Monday , 23 October 2017
Home » Health » ulcer » acidity » गर्मी से निजात दिलाए पुदीना और भी है बहुत से फायदे onlyayurved

गर्मी से निजात दिलाए पुदीना और भी है बहुत से फायदे onlyayurved

गर्मी से  निजात दिलाएगा पुदीना और भी है बहुत से फायदे health benefits of mint

 

दोस्तों आम तौर पर पुदीने के फायदे सभी यह जानते हैं कि पुदीने से चटनी बनाई जाती है, या यह जलजीरा बनाने में इस्तेमाल होता है। लेकिन यहां हम आपको बता दें के पुदीने में कई तरह के औषधीय गुण होते हैं, और इनसे बड़ी-बड़ी तकलीफों का इलाज होता है। इसका अंग्रेजी नाम Mint तथा वनस्पतिक नाम मेंथा है।यह चूइंग-गम, कैंडी, टूथपेस्ट और माउथवॉश में स्वाद लाने के लिए अति लोकप्रिय है। परंतु क्या आप जानते हैं, स्वाद लाने के साथ-साथ यह आपके सेहत में भी सुधार लाता है। पुदीना मुख्य आहार तो नहीं है लेकिन इसकी मौजूदगी से खाने का स्वाद बढ़ जाता है। पुदीना ग्रीष्मऋतु में अत्यंत स्वास्थ्यप्रद घरेलू औषधि के रूप में उपयोगी है। पुदीना हमारे देश के घर घर में उपयोगी होने के कारण बाग बगीचों में, क्यारियों में लगाया जाता है।आइए इस लेख में हम आपको पुदीने के गुणों और इसके औषधीय प्रयोगों के बारे में बताते हैं।

पुदीने के औषधीय गुण और इससे होने वाले फायदे

मुंह में बदबू आने पर पुदीने का सेवन करना चाहिए। अजीर्ण होने पर पुदीने का रस पानी में मिलाकर पीने से फायदा होता है।

पेटदर्द होने पर पुदीने को जीरा, हींग, काली मिर्च में नमक मिलाकर पीने से पेट का दर्द समाप्त हो जाता है।अगर आपको पेट संबंधी और अन्य बीमारियां हैं तो पुदीने की पत्तियों को ताजा नींबू का रस और इस के बराबर मात्रा में शहद के साथ मिलाकर लेने से पेट की लगभग सभी बीमारियों में जल्दी आराम मिल जाता है।

महिला को प्रसव के समय पुदीने का रस पीना चाहिए, इससे आसानी से प्रसव हो जाता है।

महावारी सही और समय पर ना आने पर आप पुदीने की सूखी पत्तियों को चूर्ण बना लें और इस चूर्ण को दिन में दो बार शहद के साथ मिलाकर नियमित रुप से कुछ दिल देने से महावारी सही से आती है और समय पर आना शुरू हो जाती है।

बुखार होने पर पुदीना पीना चाहिए, इससे बुखार में फायदा होता है। बुखार में पुदीने को पानी में उबालकर थोड़ी चीनी मिलाकर उसे गर्म-गर्म चाय की तरह पीना चाहिए।

हिचकी आने पर पुदीना का प्रयोग करना चाहिए, इससे हिचकी आना बंद हो जाता है।

ताजा-हरा पुदीना पीसकर चेहरे पर बीस मिनट तक लगा लें। फिर ठंडे पानी से चेहरा धो लें। इससे त्वचा की गर्मी समाप्त होती है।

पुदीने में फाइबर मौजूद रहते हैं और इसमें मौजूद फाइबर आपके कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करने में मदद करता है, और इसमें मौजूद मैग्नीशियम आपकी हड्डियों को ताकत देता है और इन्हें मजबूत बनाता है।

बढे व्यक्ति को उल्टी होने पर 2 चम्मच पुदीना हर 2 घंटे में उस रोगी को पिलाएं इससे जी मचलना या उलटी जैसी बीमारी में बहुत जल्दी आराम मिल जाता है।

सर्दी जुकाम या पुराना नजला हो इसके लिए आप थोड़ा पुदीने का रस लें और इसमें काली मिर्च और थोड़ा सा काला नमक मिला लें और जिस तरह हम लोग चाय बनाते हैं ठीक वैसे ही इस को चाय की तरह उबालकर पीने से सर्दी जुकाम और खांसी व बुखार में बहुत जल्द राहत मिल जाती है।

अगर किसी को चोट लग जाए या फिर खरोंच आ जाए तो उस स्थान पर कुछ पुदीने की ताजा पत्तियां लेकर उन्हें पीसकर लगाने से घाव जल्दी भर जाता है।

अगर आपको किसी भी तरह की दाद, खाज, खुजली है या और अन्य प्रकार का कोई और चर्म रोग है तो आप ताजा पुदीने की पत्तियों को लेकर अच्छी तरह पीस लें और इस लेप को अपनी प्रभावित त्वचा में लगाएं इससे बहुत जल्दी आराम मिलता है।

अगर आपके मुंह से बदबू आती है तो इसके लिए आप बाजार से पुदीना की पत्तियां ले आएं और इसको छांव में अच्छी तरह से सुखा लें। इसके बाद इन सूखी पत्तियों का अच्छी तरह से चूर्ण बना लें।आप इससे मंजन की तरह इस्तेमाल करें ऐसा करने से आपके मसूड़े स्वस्थ होंगे और आपके मुंह से दुर्गंध आना बिल्कुल बंद हो जाएगी। इस प्रयोग को आप कम से कम 2 सप्ताह या ज्यादा से ज्यादा 1 महीने तक कर सकते हैं।

गले के रोगों में पुदीने के रस को नमक के पानी के साथ मिलाकर कुल्ला करने से आप की आवाज भी साफ होती है। यदि गले में भारीपन या गला बैठने की शिकायत हो तो वह भी इससे दूर हो जाती है।

गर्मी की वजह से घबराहट होने पर या जी मिचलाने पर एक चम्मच सूखे पुदीने की पत्तियां और आधा छोटा चम्मच इलायची का चूर्ण एक गिलास पानी में उबालकर, ठंडा होने के बाद पीने से बहुत जल्दी आराम मिलता है।अगर हैजा होने की शिकायत है तो प्याज का रस और नींबू का रस पुदीना के साथ बराबर मात्रा में मिलाकर पीने से बहुत जल्द आराम मिल जाता है।

अगर आपकी त्वचा तैलीय है तो आपके लिए पुदीने से बना हुआ फेशियल काफी अच्छा रहेगा। इसके लिए आप दो बड़े चम्मच अच्छी तरह से पिसी हुई पुदीने की पत्तियां, दो चम्मच दही और एक बड़ा चम्मच ओटमील इन सबको मिलाकर एक घोल बना लें। अब इस लेप को अपने चेहरे पर 15 मिनट तक लगा रहने दें। इसके बाद इसे आपके चेहरे को ठंडे पानी से धो लें। सप्ताह में कम से कम दो बार यह प्रयोग करने से आपकी तैलीय त्वचा सही हो जाती है और साथ ही आपके चेहरे से कील मुंहासे और झाइयां दूर होती हैं।

पुदीने के रस को मुल्तानी मिट्टी के साथ मिलाकर अपने चेहरे पर लेप करने से आपकी ऑयली त्वचा सही हो जाती है और चेहरे से झुर्रियां कम हो जाती है। इसके अलावा इसको लगाने से आपके चेहरे की चमक बढ़ जाती हैं।

अगर आप शराब में पुदीने की पत्तियों को पीसकर में चेहरे पर लगाएंगे तो इससे दाग धब्बे और झाइयां भी बिल्कुल साफ हो जाती हैं।

दोस्तों ये थे  “पुदीने के फायदे”  यह पोस्ट कैसी लगी कृपया कमेंट करके हमें जरूर बताएं। साथ ही अपने दोस्तों के बीच अपनी Facebook प्रोफाइल पर इसको जरुर शेयर करें।

आपको जानकार ख़ुशी होगी कि हमारे द्वारा बताई गयी सभी जानकारियाँ अब आप अपने मोबाइल पर जब जाहे फ्री में पढ़ सकते है। इसके लिए आप  ” यहाँ क्लिक “  करके  हमारी मोबाइल app डाउनलोड  कर सकते हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
DMCA.com Protection Status