Thursday , 18 October 2018
Home » Beauty » eye care » मोतियाबिंद Motiyabind के सरल से घरेलु और आयुर्वेदिक इलाज

मोतियाबिंद Motiyabind के सरल से घरेलु और आयुर्वेदिक इलाज

Motiyabind ka ilaj, motiyabind kaise sahi kare, motiyabind

मोतियाबिंद वृद्ध अवस्था का रोग है, इसमें आँखों की पुतली के ऊपर इक हल्का सा पर्दा घिर जाता है. जिसके कारण आँखों से दिखना बंद हो जाता है. यह सफ़ेद और काला किसी भी रंग का हो सकता है. और यह रोग स्त्री और पुरुष किसी को भी हो सकता है. इक बार यह रोग शुरू हो जाए तो यह पर्दा धीरे धीरे बढ़ने लगता है. और इसको पुर्णतः पूरी आँख को ढकने में काफी समय भी लगता है.

आधुनिक विज्ञान में मोतियाबिंद का सिर्फ एक ही इलाज है वो है ऑपरेशन. मगर आयुर्वेद में इसके लिए ऑपरेशन (शल्य कर्म) के साथ साथ घरेलु जड़ी बूटियों और औशिधियों से भी इलाज किया जाता रहा है. आयुर्वेद में औषिधियों से मोतियाबिंद को रोका जा सकता है और पुनः आँखों को सही किया जा सकता है. मोतियाबिंद में लाभकारी औषधीय योग निमिन्लिखित हैं.

मोतियाबिंद के बारे में ऊपर आपने पढ़ ही लिया अभी जानिये मोतियाबिंद दूर करने के घरेलु नुस्खे.

मोतियाबिंद का पहला नुस्खा – सौंफ का हरा पेड़ लाकर उसको कांच के बर्तन या चीनी मिटटी के बर्तन में रख लीजिये, जब यह सूख जाए तब पीसकर छान लें. इसको सुरमे की तरह आँखों में लगाने से मोतियाबिंद दूर हो जाता है. यह प्रयोग 1 से 3 महीने तक लगातार करें.

मोतियाबिंद का दूसरा नुस्खा – रोग के शुरू होते ही निर्मली को शहद में घिसकर आँखों में लगाने से मोतियाबिंद दूर हो जाता है.

[ ये भी पढ़िए सफ़ेद दाग का इलाज Safed daag ka ilaj ]

मोतियाबिंद का तीसरा नुस्खा – नौशादर को खूब महीन पीसकर बारीक से बारीक कपडे में छान कर रख लें. इसको सुरमे की तरह नेत्रों में लगाने से मोतियाबिंद ठीक हो जाता है.

मोतियाबिंद का चौथा नुस्खा. बच, हींग, सौंठ तथा सौंफ इन सब को बराबर बराबर लेकर महीन पीस लें. और शहद में मिला लें. इसमें से तीन या चार ग्राम नित्य खाने से मोतियाबिंद बढ़ने नहीं पाता तथा धीरे धीरे ठीक हो जाता है. इस माजून को मोतियाबिंद शुरू होते ही खाना शुरू कर देना चाहिए. जितना जल्दी शुरू करेंगे उतना ही जल्दी ये असर करेगा. जब तक सही ना हो तब तक खाते रहें.

[ ये भी पढ़िए bawasir ka ilaj बवासीर का इलाज ]

मोतियाबिंद का पांचवा नुस्खा. जिस स्त्री को लड़का हुआ हो उस स्त्री के दूध में भीमसेनी कपूर को पीसकर आँखों में लगाने से मोतियाबंद ठीक हो जाता है.

मोतियाबिंद का छठा नुस्खा – सफ़ेद प्याज का रस निकाल कर इसमें बराबर शहद मिला कर आँखों में सुबह शाम लगाने से कुछ दिनों में मोतियाबिंद सही होने लगता है.

[ ये भी पढ़िए कैंसर का इलाज Cancer ka ilaj ]

[ ये भी पढ़िए घुटने के दर्द का इलाज, ghutne ke dard ka ialj ]

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status