Wednesday , 25 November 2020
Home » Search Results for: बवासीर

Search Results for: बवासीर

अब खुनी और बादी बवासीर को जड से मिटायें -करे ये उपचार

अब खुनी और बादी बवासीर को जड से मिटायें -करे ये उपचार परिचय भोजन का कम पचना और कब्ज रहना बवासीर होने के कारण माने गये हे ,तथा पानी का कम पीना और गरिष्ट और मसालेदार भोजन का अधिक सेवन ,मिर्च का अधिक सेवन भी बवासीर का होना माना जाता है बवासीर दो प्रकार के होते है एक तो सूखे …

Read More »

अब बवासीर को जड से खत्म करे अचूक आयुर्वेदिक उपचार –

अब बवासीर को जड से खत्म करे अचूक आयुर्वेदिक उपचार – परिचय – अर्श को बोलचाल के रूप में बवासीर के नाम से जाना जाता है ,गुदा ,नाक ,नेत्र ,कान ,नाभ व लिंगादी स्थानों में अनेक प्रकार के मांस के अंकुर उत्पन होते है इन अंकुरों को ही अर्श का नाम दिया जाता है , गुदा में फेली रक्तवाहिनियो शिराओ …

Read More »

अर्श (बवासीर) के लिए अनुभव और अचूक नुस्खे अनेक रोगियों ने अपनाएं है|

अर्श (बवासीर) के लिए अनुभव और अचूक नुस्खे अनेक रोगियों ने अपनाएं है| यह बड़ा प्रचलित रोग है और बहुत थोड़े इससे सुरक्षित रहते है ,इसके लिए कुछ अनुभूत और अचूक नुस्खे                              निचे लिख रहे है| 1.- अनुभूत उपचार –              …

Read More »

गठिया,बवासीर,मिर्गी दमा, दांत कण रोग और साइटिका का रामबाण इलाज कायफल !!

आज हम आपको ऐसे चमत्कारी पौधे की छाल के बारे में बताएँगे जिसे कायफल कहते है, औषधियों के लिए लाल कायफल अधिक उपयोगी होता है। पेड़ की छाल को ही कायफल कहते है और यह ही औषधियों के रूप में प्रयोग की जाती है। गठिया, कमर दर्द, जोड़ो का दर्द, और साइटिका कायफल का रस स्वाद में कडुवा, तीखा व …

Read More »

मात्र गेंदे के फूल और काली मिर्च से कष्टदायी बवासीर का इलाज !!!

Black pepper and marigold for Piles बवासीर अत्यंत कष्टदायी रोग है. यह रोग प्राय गलत खान पान से और पेट में कब्ज रहने की समस्या से शुरू होता है, जितना पुराना यह रोग होता जाता है वैसे वैसे यह रोग फिशर, भगंदर आदि में बदलता जाता है. ऐसे में गेंदे के फूल और काली मिर्च का यह प्रयोग बेहद उपयोगी …

Read More »

बवासीर के मस्सो को धोकर ये Oil लगाएं 5 दिन में मस्सा से सम्पूर्ण आराम !!!

दोस्तों अगर बार बार बवासीर होती हैं और मस्से बाहर आ कर बहुत कष्ट देते हो तो ये घरेलु उपचार और मस्सो पर लगाने के लिए ये तेल घर पर बनाये बहुत ही लाभदायक हैं। तो आइये जाने खूनी बादी बवासीर और बवासीर के मस्सो का इलाज। [ ये भी पढ़िए सफ़ेद दाग का इलाज Safed daag ka ilaj ] …

Read More »

3 ग्राम गोंद से कमर दर्द, मधुमेह, गुप्त रोग और इसको सिर्फ चूसने से खांसी, पीने से बवासीर होती है सही.

गोंद के फायदे, बबूल की गोंद, बबूल की गोंद के फायदे, BABOOL KI GOND, GOND, BABUL KI GOND KE FAYDE नार्मल भाषा अर्थात बोलचाल की भाषा में गोंद बबूल की गोंद को कहते हैं और पलाश के गोंद को कमरकस भी कहा जाता है, इसी तरह से नीम का गोंद भी इस्तेमाल में आता है. गुग्गुल, लोबान इत्यादि गोंद भी …

Read More »

आप के घर में ही है बवासीर ( Piles ) का सब से आसन और सस्ता इलाज-100% Effective

आज के समय में काफी बढ़ता जा रहा हैं, यह काफी कष्टप्रद रोग हैं, जिसका जल्द ही शुरूआती स्टेजेस में ही उपचार इलाज करना फायदेमंद होता हैं. यहां हम आपको ऐसे ही बाबा रामदेव बवासीर इलाज के लिए उपाय घरेलु नुस्खे बताने जा रहे हैं. जिनके जरिये आप घर पर हीकुछ ही दिनों में लाभ अनुभव करने लगेंगे. Khuni & badi …

Read More »

कमल – हर्दय, मष्तिष्क, कमजोरी, बुखार एवं बवासीर से लेकर सोंदर्य व स्त्रियों के रोगों में रामबाण औषधी

आयुर्वेद के अनुसार : कमल ( LOTUS ) शीतल और स्वाद में मीठा होता है। यह कफ, पित्त, खून की बीमारी, प्यास, जलन,फोड़ा व जहर  को खत्म करता है। हृदय के रोगों को दूर करने और त्वचा का रंग निखारने के लिए यह एक अच्छी औषधि है। जी मिचलना, दस्त, पेचिश, मूत्र रोग, त्वचा रोग, बुखार, कमजोरी, बवासीर, वमन, रक्तस्राव आदि में इसका प्रयोग लाभकारी होता है। विभिन्न भाषाओं में नाम : HERBAL USE OF LOTUS  संस्कृत-अम्बुज, पद्म, पुंडरीक। हिन्दी .कमल, सफेद कमल, लाल कमल, नीला …

Read More »

बवासीर – भगंदर और त्वचा के किसी भी प्रकार के मस्से को धागे से काटने की प्राचीन विधि

सूत – धागा बाँध कर मस्से काटने का सदियों पुराना आयुर्वेदिक घरेलु तरीका – dhage se massa katne ka tarika सूत बाँध कर मस्से काटने की विधि बहुत प्राचीन है, बाज़ार में दवा की दुकर पर ऐसे कई सूत भी आते हैं, जिनको बाँध कर मस्से काटे जाते हैं. ये विधि से आप मस्से बहुत आसानी से हटा सकते हैं. …

Read More »
DMCA.com Protection Status