Friday , 30 October 2020
Home » Health » बवासीर » अब खुनी और बादी बवासीर को जड से मिटायें -करे ये उपचार

अब खुनी और बादी बवासीर को जड से मिटायें -करे ये उपचार

अब खुनी और बादी बवासीर को जड से मिटायें -करे ये उपचार

परिचय

भोजन का कम पचना और कब्ज रहना बवासीर होने के कारण माने गये हे ,तथा पानी का कम पीना और गरिष्ट

और मसालेदार भोजन का अधिक सेवन ,मिर्च का अधिक सेवन भी बवासीर का होना माना जाता है

बवासीर दो प्रकार के होते है एक तो सूखे मस्से वाला और एक जिसमे से ब्लड निकलता हो जब हम सुबह फ्रेस होते

है तो कब्ज होने के कारण हमे जोर लगाना पड़ता है जिससे बवासीर में तकलीफ होती है और रक्त गिरता है

बवासीर को मिटाने के लिए कुछ आयुर्वेदिक अनुभूत उपचार हे अजमाकर लाभ ले ,

रोग .- खुनी और बादी बवासीर –

दवा –

1 .अर्शोघ्नी वटी 2 -2 गोली दिन में तीन बार छाछ के मट्ठे से दे .

2. जमीकंद बड़ा वाला के टुकड़े घी में भुन तथा इसे कूट कर मिश्री मिलाकर रख ले और 3 ग्राम की मात्रा में 3 बार

ताजा पानी से दे .

भोजन के बाद अभ्यारिष्ट 3-3 ढक्कन बराबर पानी में मिलाकर दे ,

दवा –

बोलबध्द रस 500 mg के केप्सूल में भर कर रख ले और 1-1 केप्सूल या 2-2 केप्सूल सुबह शाम ताजा पानी से दे

2 दिनों में ही बहुत फायदा हो गा ,अनुभूत हे .

दवा –

रसोत 40 ग्राम ,मुली का रस 200 ग्राम ले और रसोंत को 200 ग्राम गरम पानी में भिगोकर रख दे और सुबह मसलकर

मोटे कपड़े से छाने ,अब इसमें मुली का रस मिला कढाई में डाल आग पर चढ़ा दे और हल्की आंच रखे और पलटे से

चलाते रहे ,जब गाढ़ा होने लगे तब उसमे 10 ग्राम देशी घी डाल चलाये और जब गोली बनाने लायक गाढ़ा हो जाये तो

सफेद चने के बराबर गोलिया बना ले और 1-1 गोली सुबह शाम ताजा पानी के साथ दे ,लाभ 3 दिनों में दिख जायेगा और

1 महीने में सम्पूर्ण लाभ हो जायेगा

दवा –

वनगोभी के पत्तो का रस 1 चम्मच 100 ग्राम दही में मिलाकर खाली पेट खिला दे और एक घंटे तक कुछ नही दे खून

तो एक दिन में रुक जाता है मस्से नष्ट हो जाते है केवल 3 दिनों तक दे .

दवा –

रीठे के छिलके की भस्म ,पपरिया कत्था बराबर -बराबर ले और रीठे के छिलके को तवे पर जला कर राख बना ले

तथा ठंडे होने पर कपडछान कर ले और कत्थे को भी छान कर मिला ले और 4-4 रती की मात्रा में मक्खन या मलाई में

मिलाकर खाली पेट दे .

दवा –

रसोंत ,निशोथ ,एलुआ ,त्रिफला चूर्ण ,चित्रक ,सनाय पत्ती ,सत्यनाशी के बीज ,प्याज के बीज ,मुली के बीज ,इसबगोल

की भूसी सभी दवाये समान मात्रा में ले कूट पीसकर मिला ले तथा मुली के स्वरस की भावना देकर 1 से डेढ़ ग्राम

की गोलिया बना ले और 2-2 गोली दिन में 3 बार छाछ के साथ ले .दोनों प्रकार की बवासीर में चमत्कारी रूप से

काम करता है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status