Tuesday , 19 March 2019

Recent Posts

मालकंगनी (ज्योतिष्मति)…….जो मति अर्थात बुद्धि को चमका दे!!

मालकंगनी (ज्योतिष्मति)…….जो मति अर्थात बुद्धि को चमका दे!! आयुर्वेद मे अमृत………… सर्दी में ईश्वरीय वरदान आज बाजार मे मिलने वाले जितने भी टॉनिक (च्यवन प्राश, होर्लिक्स, बोर्नविटा, बूस्ट, बॉडी बिल्डिंग के सप्लीमेंट्स आदि ) हैं, यदि उन सब को भी बराबर मे रख दिया जाए तो हजारो रुपए के ये टॉनिक मालकंगनी के सामने कुछ नहीं। गरीब के लिए सोना-चांदी …

Read More »

अलसी और पनीर का ये ड्रिंक कैंसर के रोगियों के लिए बन रहा है अमृत संजीवनी

अलसी और पनीर, anti cancer drink, alsi aur paneer ka drink

अलसी और पनीर का ये ड्रिंक कैंसर के रोगियों के लिए बन रहा है अमृत संजीवनी नमस्कार दोस्तों आज हम आपको बता रहें हैं कैंसर के लिए एक बेहतरीन अलसी और पनीर का ड्रिंक, जिसको आप अपनी नियमित खुराक का हिस्सा बनायेंगे तो कैंसर में बहुत जल्दी आपको परिणाम मिलेंगे. यह ड्रिंक कैंसर की हो रही ग्रोथ को रोकने के …

Read More »

मौत के मुंह में गए हुए कैंसर के रोगियों में जीवन की आस जगा रहा है Only Ayurved

only ayurved cancer ka ilaj

कैंसर का आयुर्वेदिक इलाज – मौत के मुंह से वापिस आना – कैंसर से बचाव – Only Ayurved Cancer ka ilaj नमस्कार दोस्तों, आज का विषय है कैंसर, कैंसर जिसका नाम सुनते ही व्यक्ति सिहर उठता है और अपने दिन गिनने शुरू कर देता है, ऐसे में महंगे महंगे इलाज और इस के मौजूदा इलाज के साइड इफ़ेक्ट जीवन को …

Read More »

एक्यूप्रेशर द्वारा मिरगी का उपचार

मिरगी के रोग को हमेशा के लिए दूर करने के लिए मस्तिष्क स्नायुस्थान, ह्रदय, जिगर, आमाशय तथा अंतड़ियों के प्रतिबिम्ब केन्द्रो पर प्रेशर देना चाहिए। इसके अतिरिक्त पेट के आठ केन्द्रो पर प्रेशर देने से यह रोग दूर करने में सहायता मिलती है। गर्दन, पीठ की रीड की हड्डी के दोनों तरफ प्रेशर देना भी इस रोग में बहुत लाभदायक …

Read More »

नेत्र-विकारों से बचाव के लिए

नेत्र-विकारों से बचाव के लिए अगर आप चाहते हो की आप नेत्र विकारों से बच्चे रहे तो कीजिये एक आसान सा निचे दिया गया प्रयोग और अगर आपकी दृष्टि कम है और आप चस्मा लगते हो तो भी इस प्रयोग को निरन्तर करते रहने से आप बिना चस्मे के देखने के लायक हो जायोगे। विधि  सुबह दांत साफ करके, मुंह …

Read More »

क्यों है जरूरी विटामिन बी-12

विटामिन बी काम्प्लेक्स में तीन प्रकार के विटामिन होते हैं थाइमिन राइबोफ्लेविन और निकोटिनिक एसिड। इसकी कमी का प्रभाव डॉक्टर जीभ देख कर बता देते हैं। शरीर के लिये जरूरी पोषक तत्वों में से एक है। शरीर को सुचारु रूप से चलाने में विटामिन्स और माइक्रोन्यूट्रीएंट्स बहुत जरूरी होते हैं, पर विटामिन बी एक ऐसा तत्व है, जो मस्तिष्क और तंत्रिका …

Read More »

पलाश के फूलों द्वारा उपचा

पलाश के फूलों द्वारा उपचारः 1.महिलाओं के मासिक धर्म में अथवा पेशाब में रूकावट हो तो फूलों को उबालकर पुल्टिस बना के पेड़ू पर बाँधें। अण्डकोषों की सूजन भी इस पुल्टिस से ठीक होती है। 2.मेह (मूत्र-संबंधी विकारों) में पलाश के फूलों का काढ़ा (50 मि.ली.) मिलाकर पिलायें। 3.रतौंधी की प्रारम्भिक अवस्था में फूलों का रस आँखों में डालने से …

Read More »

अनेक रोगों की एक दवा-जल चिकित्सा पध्दति

अनेक रोगों की एक दवा-जल चिकित्सा पध्दति  जापान के ‘सिकनेस एसोसिएशन’ द्वारा प्रकाशित एक लेख में इस बात की पुष्टि की गई है की यदि ढंग से पानी का प्रयोग किया जाये तो कई पुराणी तथा नई बीमारियां दूर हो जाती है। जैसे सिरदर्द, उच्च रक्तचाप, मोटापा, मधुमेह, खून की कमी, जोड़ों के दर्द, आमवात( रियुमेटिज्म ), लकवा, दिल की …

Read More »

थायरायड के बचाव में आयुर्वेदिक, प्रणायाम और एक्यूप्रेशर संबन्धी उपाए।

थायरायड Thyroid के बचाव में आयुर्वेदिक, प्रणायाम और एक्यूप्रेशर संबन्धी उपाए। थायरायड ग्रंथि में विकार आने से और ठीक से काम न करने से थारायड की बीमारी होती है। थायरायड एक अंत: स्रावी ग्रंथि है और सभी मनुष्यों के गले के भीतर मध्यभाग में स्वसंलि के दोनों तरफ इसका एक-एक खंड स्थित रहता है। थायरायड ग्रंथि से थायरोकिसन नमक हार्मोन्स …

Read More »

एक्जीमा को दूर करने के घरेलु नुस्खे

एक्जीमा इस रोग में त्वचा शुष्क हो जाती है और बार-बार खुजली करने का मन करता है क्योंकि त्वचा की ऊपरी सतह पर नमी की कमी हो जाती है, जिसके परिणामस्वरूप त्वचा को कोई सुरक्षा नहीं रहती, और जीवाणुओं और कोशाणुओं के लिए हमला करने और त्वचा के भीतर घुसने के लिए आसान हो जाता है। एक्जिमा के गंभीर मामलों …

Read More »

हल्दी के फायदे और गुण

हल्दी(Turmeric ) के फायदे और गुण हल्दी को आयुर्वेद में प्राचीन काल से ही एक चमत्कारिक द्रव्य के रूप में मान्यता प्राप्त है। औषधि ग्रंथों में इसे हल्दी के अतिरिक्त हरिद्रा, कुरकुमा लौंगा, वरवर्णिनी, गौरी, क्रिमिघ्ना योशितप्रीया, हट्टविलासनी, हरदल, कुमकुम, टर्मरिक नाम दिए गए हैं। आयुर्वेद में हल्‍दी को एक महत्‍वपूर्ण औषधि‍ कहा गया है। भारतीय रसोई में इसका महत्वपूर्ण …

Read More »

केले के अनजाने उपयोग

केले के अनजाने उपयोग केले के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ के बारे में हम सभी जानते हैं, लेकिन केले के बहुत सारे ऐसे फायदे भी हैं जिनसे हम अनजान हैं। केला न केवल हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छा होता है बल्कि इससे आप अपनी त्‍वचा, बालों और बहुत सारे घरेलू कामों में भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं। आइए इस स्‍लाइड शो के …

Read More »

शीघ्र पतन

१) तालमखाना के बीज ५० ग्राम लेकर अदरक के रस में आधा घंटे भिगोएं,फ़िर सुखाएं। आपको ऐसा तीन बार करना है। अब इनका चूर्ण बनालें। अब इस चूर्ण को २०० ग्राम शहद में अच्छी तरह मिश्रण करके शीशी में भर ले शीघ्र पतन की दवा तैयार है। १० ग्राम औषधि सुबह-शाम गाय के दूध के साथ लेने से जल्दी छूट …

Read More »

ह्रदय रोगों में हितकारी Heart beneficial and harmful foods

ह्रदय रोगों में हितकारी बेदना अनार, आंवला या आंवला का मुरब्बा, सेव या सेव का मुरब्बा, अंगूर, निम्बू का रस, थोड़ा उष्ण गाय का दूध, जौ का पानी, कच्चे नारियल या दभ का पानी, गाजर, पालक, लहसुन, कच्चा प्याज, छोटी हरड़, सोंफ, मैथीदाना, किशमिश, मुनक्का। गाय के दही से बिलोया शुद्ध घी का सिमित प्रयोग, गेंहू का दलिया चोकर, मोटा …

Read More »

यकृत एवं पित्ताशय की पथरी का उपाए

यकृत एवं पित्ताशय की पथरी पित्ताशय एक छोटा सा अंग होता है जो लीवर (यकृत) के ठीक पीछे होता है। पित्ताशय यकृत द्वारा उत्पन्न पित्त को संग्रहित करता है। इसका कार्य पित्त को संग्रहित करना तथा भोजन के बाद पित्त नली के माध्यम से छोटी आंत में पित्त का स्त्राव करना है।पित्त रस वसा के अवशोषण में मदद करता है। …

Read More »
DMCA.com Protection Status