Saturday , 16 December 2017
Home » सब्जिया » प्याज » प्याज के गुण ऐसे हैं के इसको स्त्री मर्द के रोगों से लेकर कैंसर जैसे रोगों में सफलता से इस्तेमाल किया जाता है

प्याज के गुण ऐसे हैं के इसको स्त्री मर्द के रोगों से लेकर कैंसर जैसे रोगों में सफलता से इस्तेमाल किया जाता है

प्याज के गुण और औषधीय प्रयोग

प्याज एक अति गुणकारी सब्जी हैं, ये सब्जी कम हैं औषिधि ज़्यादा हैं।  प्याज नाड़ी संस्थान, शारीरिक, मानसिक, कामशक्ति को ताक़त देता हैं। प्याज और घी का संयोग गुणकारी हैं। प्याज कई गंभीर बीमारियों के लिए ये रामबाण है।

प्याज की सब्जी घी से छौंक कर बनाने से अधिक पौष्टिक और स्वादिष्ट हो जाती हैं। प्याज का रस और घी मिलाकर पीने से ताक़त बढ़ती हैं। कच्चे प्याज के टुकड़ो पर नीम्बू निचोड़ कर खाने से भोजन जल्दी पच जाता हैं। प्याज और शहद दोनों मिलकर गर्म प्रकृति के बन जाते हैं। अत: गर्भवती स्त्रियों को दोनों को मिलाकर सेवन नहीं करना चाहिए। वो केवल प्याज ही खाए।

प्रति 100 ग्राम प्याज में पाए जाने वाले पोषक तत्त्व –

प्रोटीन 1.2 ग्राम कार्बोहाइड्रेट 11.1 विटामिन 15 मि.ग्रा.

वसा 0.1 ग्राम कैल्शियम 46.9 मिग्रा. विटामिन 11मिग्रा.

खनिज 0.4 ग्राम फॉस्फोरस 50 मि.ग्रा. कैलोरी 50 मि.कै.

फाइबर 0.6 ग्राम लौह 0.7 मि.ग्रा. पानी 86.6 ग्राम

अगर प्याज पचे नहीं तो।

प्याज लाभदायक होते हुए भी किसी किसी को इससे हानि प्रतीत होती हैं। गैस बन जाती हैं। भोजन करने के बाद पेट दर्द होता हैं। भोजन करने से पहले पाकाशय में धंसते जाने की अनुभूति होती हैं, प्यास लगती हैं। प्याज खा नहीं सकते। इस तरह दुष्प्रभावो को होम्योपैथिक दवा थूजा (THOOJA) 200 की तीन खुराक रोज़ाना दो दिन देने से लाभ हो जाता हैं। वह प्याज खा सकता हैं, पचा सकता हैं।
आपको ये जानकार आश्चर्य होगा के एक प्याज में दो अन्डो जितनी ताक़त होती हैं।

आइये जाने प्याज के अन्य गुण।

सौंदर्यवर्धक।

नित्य प्याज खाने से रूखी सूखी त्वचा कोमल और चिकनी हो जाती हैं। रक्त साफ़ होता हैं, त्वचा के सारे विकार नष्ट हो जाते हैं। प्याज सौंदर्य बढ़ाता हैं। स्त्रियों को शरीर में तो प्याज ऐसा परिवर्तन लाता हैं के शरीर में ललाई, गोरापन, अंग अंग में भराव लाकर शरीर को सुडौल बना देता हैं। युवक युवतियां पांच चम्मच प्याज का रस और दस चम्मच शहद नित्य चाटें। चेहरा चमक उठेगा।

काले धब्बे।

शरीर में कहीं भी काले धब्बे हो, धब्बे बढ़ते ही जा रहे हो तो नित्य प्याज का रस लगाते रहे। कालापन समाप्त हो जायेगा।

स्मरण शक्तिवर्धक।

जिनकी याददाश्त कमज़ोर हो वो प्याज और अदरक का रस और घी प्रत्येक 1-1 चम्मच मिलकर नित्य दो बार कुछ सप्ताह पियें। इससे स्मरण शक्ति बढ़ जाएगी।

मासिक धर्म की समस्या

3 चम्मच प्याज का रस और एक चम्मच शहद मिलाकर लेने से मासिक धर्म की अनियमितता व उस दौरान होने वाले दर्द से राहत मिलती है।

पेट के रोग।

पेट दर्द, अपच, गैस, भूख कम लगना आदि में प्याज, लहसुन, अदरक का रस सब एक एक चम्मच, तीन चम्मच शहद मिलाकर खाना खाने से पहले नित्य दो बार चाट ले। प्याज का कच्चा रस पिलाने से पेट के कीड़े नष्ट हो जाते हें। प्याज के रस का नाभि पर लेप करने से पतले दस्त में लाभ होता है। अपच की शिकायत होने पर प्याज के रस में थोड़ा-सा नमक मिलाकर सेवन करें।

कब्ज दूर करे

प्याज में मौजूद रेशे पेट के लिए बेहद फायदेमंद हैं। प्याज खाने से कब्ज दूर हो जाती है। यदि आपको कब्ज की शिकायत है तो कच्चा प्याज रोज खाना शुरू कर दीजिए।

पाइल्स

यदि पाइल्स की समस्या हो तो सफेद प्याज खाना शुरू कर दें। बवासीर की समस्या हो तो प्याज के 4-5 चम्मच रस में मिश्री और पानी मिलाकर नियमित रूप से लें, खून आना बंद हो जाएगा।

पेशाब बंद, बार बार आना।

पेशाब होना बंद हो जाए तो दो चम्मच प्याज का रस और गेहूं का आटा लेकर हलवा बना लें। हलवा गर्म करके पेट पर लेप लगाने से पेशाब आना शुरू हो जाता है। 50 ग्राम प्याज के टुकड़े एक किलो पानी में 10 मिनट तक उबाले। इसे छानकर स्वादानुसार शहद मिलाकर तीन बार पियें। लाभ होगा। रुक-रुक कर पेशाब हो रही हो तो पेट पर प्याज के रस की हल्की मालिश करनी चाहिए

खांसी।

एक किलो पानी में आधा किलो प्याज के टुकड़े, चार सौ ग्राम बुरा मिलाकर अच्छी तरह उबालकर ठंडा करके छानकर पचास ग्राम शहद मिलाकर बोतल में भर ले। नित्य दो दो चम्मच चार बार पियें। खांसी ठीक हो जाएगी। खांसी में कफ की गड़गड़ाहट हो तो समान मात्रा में प्याज का रस और शहद मिलाकर दो दो चम्मच चार बार पियें। कफ बाहर निकल आएगा।
ज़ुकाम गले में खराश हो तो एक भुना हुआ प्याज सुबह शाम नित्य खाएं।

नाक से ब्लीडिंग समस्या खत्म करें

नाक से खून बह रहा हो तो कच्चा प्याज काट कर सूंघ लीजिए। तुरंत अाराम आएगा।

पीलिया।

पीलिया रोग में तीन चम्मच प्याज के रस में दो चम्मच शहद मिलाकर नित्य प्रात: भूखे पेट चाटे। फायदा होगा।

डायबिटीज करे कंट्रोल

रोजाना प्याज खाने से इंसुलिन पैदा होता है। यदि आप डायबिटिक हैं तो इसे खाने के साथ रोज सलाद के रूप में खाएं।

दिल से संबंधित बीमारियां खत्म करें

कच्चा प्याज ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करता है। इसमें मिथाइल सल्फाइड और अमीनो एसिड होता है। इसीलिए यह कोलेस्ट्रॉल को भी काबू में रखता है और दिल को बीमारियों से बचाता है। कच्चा प्याज हाई ब्लड प्रेशर को नार्मल करता है और बंद खून की धमनियों को खोलता है जिससे दिल की कोई बीमारी नहीं होती।

जलन।

शरीर में कहीं भी जलन हो, प्याज की चटनी का लेप करे या रस लगाये। फायदा होगा।

दांत निकलना।

प्याज के सेवन से कैल्शियम की पूर्ति हो जाती हैं। दांत निकलते समय कोई भी रोग हो, आधा आधा चम्मच प्याज का रस और शहद मिलाकर नित्य एक बार पिलाने से लाभ होता हैं।

पायरिया :

दांत में पायरिया है, तो प्याज के टुकड़ों को तवे पर गर्म कीजिए और दांतों के नीचे दबाकर मुंह बंद कर लीजिए। इस प्रकार 10-12 मिनट में लार मुंह में इकट्ठी हो जाएगी। उसे मुंह में चारों ओर घुमाइए फिर निकाल फेंकिए। दिन में 4-5 बार 8-10 दिन करें, पायरिया जड़ से खत्म हो जाएगा, दांत के कीड़े भी मर जाएंगे और मसूड़ों को भी मजबूती प्राप्त होगी ।

कान दर्द :

प्याज गर्म राख में भुनकर उसका पानी निचोड़कर कान में डाले। दर्द में तुरंत लाभ होगा

मोतिया बिन्द

प्याज का रस एक तोला, असली शहद एक तोला, भीमसेनी कपूर तीन माशे सबको खूब मिलाकर लगाने से मोतिया का असर नहीं होता। प्याज के सेवन से आंखों की ज्योति बढ़ती है।

बारूद से जलने पर :

यदि शरीर का कोई भाग बारूद से जल जाये तो उस स्थान पर प्याज का रस लगाने से लाभ होता है।

लू लगने पर

गर्मियों में लू लग जाना एक आम बात है लेकिन, अगर आप कच्ची प्याज खाती हैं तो आपको लू नहीं लगेगी. लू लगने पर प्याज का रस पीने से फायदा होता है. आपने बड़े-बुजुर्गों को ये कहते भी सुना होगा कि प्याज का टुकड़ा साथ रखने से लू नहीं लगती है.

झड़ते और सफ़ेद होते बालों के लिए

अगर आपके बाल गिर रहे हैं या सफ़ेद हो रहे हैं तो इसमें प्याज का रस बहुत फायदेमंद हो सकता है. प्याज के रस में दही, तुलसी का रस और नींबू का रस मिलाकर बालों में लगाएं। इससे बालों का गिरना बंद हो जाता है और रूसी की समस्या से भी निजात मिलती है। साथ ही बालों में प्याज का रस लगाने से बाल चमकदार होते हैं. इसके अलावा, प्याज का लेप लगाने पर कम उम्र में सफेद हुए बाल फिर से काले होने लगते हैं।

हिस्टीरिया

हिस्टीरिया का रोगी अगर बेहोश हो जाए तो उसे प्याज कूटकर सुंघाएं। इससे रोगी तुरंत होश में आ जाता है।

स्टोन पेशेंट्स के लिए है वरदान

अगर आपको स्टोन की शिकायत है तो प्याज का रस आपके लिए किसी वरदान से कम नहीं. सुबह के समय खाली पेट प्याज का देा चम्मच रस आपको इस मुसीबत से छुटकारा दिला सकता है.

गठिया के इलाज में

अगर आपके घर में किसी को गठिया या जोड़ो का दर्द है तो प्याज के रस की मालिश करने से आराम मिलेगा. प्याज के रस को सरसों के तेल में मिलाकर मालिश करने से आराम मिलता है.

कैंसर सेल की ग्रोथ रोके :

प्याज में सल्फर तत्व अधिक होते हैं। सल्फर शरीर को पेट, कोलोन, ब्रेस्ट, फेफडे और प्रोस्टेट कैंसर से बचाता है।

एनीमिया :

एनीमिया ठीक करे- प्याज काटते वक्त आंखों से आंसू टपकते हैं, ऐसा प्याज में मौजूद सल्फर की वजह से होता है। इस सल्फर में एक तेल मौजूद होता है जो कि एनीमिया को ठीक करने में सहायक होता है। खाना पकाते वक्त यही सल्फर जल जाता है, तो ऐसे में कच्चा प्याज खाइये।

फटी एडियों :

प्याज का पेस्ट लगाने से फटी एडियों को राहत मिलती है।

दमा रोग  :

सफेद प्याज के रस में शहद मिलाकर सेवन करना दमा रोग में बहुत लाभदायक है।

हरा प्याज भी है गुणों से भरपूर

1. हरा प्याज खाने के कई फायदे हैं। यह कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम बनाए रखता है। इसमें एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं। एंटी बैक्टीरियल गुण के कारण ही इसे खाने से पाचन में भी सुधार होता है। हरे प्याज में क्रोमियम होता है।

2. हरा प्याज खाने से इम्यूनिटी पावर बढ़ता है। हरा प्याज चेहरे की झुर्रियों को दूर करता है। इसे खाने से आंखों की रोशनी बढ़ती है। हरा प्याज मैक्रोन्यूट्रिशयन को बनाए रखता है। हरे प्याज में एंटी-इन्फ्लामेटरी और एंटी- हिस्टामाइन गुण भी होते हैं। इसीलिए यह गठिया और अस्थमा के रोगियों के लिए लाभदायक रहता है।

प्याज काट कर रखने से यह वातावरण में मौजूद बैक्टीरिया सोख लेता है। इसलिए अधिक देर पहले कटे हुए प्याज का सेवन नहीं करना चाहिए.

[Click here to Read. शीघ्रपतन वीर्यवृद्धि नपुंसकता में प्याज रामबाण। ]

2 comments

  1. PLZ PROVIDE IN ENGLISH LANGUAGE

  2. Sir mujhe piyaz ka murabba chahiye tha kahan se mile ga sir

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
DMCA.com Protection Status