चम्मच अजवाइन को आधा लीटर पानी में उबाल लें फिर इसमें 2 चम्मच शहद मिलाकर छान लें। इस काढ़े की 3 चम्मच को 1-1 घंटे के अंतराल पर पीने से खांसी में लाभ मिलता है। सौंफ को मुँह में रखकर चबाने से सूखी खांसी शांत होती है।

4. सौंफ बढ़ाए त्वचा में ग्लो-

स्वास्थ्य में लाभकारी होने के साथ साथ सौंफ सौंदर्य को भी बढ़ाती है। रोजाना सुबह शाम सौंफ खाने से खून साफ़ होता है जो कि त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद है। इसके नियमित सेवन से त्वचा में चमक भी आती है।

5. लूज़ मोशन

यदि आपको लूज़ मोशन हो रहे हों तब भी सौंफ आपके बहुत काम आ सकती है। सौंफ को पीसकर उसमे बूरा (पिसी चीनी) मिलाकार पानी के साथ फांक लें। लूज़ मोशन में आराम मिलेगा।

6. मुंह के छाले-

अगर आपके मुंह में छाले पड़ गए हैं तो सौंफ फायदेमंद साबित होगी। इसके लिए एक गिलास पानी में 40 ग्राम सौंफ डालें। इसके बाद पानी को तब तक उबाले जब तक आधी गिलास न हो जाए। इसमें जरा सी भुनी फिटकरी मिलाकर दिन में दो बार गरारे करने से लाभ होगा।

सौंफ के कुछ अन्य लाभ –

* सौंफ चबाने से बैठा हुआ गला भी साफ हो जाता है। रोजाना सुबह-शाम खाली सौंफ खाने से खून साफ होता है जो कि त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद होता है, इससे त्वचा दमकती है। वैसे तो सौंफ का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। इससे कई प्रकार के छोटे-मोटे रोगों से निजात मिलती है।

 

[जानिये, लोग भोजन के बाद क्‍यों खाते हैं सौंफ, पान और इलायची…]

* बच्चों को पेट की समस्या होने पर दो चम्मच सौंफ का चूर्ण दो कप पानी में अच्छी तरह उबाल लेना चाहिए। इसके बाद एक चौथाई पानी शेष रहने पर छानकर ठंडा कर लें। इसे एक-एक चम्मच की मात्रा में दिन में तीन-चार बार पिलाने से पेट का, अपच, उलटी (दूध फेंकना), मरोड़ जैसी शिकायतें दूर हो जाती हैं।
* सौंफ की ठंडाई बनाकर पीने से गर्मी शांत होती है। हाथ-पाव में जलन होने की शिकायत होने पर सौंफ के साथ बराबर मात्रा में धनिया कूटकर उसमें मिश्री मिलाकर खाना खाने के बाद 5 से 6 ग्राम मात्रा में लेने से कुछ ही दिनों में आराम मिल जाता है।
* सौंफ, धनिया और मिश्री का समभाग चूर्ण 6 ग्राम की मात्रा में भोजन के बाद लेने से हाथ-पांव, एसिडिटी और सिरदर्द में आराम मिलता है। इसके अलावा सौंफ और मिश्री को बराबर मात्रा में मिलाकर इसका चूर्ण बना लें। खाना खाने के बाद दो चम्मच दो महीने तक ये चूर्ण लेने से मस्तिष्क की कमजोरी दूर होती है।
 * उलटी, प्यास, जी मिचलाना, पित्त-विकार, जलन, पेटदर्द, पेचिश, मरोड़ जैसी बीमारियों में सौंफ काफी फायदा करती है। इनमें से कोई सी समस्या होने पर थोड़ी सी सौंफ खा लेनी चाहिए। अगर गले में खराश हो गई है तो सौंफ चबाना फायदेमंद होता है।
* बादाम, सौंफ और मिश्री तीनों बराबर भागों में लेकर पीसकर भर दें और रोज दोनों टाइम खाने के बाद एक चम्मच लेने से स्मरणशक्ति बढ़ती है। वहीं, 5-6 ग्राम सौंफ लेने से लीवर ठीक रहता है और आंखों की रोशनी बढ़ती है।
* आधी कच्ची सौंफ का चूर्ण और आधी भुनी सौंफ के चूर्ण में हींग और काला नमक मिलाकर 2 से 6 ग्राम मात्रा में दिन में तीन-चार बार इस्तेमाल कराएं। इससे गैस और अपच की समस्या दूर हो जाती है।
* भूनी हुई सौंफ और मिश्री समान मात्रा में पीसकर हर दो घंटे बाद ठंडे पानी के साथ फांकने से दस्त और पेचिश में आराम मिलता है। सौंफ कब्ज को दूर करती है।

 

No comments

  1. Right information

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status