Saturday , 14 December 2019
Home » Health

Health

अब यूरिक एसिड से होने वाले दर्द को कहे बाय-बाय -अनुभूत उपचार

अब यूरिक एसिड से होने वाले दर्द को कहे बाय-बाय -अनुभूत उपचार परिचय – इसमें सबसे पहले अंगूठे में दर्द होता है ,रात को आराम से सोता है ,परन्तु आधी रात को अचानक अंगूठे में तेज दर्द व जलन शुरू हो जाती है .पैर के अंगूठे में सुजन आ जाती है .शुरुआत हाथ पैर के अंगूठे से होती है .अंगूठा …

Read More »

गठिया (आर्थराइटिस) के रोगी एक महीने में दोड़ने लगेंगे -अनुभूत है

गठिया (आर्थराइटिस) के रोगी एक महीने में दोड़ने लगेंगे -अनुभूत है 1.- घुटनों के दर्द में – ओषधि —- पुनर्नवादी मंडूर की एक -एक गोली पीसकर सुबह शाम शहद के साथ दे और ऊपर से उसको सहजन के पेड़ की ताजा छाल 10 ग्राम (सूखी 20 ग्राम ),में पानी 250 ग्राम ग्राम में इसे उबाले 50 ग्राम शेष रहने पर …

Read More »

शारीरिक कमजोरी को जड से दूर करने के सबसे आसान उपाय

शारीरिक कमजोरी को जड से दूर करने के सबसे आसान उपाय परिचय – इन्सान के पास कितना भी पैसा आ जाए पर लेकिन अगर उसका शरीर स्वस्थ नहीं है तो सब बेकार है। दुर्भाग्यवश, हमारे देश में कई ऐसे राज्य हैं जहां पर लोग कुपोषण के शिकार पाये जाते हैं। इस समस्या के कारण कई बार अल्प-विकसित या खोड़-ग्रस्त शिशु …

Read More »

व्रद्धावस्था में बार-बार भूलने की बीमारी के लिए आयुर्वेदिक उपचार

व्रद्धावस्था में बार-बार भूलने की बीमारी के लिए आयुर्वेदिक उपचार बार -बार भूलने वाला यह रोग वर्द्धाव्स्था में अधिकतर लोगो में पाया जाता है .यह स्वतंत्र रोग नही माना गया है .                  किसी भी रोग के कारण मष्तिष्क के केंद्र की स्नायुओ में आई रुकावटों की वजह से आगे सूचनाये नही पंहुच …

Read More »

बहु मूत्र (पोलियुरिया) अधिक मात्रा में पेशाब आना बीमारी में अनुभूत नुस्खे |

बहु मूत्र (पोलियुरिया) अधिक मात्रा में पेशाब आना बीमारी में अनुभूत नुस्खे | परिचय – बहुमूत्र के दो अर्थ हे -बहुत समय तक थोडा -थोडा पेशाब उतरते रहना अथवा अधिक मात्रा में पेशाब का बार -बार होना . बहुमूत्र — थोड़ी -थोड़ी देर बाद पेशाब आना .हर बार इतना पेशाब आना ,जितना आधा घंटा या 15-20 मिनट पहले आया था …

Read More »

नजला /झुखाम के अनुभूत नुस्खे जो बहुत कारगर हे लाभ ले .

नजला /झुखाम के अनुभूत नुस्खे जो बहुत कारगर हे लाभ ले . शरीर में रोग पैदा केसे होते है ; पहले वात ,पित और कफ विपरीत आहार -विहार के कारण बढकर शरीर में इकट्ठा होते है .ऐसी स्थिति को दोषों का अपचय या संचय कहा जाता है .उसके बाद दोषों का प्रकोप होता है .प्रकोप होने पर पुरे शरीर में …

Read More »

उल्टियां (वमन :जी मचलाना ) रोग के लिए अनुभूत रोगनाशक नुस्खे लाभ ले

उल्टियां (वमन :जी मचलाना ) रोग के लिए अनुभूत रोगनाशक नुस्खे लाभ ले उल्टियां कई कारण से होती है ,अम्लपित भी उसमे से एक कर्ण हो सकता है यदि अम्लपित के कारण उल्टियां हो तो अम्लपित को मिटाने की चिकित्सा साथ में करे . 1.- उल्टियां – दवा —- अविप्तिकर चूर्ण 2 ग्राम और मधुरक्षार 2 रती दिन में 3 …

Read More »

संग्रहणी रोग के लक्षण,कारण व अनुभूत आयुर्वेदिक ईलाज:

संग्रहणी रोग के लक्षण,कारण व अनुभूत आयुर्वेदिक ईलाज: संग्रहणी के लक्षण : खाना खाने के तुरंत बाद रोगी को दस्त के लिए जाना पड़ता है कभी दस्त पतला कभी बंधा हुआ आना,खट्टी डकार आना,उल्टी आना.थोड़ी भी भारी चीज खाते ही टट्टी की हाजत हो जाती है,रोगी को बराबर पतले दस्त आते है पेट में दर्द के साथ टट्टी पतली आती …

Read More »

अतिसार (दस्त) प्रवाहिका के लिए अनुभव किये नुस्खे.आजमाकर लाभ ले:

अतिसार (दस्त) प्रवाहिका के लिए अनुभव किये नुस्खे.आजमाकर लाभ ले: 1.- दस्त – दवा —- हिंग्वाष्टक चूर्ण 1-2 ग्राम ,शंख भस्म 2 रती ये एक खुराख  की मात्रा है इसे सुबह शाम पानी के साथ ले दस्त बंध कर आने लगेंगे . 2.- दवा — शंख भस्म 2-3 रती की मात्रा में शहद संग लेते ही दस्त तुरंत बंद होते …

Read More »

कब्ज (पेट साफ )के लिए अनुभव किये हुए नुस्खे -शीघ्र परिणाम वाले

कब्ज (पेट साफ )के लिए अनुभव किये हुए नुस्खे -शीघ्र परिणाम वाले कहते है की शरीर में रोग का आगमन पेट की खराबी से ही होता है अगर आपका पेट स्वस्थ रहेगा तो आपको बीमारी नही छु सकती ,लेकिन आजकल भागदोड़ भरी जिन्दंगी में हम अपने शरीर और पेट का ख्याल नही रखते है और खाने-पिने में गलत चीजों का …

Read More »
DMCA.com Protection Status