Saturday , 23 September 2017
Home » Major Disease » CANCER » पपीते के पत्ते 3rd और 4th स्टेज के कैंसर को सिर्फ 35 से 90 दिन में सही कर सकते हैं.

पपीते के पत्ते 3rd और 4th स्टेज के कैंसर को सिर्फ 35 से 90 दिन में सही कर सकते हैं.

Papeete ke patte cancer ko kar sakte hai sahi

अभी तक हम लोगों ने सिर्फ पपीते के पत्तों को बहुत ही सीमित तरीके से उपयोग किया होगा, बहरहाल प्लेटलेट्स के कम हो जाने पर या त्वचा सम्बन्धी या कोई और छोटा मोटा प्रयोग. मगर आज जो हम आपको बताने जा रहें हैं, ये वाकई आपको चौंका देगा, आप सिर्फ 5 हफ्तों में कैंसर जैसी भयंकर रोग को जड़ से ख़त्म कर सकते हैं. और ये कोई ऐसी ही कॉपी पेस्ट नहीं है, ये प्रकृति की शक्ति है और हमारे श्री बलबीर सिंह शेखावत जी की स्टडी है जो वर्तमान में as a Govt. Pharmacist अपनी सेवाएँ सीकर जिले में दे रहें हैं. आपके लिए नित नवीन जानकारियां लेकर आते हैं. तो आइये जानते हैं उन्ही से.

Papaya leaf for cancer treatment

कई प्रकार के वैज्ञानिक शोधो से पता लगा है कि पपीता के सभी भागो जैसे फल, तना, बीज,  पत्तिया, जड़ सभी के अन्दर कैंसर की कोशिका को नष्ट करने और उसके वृद्धि को रोकने की क्षमता पाई जाती है। विशेषकर पपीता की पत्तियों के अन्दर कैंसर की कोशिका को नष्ट करने और उसकी वृद्धि को रोकने का गुण अत्याधिक पाया जाता है।

University of florida ( 2010) और International doctors and researchers from US and japan में हुए शोधो से पता चला है की पपीता के पत्तो में कैंसर कोशिका को नष्ट करने की क्षमता पाई जाती है। Nam Dang MD, Phd जो कि एक शोधकर्ता है, के अनुसार पपीता की पत्तियां डायरेक्ट कैंसर को खत्म कर सकती है, उनके अनुसार पपीता कि पत्तिया लगभग 10 प्रकार के कैंसर को खत्म कर सकती है जिनमे मुख्य है.

  • breast cancer
  • lung cancer
  • liver cancer
  • pancreatic cancer
  • cervix cancer

इसमें जितनी ज्यादा मात्रा पपीता के पत्तियों की बढाई गयी है, उतना ही अच्छा परिणाम मिला है, अगर  पपीता की पत्तिया कैंसर को खत्म नहीं कर सकती है लकिन कैंसर की प्रोग्रेस को जरुर रोक देती है।

तो आइये जाने पपीता की पत्तिया कैंसर को कैसे खत्म करती है?? how papaya leaf can kill cancer ??

  1. पपीता कैंसर रोधी अणु Th1 cytokines की उत्पादन को बढाता है जो की इम्यून system को शक्ति प्रदान करता है जिससे कैंसर कोशिका को खत्म किया जाता है
  2. पपीता की पत्तियों में papain नमक एक प्रोटीन को तोड़ने ( proteolytic) वाला एंजाइम पाया जाता है जो कैंसर कोशिका पर मोजूद प्रोटीन के आवरण को तोड़ देता है जिससे कैंसर कोशिका शरीर में बचा रहना मुश्किल हो जाता है. Papain blood में जाकर macrophages को उतेजित करता है जो immune system को उतेजित करके कैंसर कोशिका को नष्ट करना शुरू करती है

chemotheraphy/ radiotheraphy और पपीता की पत्तियों के द्वारा ट्रीटमेंट में ये फर्क है कि chemotheraphy में immune system को दबाया जाता है जबकि पपीता immune system को उतेजित करता है, chemotheraphy और radiotheraphy में नार्मल कोशिका भी प्रभावित होती है पपीता सोर्फ़ कैंसर कोशिका को नष्ट करता है.

सबसे बड़ी बात के कैंसर के इलाज में पपीता का कोई side effect भी नहीं है

कैंसर में पपीते के सेवन की विधि – papeete ke patto se cancer ka ilaj

कैंसर में सबसे बढ़िया है पपीते की चाय. दिन में 3 से 4 बार पपीते की चाय बनायें, ये आपके लिए बहुत फायदेमंद होने वाली है. अब आइये जाने लेते हैं पपीते की चाय बनाने की विधि.

पपीते की चाय बनाने की अलग अलग विधियाँ हैं.

  1. 5 से 7 पपीता के पत्तो को पहले धूप में अच्छी तरह सुख ले फिर उसको छोटे छोटे टुकड़ों में तोड़ लो आप 500 ml पानी में कुछ पपीता के सूखे हुए पत्ते डाल कर अच्छी तरह उबाल लें. इतना उबाले के ये आधा रह जाए. इसको आप 125 ml करके दिन में दो बार पिए. और अगर ज्यादा बनाया है तो इसको आप दिन में 3 से 4 बार पियें. बाकी बचे हुए लिक्विड को फ्रीज में स्टोर का दे जरुरत पड़ने पर इस्तेमाल कर ले. और ध्यान रहे के इसको दोबारा गर्म मत करें.
  2. पपीते के 7 ताज़े पत्ते लें इनको अच्छे से हाथ से मसल लें. अभी इसको 1 Liter पानी में डालकर उबालें, जब यह 250 ml. रह जाए तो इसको छान कर 125 ml. करके दो बार में अर्थात सुबह और शाम को पी लें. यही प्रयोग आप दिन में 3 से 4 बार भी कर सकते हैं.

पपीते के पत्तों का जितना अधिक प्रयोग आप करेंगे उतना ही जल्दी आपको असर मिलेगा. और ये चाय पीने के आधे से एक घंटे तक आपको कुछ भी खाना पीना नहीं है.

The greatest anti-cancer properties of papaya are concentrated in its leaf extract. According to a research conducted by the journal of Ethnopharmacology, papaya leaf juice contains certain enzymes that have dramatic cancer fighting properties against a wide range of tumors such as cervix cancer, breast cancer, liver cancer, lung cancer and pancreatic cancer without any toxic effects on the body.  As a result, papaya leaf extract is often recommended as part of chemotherapy in some parts of the world. By regulating the T-cells, papaya leaf extract increases the immune system’s response to cancer.

कब तक करें ये प्रयोग. papite ke pato ka prayog cancer ke liye

वैसे तो ये प्रयोग आपको 5 हफ़्तों में अपना रिजल्ट दिखा देगा, फिर भी हम आपको इसे 3 महीने तक इस्तेमाल करने का निर्देश देंगे. और ये जिन लोगों का अनुभूत किया है उन लोगों ने उन लोगों को भी सही किया है, जिनकी कैंसर में तीसरी और चौथी स्टेज थी.

अगर किसी व्यक्ति को कैंसर हो तो वो इस प्रयोग के साथ में हमारी ये डाइट चार्ट ज़रूर फॉलो करें. इस डाइट चार्ट से कैंसर के हर स्थिति के मरीज को सही करने में बहुत सहायता मिलती है. इसको ज़रूर फॉलो करें.

[Only Ayurved Cancer Diet Chart को अपना कर किसी भी स्टेज का कैंसर का मरीज सही हो सकता है]

 

3 comments

  1. पेट के कैंसर का इलाज
    गले के कैंसर का उपचार
    गले का कैंसर का इलाज
    गले के कैंसर का आयुर्वेदिक इलाज
    योग से कैंसर का इलाज
    मुख कैंसर का इलाज
    कैंसर का इलाज संभव है
    ब्लड कैंसर का इलाज
    कैंसर का लक्षण
    पेट के कैंसर का इलाज
    मुख कैंसर का इलाज
    कैंसर से बचाव
    योग से कैंसर का इलाज
    कैंसर का आयुर्वेदिक उपचार
    ब्लड कैंसर का इलाज
    कैंसर के इलाज में खर्च
    ayurvedic treatment for cancer in kerala
    ayurvedic treatment for cancer stage 4
    ayurvedic treatment for cancer patanjali
    ayurvedic treatment for liver cancer
    ayurvedic treatment for oral cancer
    ayurvedic treatment for cancer in mumbai
    ayurvedic treatment for lung cancer
    cancer treatment in ayurveda in hindi
    cancer ka ilaj

  2. Sir its very good for us I need your phone number

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
DMCA.com Protection Status