Monday , 16 July 2018
Home » पेड़ पौधे » अरण्ड » अरण्डी का तेल (Castor oil) और बेकिंग सोडा का मिश्रण है अनेक बिमारिओं का चमत्कारी उपाए..!!

अरण्डी का तेल (Castor oil) और बेकिंग सोडा का मिश्रण है अनेक बिमारिओं का चमत्कारी उपाए..!!

अरण्डी का तेल (Castor oil) और बेकिंग सोडा का मिश्रण है अनेक बिमारिओं का चमत्कारी उपाए..!!

सदियों से इस्तेमाल हो रही प्राकृतिक उपचार औषधियों के प्रति लोगों की जागरूकता बढ़ने लगी है इसी का एक और उधाहरण है अरंडी का तेल और बेकिंग सोडा का ये मिश्रण जो के बहुत सारी सेहत समस्याओं में राहत दे सकता है |

अरण्डी का तेल (Castor oil) और बेकिंग सोडा (BAKING SODA)

अरंडी (castor oil) या कैस्टर ऑयल के तेल के अनगिनत स्वास्थ्य फायदे हैं। इस तेल का एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रभाव पड़ता है, जिस वजह से ये आपको जोड़ों के दर्द से बचाने में सहायक है। इस तेल को बेकिंग सोडा के साथ मिलाकर लगाने से अल्सर जैसी समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।

अल्सर से छुटकारा दिलाने में सहायक :

कैस्टर ऑयल को बेकिंग सोडा के साथ मिलाकर लगाने से मिनटों अल्सर से राहत मिलती है। ये कॉर्न के प्रभावी इलाज में भी सहायक है। इसमें फैटी एसिड होता है, जिसे त्वचा आसानी से अवशोषित कर लेती है। ये ओवेरियन सिस्ट को भी खत्म करता है

रक्त संचार के लिए :

अरंडी का तेल, रक्त संचार  पर शक्तिशाली प्रभाव डालता  है जिसके कारण यह अक्सर एक कोटिंग के रूप में प्रयोग किया जाता है इस के लिए आप को केवल एक प्लास्टिक का रैप , अरंडी का तेल, तौलिया, स्वच्छ कपडा , और गर्म पानी की एक बोतल की जरूरत है। सब से पहले प्रभावित क्षेत्र को बेकिंग सोडा के मिश्रण से साफ़ कर लीजिये तेल को थोडा गरम कर के कपडा तेल में डाल कर प्रभावित जगह पर रखें और रैप पेपर से कवर करें इसके बाद गर्म पानी की बोतल को उसके ऊपर रख कर ऊपर से तोलिये से लपेट दें और 1 घंटे के लिए छोड़ दें और आराम से लेट जाएँ | हर रोज 40 दिनों तक इस प्रकिरिया को दोहराएँ |

चेहरे के काले धब्बे मिटाए :

बेकिंग सोडा और अरंडी का तेल मिलाकर चेहरे पर लगाने से काले धब्बे समाप्त हो जाते हैं ।

स्किन कैंसर :

बेकिंग सोडा और अरंडी के तेल त्वचा कैंसर के इलाज के लिए बहुत प्रभावशली काम करता है

गर्भवती महिलाओं के लिए अच्छा :

कैस्टर ऑयल गर्भाशय संकुचन पर दबाव डालकर लेबर के लिए प्रेरित करता है। इसमें रिसिनोलिक एसिड होता है, जो गर्भाशय में ईपी3 प्रोस्टेनोइड रिसेप्टर को सक्रिय करता है, जिससे प्रसव को आसान और सहज बनाने में मदद मिलती है।

जोड़ों के दर्द को कम करता है :

इसका एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रभाव पड़ता है, जिस वजह से ये गठिया के इलाज में सहायक है। इसके अलावा इस तेल की मालिश करने से जोड़ों के दर्द, मांसपेशियों में सूजन और नसों के बेचैनी को कम करने में मदद मिलती है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status