Wednesday , 18 July 2018
Home » आयुर्वेद » जड़ी बूटियाँ » kasni » दुनिया का चमत्कारी पौधा कासनी जो करें किडनी लीवर हार्ट की अनेक बीमारीयों का इलाज – Kasni ke fayde

दुनिया का चमत्कारी पौधा कासनी जो करें किडनी लीवर हार्ट की अनेक बीमारीयों का इलाज – Kasni ke fayde

दुनिया का चमत्कारी पौधा कासनी जो करें अनेको बीमारीयों का रामबाण इलाज, kasni ke fayde

पेड़ पौधों की दुनिया का चमत्कारी पौधा कासनी, के बारे में आज हम आपको बताते हैं। कासनी  एक भूमध्य क्षेत्र Mediterranean की जड़ी बूटी है। इसे इंग्लिश में चिकोरी / चिकरी Chicory कहा जाता है। कासनी के पौधे की जड़ को यूरोप में कॉफ़ी के विकल्प substitute for coffee के रूप में  प्रयोग किया जाता है और वहां पर इसकी खेती की जाती है। कासनी के पत्ते काहू के पत्तों जैसे होते हैं। इसमें चमकीले नीले रंग के फूल खिलते हैं और इसकी मंजरियाँ मुलायम होती हैं। इसकी दो प्रजातियाँ हैं, जंगली और उगाई जाने वाली। खेती की जाने वाली प्रजाति मीठी सी होती है जबकि जंगली प्रजाति कडवी होती है। जंगली के अपेक्षा उगाई प्रजाति के पौधे की पत्तियों को अधिक शीतल और तर माना गया है। kasni ke fayde

किडनी, ब्लड शुगर लीवर और बवासीर जैसी बीमारियों में इस मेडिसन पौधे की पत्तियों का सेवन मरीजों के लिए रामबाण का काम कर रही है. आर्युवेदिक गुणों से भरपूर इन पौधे की मांग न केवल देश भर में है बल्कि विदेशों तक के डॉक्टर इन रोगों से ग्रसित मरीजों को कासनी के सेवन की सलाह दे रहे हैं. kasni ke fayde

हल्द्वानी वन एवं अनुसंधान केन्द्र की औषधीय पौधशाला में लगभग 25 प्रकार के आर्युवेदिक पौधों को तैयार किया जाता है.विलुप्त होने की कगार पर पहुंची कासनी के पौधों पर यहां पिछले दो साल से रिर्सच की गई और एक बड़ी नर्सरी तैयार की गई. kasni ke fayde

कासनी का सेवन पाचन में सहयोग करता है। भारत में कासनी, उत्तर-पश्चिमी भारत में 6000 फीट की ऊंचाई तक तथा बलूचिस्तान, पश्चिमी एशिया, और यूरोप में उगाई जाती है। कासनी की जड़ को मुख्यतः औषधीय रूप से प्रयोग किया जाता है। इसका प्रयोग प्यास, किडनी,  सिरदर्द, नेत्र रोग, गले की सूजन, लीवर के रोग, बुखार, उल्टी, लूज़ मोशन आदि में बहुत लाभदायक है। इसके सुखाये बीजों को ठंडाई में भी मिलाया जाता है।

कासनी की सामान्य जानकारी – kasni ke fayde

कासनी, उत्तर-पश्चिमी भारत में 1828.8 मीटर या 6,000 फुट की ऊंचाई तक तथा कुमायूं, उत्तर प्रदेश, देहरादून, पंजाब, कश्मीर, में पाया जाता है। पंजाब, कश्मीर, हैदराबाद, तथा देश के कई हिस्सों में इसकी खेती भी की जाती है।

उत्तम दर्जे के कासनी पंजाब और कश्मीर की मानी जाती है। औषधीय पौधा होने से, इसकी जड़, फूल, बीज पंसारियों के पास मिल जाते हैं।
कासनी का पौधा 30 cm से लेकर 120 cm या 1 फुट से 4 फुट तक ऊंचाई का बहुवर्षीय कोमल झाडी होता है। इसकी बहुत सी टहनियां होती हैं। तने के पास के पत्ते खंडित तथा दांतेदार होती है और ऊपर की पत्तियां छोटी और सरल धारदार होती हैं। फूल चमकीले नीले होते हैं।

• वानस्पतिक नाम: Cichorium intybus Linn. सिकोरियम इंटीबस
• कुल (Family): कंपोजिटी (Compositae) ऐस्टेरेसी (Asteraceae) मुण्डी कुल
• औषधीय उद्देश्य के लिए इस्तेमाल भाग: जड़, पूरा पौधा, बीज, पंचांग
• पौधे का प्रकार: झाड़ी

औषधीय मात्रा (Dosage of Kasni)-

1. पत्तों का रस Leaf juice: 12-24 ml
2. जड़ का चूर्ण root powder: 3-6 gram
3. बीजों का चूर्ण powder of seeds: 3-6 gram

कासनी के बीज, छोटे, सफ़ेद, वज़न में हल्के, स्वाद में तिक्त होते हैं। कासनी की जड़, गोपुच्छाकार, बाहर से हल्की भूरी और अन्दर से सफ़ेद होती है। इसका स्वाद फीका, कडवा और लुवाबी slimy होता है।
कासनी में औषधीय प्रभाव एक साल तक रहते हैं।

कासनी के गुण और औषधीय प्रयोग (Properties and Health Benefits of Kasni)-

  • यह किडनी की अक्सीर दवा है. हजारों किडनी पीडि़त इस पौध की पत्ती चबाने से रोग मुक्त हो गये हैं. एक मरीज का क्यूरेटिन लेवल 10.8 था वह अब 4.8 हो गया है. उसी तरह से शुगर लेवल 500 था आज वह नार्मल इस संजीवनी से ठीक हो गया | इसके सेवन से एक ही नहीं अनेकों किडनी और शुगर के मरीजों को लाभ पहुंचा है.
  • कासनी का प्रभाव शामक / निद्राजनक sedative होता है जो की इसमें पाए जाने वाले लैक्टुकोपिक्रीन lactucopicrin के कारण होता है।
  • कासनी में खनिज जैसे पोटेशियम, लोहा, कैल्शियम और फास्फोरस, विटामिन सी तथा अन्य पोषक तत्व पाए जाते हैं।
  • इसमें इन्सुलिन होता है। कासनी को डायबिटीज में ब्लड सुगर लवेल को कम करने के लिए कासनी का प्रयोग किया जाता है।
  • यह यकृत की रक्षा करता है और शराब के सेवन के कारण होने वाले लीवर के नुकसान से बचाता है।
  • एंग्जायटी और तंत्रिका संबंधी विकार के इलाज के लिए कासनी का प्रयोग किया जाता है।
  • मूत्रल होने से यह पेशाब की मात्रा को बढ़ाता है और पेशाब रोगों, शरीर में सूजन आदि से राहत देता है।
  • यह पाचन को बढ़ाता है।
  • यह खून को साफ़ करता है।
  • यह रक्तवर्धक है।
  • इसके पत्तों के लेप से जोड़ों का दर्द दूर होता है।
  • जड़ को पीस कर बिच्छू के काटे जगह पर लगाने से आराम मिलता है।
  • कासनी के बीज, यूनानी में दूसरे दर्जे के सर्द और खुश्क माने गए हैं। बीज भूख बढ़ाने वाले, कृमिनाशक, लीवर रोग, कमर के दर्द, सिरदर्द, दिल की धड़कन, जिगर की गर्मी, पीलिया, आदि को दूर करते हैं। बीज का सेवन दिमाग को ताकत देता हैं।

कसनी नीले फूल वाली जादा उपयुक्त है ये आप को डॉ मदन विष्ट जी 09412958527 वन अनुसन्धान केंद्र हल्द्वानी से प्राप्त की जा सकती है । Rajasthan एवं  अन्य प्रदेशो में मंगवाने के लिए 8005648255 कॉल या whatsapp कर सकते है । मध्यप्रदेश महाराष्ट्र के लोग Dr. Raj Thakur जी से संपर्क कर सकते है 07354899995 में कॉल कर सकते है । whatsaap 09425821296 में मेसेज कर सकते है.   बिना बात के कॉल ना करें. और समय का ध्यान रखें. सुबान 10 से 6 के बीच ही कॉल करें.

23 comments

  1. Plz sir
    mujhe cancer ki deva kese provide karege
    839803803

  2. please post kasni images. i belong to uttrakhand but i donot know?

  3. Rohtash Sheoran

    Very effective page for treatment and prevention of all types deases.

  4. I want this medicinal plant..from where i’ll get this.

    Kindly tell me further about this…is it possible to get doorsteps..i will pay whatever amount will be

    • Dear All this plant (चिकोरी / चिकरी Chicory) is being farmed in our Agriculture land that is in UP dist. ETAH so you can purchased from there. And My Contact No is 9971113533

  5. Prem Maheshwari

    I want this medicinal plant..from where i’ll get this.

    Kindly tell me further about this…is it possible to get doorsteps..i will pay whatever amount will be

    • डॉ राज ठाकुर

      डॉ मदन विष्ट 09412958527 वन अनुसन्धान केंद्र हल्द्वानी से प्राप्त की जा सकती है ।
      मध्यप्रदेश महाराष्ट्र के लोग 07354899995 में कॉल कर मुझ से संपर्क कर सकते है। whatsaap 09425821296
      सबसे उपयोगी कसनी नीले फूल वाली होती है।

  6. My wife aged 68 years is suffering CKD .Both her kidneys have shrunk. Blood Uria and creatinine is around 2-3 for the last 3years. Presently I’m giving her kada of Peepal and Neem chchal and Baba Ramdev’sVakradoshher kvath and Sarvkalp Kvath. This is quite helpful in maintaining the present status,.I also want to try Kasani as per your advise. How do I get Kasani in sufficient quantity? And what is your advice in this matter?

  7. Sir, Mujhe ye medicinal plant Diabeties ke liye chahiye…Please inform kijiye on 99254-72994

  8. Kasni plant kharidane ke liye contact karen
    Rk Kushwah
    9713391319

  9. Please suggest ftom where we get this kasni plant

  10. Hepatitis b Ki rok tham Kay liya Kay upauy krnay chiye.or koi dewa Bateay

  11. Sir my creatinine 16 & urea 350 hai age 29 hai 4 vaar dylises bhi ho chuka hai kya kasni ka Patti benefit Karegi? Please advise me

  12. Sir my creatinine 16. 5 & urea 350.0 hai age 29 hai 4 vaar dylises bhi ho chuka hai kya kasni ka Patti benefit Karegi? Please advise me

  13. Ye kaha par milega or gamle me lag jayega kya

  14. where can i get kasni leaves/ plant at hyderabad.

  15. where can i get kasni leaves in hyderabad

  16. मुझे ये कासनी का पौधा चाहिये . Plz contect Me 09926865353

  17. I am getting phone about this plant daily .I want to grow this plant so that I can help others .I want seed and small plant .Please inform availability near Ghaziabad M 9810716929 Regards

  18. कसनी नीले फूल वाली जादा उपयुक्त है ये आप को डॉ मदन विष्ट जी 09412958527 वन अनुसन्धान केंद्र हल्द्वानी से प्राप्त की जा सकती है।
    मध्यप्रदेश महाराष्ट्र के लोग मुझ से संपर्क कर सकते है 07354899995 में कॉल कर सकते है । whatsaap 09425821296 में मेसेज कर सकते है

  19. Shekhar Kumar Poddar

    Where I ‘ll get this kasni hearb in Gujarat /any other source.
    My wife is insulin taker. Pl. Suggest

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status