Friday , 16 November 2018
Home » How To » fitkari ka churn » फिटकरी का फुला बनाने की विधि और उस के मुह के छाले से लेकर कैंसर तक में उपयोग !!

फिटकरी का फुला बनाने की विधि और उस के मुह के छाले से लेकर कैंसर तक में उपयोग !!

फिटकरी का फुला बनाने की विधि।

आयुर्वेद में फिटकरी से बहुत सारे रोगों का निदान किया जाता है। इसको पानी में घोलकर या इसको सेंक कर इसका फूला बना कर इसका उपयोग किया जाता है। आइये जाने इसके फूला चूर्ण बनाने की विधि।

फिटकरी को पीसकर लोहे की कड़ाही में या तवे पर रखकर आग पर चढ़ा दे। फूलकर पानी हो जाएगी। जब सब फिटकरी पानी होकर नीचे की तरफ से खुश्क होने लगे तब उसी समय आंच तनिक कम करके किसी छुरी आदि से उल्टा दे। अब फिर दोबारा आंच थोड़ी तेज करे तांकि इस तरफ भी नीचे से खुश्क होने लगे। फिर इस खुश्क फूली फिटकरी का चूर्ण बनाकर रख ले। इस तरह फिटकरी का कई रोगो में सफलतापूर्वक बिना किसी हानि के में व्यवहार में लायी जाती हैं।

फिटकरी के फायदे दिलाएँ मुंह के छालों से राहत – Alum for Canker Sores in Hindi
यदि आप दर्दनाक मुंह के छाले से पीड़ित हैं, तो आप फिटकिरी के साथ कोशिश कर सकते हैं। फिटकिरी में जीवाणुरोधी गुण होते हैं, इसमें मौजूद नमक बैक्टीरिया की वजह से संक्रमण का सामना करता है और इस प्रकार यह जल्दी ठीक होने में सहायता करता है। इसलिए आपको केवल प्रभावित क्षेत्र पर अल्म ब्लॉक को दबाना है। यह छालों पर जलन का कारण बनता है और यह बेहद दर्दनाक हो सकता है, इसलिए सावधान रहें। इसके अलावा, लार को न निगलें और इसे बच्चों से दूर रखें।

फिटकरी के लाभ माउथवाश के लिए – Alum for Mouthwash in Hindi
साँसों में बदबू के मुख्य कारणों में से एक है बैक्टीरिया का संग्रह, जो बदले में विषाक्त पदार्थों और एसिड का उत्पादन करते हैं। फिटकरी माउथवाश के साथ कुल्ला करना बैक्टीरिया विकास को रोकता है और जीवाणु को धोता है। फिटकरी माउथवाश बनाने के लिए, एक गिलास पानी उबालें और नमक की एक चुटकी मिलाएं। इसे ठीक से मिलाएं ताकि नमक पूरी तरह से घुल सकें। अब कुछ फिटकरी पाउडर डालें और उसे मिक्स करें। इस मिश्रण को ठंडा होने पर छान लें और कुल्ला करें। ध्यान रहे कि आप इसे निगले नहीं, खासकर यदि आप कच्चे पाउडर का उपयोग कर रहे हैं।

फिटकरी के गुण हैं जूँ मारने में सहायक – Alum for Head Lice in Hindi
फिटकरी पाउडर जूँ और उसके अंडो को मारने में सहायक है। इसके शक्तिशाली जीवाणुरोधी और कसैले गुण के कारण यह जूँ से निपटने के लिए एक पुराना उपाय है। फिटकरी पाउडर को पानी में मिलाएं। अब इस मिश्रण में थोड़ा सा टिया ट्री आयल मिलाएं। अब इस मिश्रण को अपने सिर पर लगाएं और 10 मिनट के लिए मसाज करें और ठंडे पानी के साथ धोएं। इसके बाद अपने बालों को शैम्पू और कंडीशन करना न भूलें। जूँ से छुटकारा पाने के लिए सप्ताह में दो दिन ऐसा करें। इसके अलावा शैम्पू के साथ फिटकरी को मिला कर सर धो लें तो रूसी ख़त्म हो जाएगी।

फिटकरी का उपयोग करें मुँहासे के लिए – Phitkari Uses for Acne in Hindi
मुल्तानी मिट्टी और अंडे के सफेद भाग के साथ इसका संयोजन मुँहासे से लड़ने और निशान हटा देने के लिए प्रभावी उपाय है। फिटकरी में एंटीसेप्टिक गुण मौजूद होते हैं। एक चम्मच मुल्तानी मिटटी, दो चम्मच अंडे का सफ़ेद भाग और एक चम्मच फिटकरी पाउडर को मिलाकर एक फेस पैक बनायें। इसे मुँहासे और मुँहासे के निशानों पर लगाएं और 15 मिनट के बादठंडे पानी से धो लें। इस उपाय को सप्ताह में 3 बार करें।

फिटकरी का इस्तेमाल करे आफ्टर शेव लोशन के रूप में – Alum as Aftershave Lotion in Hindi
शेव करने के बाद इसे आफ्टर शेव लोशन के रूप में उपयोग करें। इसे सदियों से शेविंग उपचार के रूप में उपयोग किया जाता है, अल्म अपनी त्वचा की टोन में सुधार करता है और इसे नरम बनाता है। इसे शेविंग के कारण कट्स के मामले में खून बहने को रोकने के लिए त्वरित उपाय के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है। उपयोग करने के लिए, शेव करने के बाद कुछ देर के लिए फिटकरी को रगड़ें और कुछ मिनटों के बाद ठंडे पानी से धो लें।

फिटकरी का प्रयोग एंटी-एजिंग के लिए – Phitkari ke Labh for Anti Ageing in Hindi
बहुत से लोग नहीं जानते हैं कि फिटकरी पाउडर में एंटी-एजिंग गुण होते हैं और इस प्रकार, परिपक्व उम्र बढ़ने से रोकता है और आपकी त्वचा को नरम, उज्ज्वल और सुंदर रखता है। फिटकरी का एक टुकड़ा लें और इसे पानी में गीला करें। अब उसे अपने चेहरे पर कुछ देर के लिए रगड़ो। यह आपकी त्वचा को एक सप्ताह के समय के भीतर कस देगा। अब अपना चेहरा ठंडे पानी से धो लें और अच्छी गुणवत्ता वाली मॉइस्चराइजर का उपयोग करें।

डिओडोरेंट के रूप कार्य करती है फिटकरी – Alum as a Deodorant in Hindi

यदि आप शरीर की गंध के बारे में चिंतित हैं, तो फिटकरी का उपयोग करें! इससे आपको बैक्टीरिया से लड़ने में मदद मिलेगी और आपके शरीर की गंध दूर हो जायेगी। यह प्रकृति में जीवाणुरोधी है और एक प्राकृतिक दुर्गंधहारक के रूप में प्रयोग किया जाता है। फिटकरी पाउडर लें और इसके लिए कुछ आँवला मिलाएं। इसके अलावा बगल के कालेपन को दूर करने के लिए फिटकरी से हर दिन थोड़ी देर रगड़ लें।

फिटकरी के लाभदायक गुण करें मांसपेशियों की ऐंठन को दूर – Fitkari ke Fayde for Muscle Cramps in Hindi
फिटकरी को जब हल्दी के साथ संयोजन में उपयोग किया जाता है तो यह मांसपेशियों की ऐंठन को दूर करने के लिए एकदम सही प्राकृतिक उपाय के रूप में कार्य करता है। फिटकरी और हल्दी के रक्त को पतला करने वाले एंटीसेप्टिक गुण अच्छे तरीके से मदद करते हैं। एक मोटी पेस्ट बनाने के लिए, एक चुटकी हल्दी और पानी के साथ सतह पर फिटकरी का एक टुकड़ा रगड़ें। इसे मांसपेशियों की ऐंठन पर लगाएं और स्वाभाविक रूप से शुष्क होने के लिए इसे छोड़ दें। दर्द और सूजन से छुटकारा पाने के लिए 2 से 3 दिनों के लिए इसे दिन में दो बार दोहराएं।

खांसी के लिए फिटकरी और हनी का सेवन – Alum and Honey for Cough in Hindi
अगर आपको खाँसी आ रही है  गले में कैंसर की शिकायत के कारण या आमतोर पर भी तो आधा ग्राम फिटकरी को शहद के साथ चाटें। 2-3 दिन में आपकी खाँसी दूर हो जाएगी। इसके अलावा फिटकरी को गर्म तवे पर फूला कर महीन भागों में पीस लीजिए। इसकी एक चुटकी मात्रा में गर्म पानी के साथ लें। इससे सर्दी जुकाम दूर हो जाता है और कैंसर के कारण आवाज न निकालने की समस्या में भी लाभ होता है

दाँत के लिए फिटकरी पाउडर है लाभकारी – Alum Powder for Teeth in Hindi

दाँत – अपने दाँतों को मजबूत, सफेद बनाने के लिए और साथ ही दाँतों और मसूड़ों से खून को रोकने के लिए एक पाउडर बनायें (20 ग्राम फिटकरी पाउडर और 10 ग्राम सेंधा नमक को मिलायें)। इस पाउडर से अपने दाँतों और मसूड़ों की हर दिन मालिश करें।

योनि की कसावट के लिए करे फिटकरी का उपयोग – Alum for Vagina Tightening in Hindi
2 ग्राम पाउडर और 8 टोला पानी को मिला लें। इस घोल से हर दिन योनि को धो लें – कुछ दिनों में आपकी योनि में कसावट आ जाएगी।

नकसीर में लाभकारी है फिटकरी – Fitkari ke Labh for Hemorrhage in Hindi
गर्मियों में नकसीर – गाय के दूध में थोड़ी से फिटकरी घोल लें। इसकी 2-3 बूँद अपनी नाक में डालें जिससे आपकी नाक से खून बहना बंद हो जाएगा।

अलम फॉर फीवर – Alum for Fever in Hindi
1 चुटकी फिटकरी को सौंठ से मिला के बताशे के साथ खायें। इससे आपको बुखार ख़त्म होगा।

मानव वीर्य और शुक्राणु पर फिटकरी (एल्यूमीनियम पोटेशियम सल्फेट) का प्रभाव पड़ता है। हालांकि, “इंडियन जर्नल ऑफ फिजियोलॉजी एंड फार्माकोलॉजी” 1998 में एक अध्ययन में, फिटकरी की अलग अलग एकाग्रता का शुक्राणु, गतिशीलता / मौत और वीर्य के फ्रक्टोज स्तर पर अलग-अलग प्रभाव पड़ता है। इसका उच्च एकाग्रता में उच्च प्रभाव पड़ता है।

गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान फिटकरी के सेवन के प्रतिकूल या दुष्प्रभाव की जांच के लिए कोई पर्याप्त अध्ययन नहीं है। इसलिए इसके सेवन न करने की सलाह दी जाती है।

फिटकरी के और भी बहुत सारे फ़ायदे हैं जैसे की शरीर के किसी भी भाग के कटने पर खून को बहने से फिटकरी रोकता है। साथ ही फिटकरी को मिलाकर पानी से गरारे करने पर आपके गले को आराम मिलता है। फिटकरी से आप अनचाहे बाल हटा सकते हैं और साथ ही आँखों के काले धब्बे भी दूर कर सकते हैं

2 comments

  1. Ye phula kya hota hai?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status