Tuesday , 20 November 2018
Home » Lungs » यह पौधा पुरानी से पुरानी खांसी Asthma TB Bronchitis और Copd को जड़ से उखाड़ देगा – Scientifically Proved
अस्थमा में अडूसा

यह पौधा पुरानी से पुरानी खांसी Asthma TB Bronchitis और Copd को जड़ से उखाड़ देगा – Scientifically Proved

आज हम  VASAKA ( अडूसा ) के पौधे की चर्चा कर रहे है. जो कि हर प्रकार की खाँसी को मिटाने की क्षमता रखता है आइये जाने कैसे ….

VASAKA के पोधे को सामान्यता ADULSA( अडूसा ) , MALABAR NUT और ADHATODA के नाम से जाना जाता है. इसका botanical नाम Adhatoda vasica है जो की Acanthaceae family से सम्बंधित है . इस पौधे की पत्तियों के रस को उपयोग में लिया जाता है

सामान्य बोलचाल की भाषा में इसके नाम है

  • Bengali – Bakas
  • Gujrati – Adsoge
  • Vasaka in Hindi – Arusha
  • Kannada – Adusoge
  • Malayalam – Adalodagam
  • Marathi – Adulsa
  • Sanskrit – Vasa
  • Tamil – Adatodai
  • Telugu – Addasaramu

अडूसा का रासायनिक संघटन

अडूसा की पतियों में मुख्य रूप से vasicine, vasicinone, 6 hydroxy vasicine पाया जाता है . vasicine आक्सीकृत होकर vasicinone में बदल जाता है. जो कि bronchodilator और expectorant है .

Bronchodilator – यह रसायन हमारे फेफड़ो की नलियों को खोलने या उन्हें relax करने का काम करते है . जिससे श्वास  लेने में आसानी रहती है .

Expectorant – यह वह रसायन है. जो बलगम  को पतला करके फेफड़ो से बाहर निकालने में सहायक होते है

अडूसा के स्वास्थ्य लाभ Health benefit of adulsa in hindi

अडूसा की पत्तियों के रस को हर प्रकार की cough ( खासी ) में उपयोग किया जा सकता है .

अडूसा एक बहुत ही अच्छा bronchodilator और expectorant है जो की हमारी श्वास नलियों को खोलने का काम करता है .और फेफड़ो में जमा cough ( बलगम ) को ढीला करके फेफड़ो से बाहर निकालता है .

asthma( दमा )

tuberculosis ( तपेदिक )

copd ( chronic obstructive pulmonary diseases )

bronchitis ( श्वास नलियों में सुजन )

जेसी बीमारियों से होने वाली भयंकर से भयंकर cough (खासी ) को रोकने के लिए किया जाता है .

अडूसा के इन्ही गुणों के कारण इसका उपयोग काफी सारीआयुर्वेदिक  cough सिरप में  किया जाता है . अडूसा में पाए जाने वाले vasicine से ही BROMHEXINE बनाया जाता है जो कि एलोपैथिक cough syrup का मुख्य घटक है

अडूसा को उपयोग करते समय याद रखने वाली बाते

ज्यादा मात्रा में इसका सेवन करने से उल्टी ओर दस्त हो सकते है .

 अतिविशेष-

गर्भावस्था के अंदर इसका उपयोग कभी भी नही करना चाहिए क्योकि इसमें पाया जाने वाला vasicine मुख्यता  oxytocin और methyl ergometrine की तरह काम करता है जो कि abortificient( गर्भपात करने वाले ) होते है इसलिए गर्भावस्था में अडूसा का सेवन कभी भी नहीं करना चाहिए नहीं तो गर्भपात हो सकता है .

 अडूसा को उपयोग करने का तरीका how to use adulsa

अडूसा के 4 से 5 पतियों के रस को शहद और अदरक के रस के साथ मिलकर लेने से हर प्रकार की cough (खासी ) में लाभ मिलता है .

 

डेंगू बुखार का काल हैं मेथी के पत्ते, और गिलोय पपीता तुलसी रातों-रात बढ़ाते हैं प्लेटलेट्स – अमृत रस

आजकल के मौसम में डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया और टाइफाइड जैसी बीमारियां बहुत ही आम हो गई हैं। बच्चे से लेकर बूढ़े तक हर कोई इन बीमारियों की चपेट में आ रहा है। डेंगू एक ऐसी जानलेवा बीमारी है जिसकी चपेट में आने पर व्यक्ति की मौत भी हो सकती है। यह रोग मच्छर के काटने से होता है। डेंगू के बारे में सबसे खास बात यह है कि इसके मच्छर दिन के समय काटते हैं तथा यह मच्छर साफ पानी में पनपते हैं। डेंगू के दौरान रोगी के जोड़ों और सिर में तेज दर्द होता है और बड़ों के मुकाबले यह बच्चों में ज्यादा तेजी से फैलता है।

डेंगू बुखार में प्लेटलेट्स का स्तर बहुत तेजी से नीचे गिरने के कारण यदि इसका इलाज तुरंत न किया जाए तो यह जानलेवा भी हो सकता है। डेंगू के इलाज में अगर आप अंग्रेजी दवाओं से कुछ खास असर नहीं दिख रहा है तो आप साथ साथ घरेलू नुस्खे भी अपना सकते हैं। हम आपको कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे बता रहे हैं जिन्हें अपनाकर आप डेंगू से छुटकारा पाने के साथ ही कुछ दिनों में रोगी की प्लेटलेट्स भी बढ़ा सकते हैं।

डेंगू बुखार का काल हैं मेथी के पत्ते।
डेंगू में रातों-रात प्लेटलेट्स बढ़ाते हैं गिलोय पपीता तुलसी ।

डेंगू के सब से आयुर्वेदिक दावा है अमृत रस ।

मेथी के पत्ते

डेंगू से बचाव के लिए मेथी के पत्ते बहुत फायदेमंद होते हैं। ये बुखार को ठीक करने में मददगार होते हैं। मेथी से शरीर के विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं जिससे डेंगू के वायरस भी खत्म होते हैं। मेथी के पत्ते पीड़ित का दर्द दूर कर उसे आसानी से नींद में भी मदद करते हैं। इसकी पत्तियों को पानी में भिगोकर उसके पानी को पीने से प्लेटलेट्स भी बहुत जल्दी बढ़ती हैं। इसके अलावा मेथी के पत्तों को पानी में उबालकर हर्बल चाय के रूप में इसका प्रयोग किया जा सकता है।

प्लेटलेट बढ़ाने के लिए गिलोय

गिलोय की बेल का सत्व मरीज को दिन में 2-3 बार दें, या गिलोय के 7-8 पत्‍तों को लेकर कुचल लें उसमें 4-5 तुलसी की पत्तियां लेकर एक गिलास पानी में मिला कर उबालकर काढा बना लीजिए और इसमें पपीता के 3-4 पत्तों का रस मिला कर लेने दिन में तीन चार लेने से रोगी को प्लेटलेट की मात्रा में तेजी से इजाफा होता है। प्लेटलेट बढ़ाने का इस से बढ़िया कोई इलाज नहीं है। यदि गिलोय की बेल आपको ना मिले तो किसी आयुर्वेदिक स्‍टोर से आप गिलोय घनवटी लेकर एक एक गोली रोगी को दिन में 3 बार दे सकते हैं।

प्रभावशाली दवा है बकरी का दूध

बकरी का दूध बहुत से लोगों को भले ही पसंद न हो लेकिन इसके फायदे बहुत हैं। डेंगू बुखार के लिए बकरी का दूध एक और बहुत ही प्रभावशाली दवा है। बकरी के दूध में गिरते हुए प्‍लेटलेट्स को तुरंत बढ़ाने की क्षमता होती है। डेंगू के उपचार के लिए रोगी को बकरी का कच्चा दूध थोड़ा-थोड़ा करके पिलाएं, इससे प्लेटलेट्स बढ़ने के साथ-साथ जोड़ों के दर्द में भी आराम मिलेगा।

ऐसे में शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने की बहुत आवश्यकता होती है, इसके लिए प्राकृति ने हमको 3 विशेष चीजें दी हैं जो आयुर्वेद के साथ एलॉपथी जगत में भी विशिष्ट स्थान रखती हैं. इनमे हैं गिलोय, तुलसी और पपीते के पत्ते. ये तीनों चीजें ही हमको स्वास्थ्य का भरपूर खजाना देते हैं. इन्ही सब गुणों को देखते हुए Only Ayurved ने इन तीनो को मिलाकर अमृत रस निकाला है, जिसको सिर्फ 3 से 5 दिन पीने से आपका किसी भी प्रकार का वायरल फीवर, स्वाइन फ्लू, डेंगू, मलेरिया इत्यादि में आराम हो सकता है. इसको आप दिन में 30 – 30 ml 3 बार गर्म या गुनगुने पानी के साथ लीजिये. और अनाज इत्यादि से परहेज करवाएं. सिर्फ फलाहार पर रहें. और चाय तो बिलकुल बंद कर दीजिये. Amrit Ras, Swine flu ka ilaj, dengue ka ilaj

इस के आलावा यह अमृत रस  रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में एवं स्वाइन फ्लू, डेंगू, Viral Fever,  typhoid, डायबिटीज , सुजन, गठिया, आर्थराइटिस, सोरैसिस, एक्जिमा, मुहासे, इत्यादि के लिए बेहद लाभकारी है एवं यह प्राकृतिक रक्त शोधक भी है .

गिलोय पपीता और तुलसी से बना Amrit Ras, Swine Flu ka ilaj

इन सभी चीजो को देखते हुए Only Ayurved ने इन तीनो चीजो का स्वरस निकला है, जिसमे गिलोय पपीता और तुलसी का स्वरस है यह अमृत रस छोटे मोटे बुखार से ले कर के किसी भी प्रकार के फ्लू से लड़ने में बेहद सक्षम है भयंकर रोगों में इस का सेवन 30 Ml. सुबह शाम एक गिलास पानी में और स्वस्थ व्यक्ति जो कबी बीमार नहीं होना चाहता वो इस का एक चम्मच सुबह शाम सेवन करें.

इस के आलावा यह अमृत रस  रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में एवं स्वाइन फ्लू, डेंगू, Viral Fever,  typhoid, डायबिटीज , सुजन, गठिया, आर्थराइटिस, सोरैसिस, एक्जिमा, मुहासे, इत्यादि के लिए बेहद लाभकारी है एवं यह प्राकृतिक रक्त शोधक भी है. Amrit Ras, Swine Flu ka ilaj, dengue ka ilaj

Amrit Ras कहाँ से मिलेगा. Swine Flu ka ilaj, dengue ka ilaj

अमृत रस की Franchisee लेने के लिए आप Only Ayurved के CEO चेतन सिंह जी से संपर्क कर सकते हैं 7014016190 और अगर आप ये प्रोडक्ट लेना चाहते हैं तो आप निमिन्लिखित जगहों पर संपर्क कर सकते हैं.

आपके नजदीकी Only Ayurved Dealer list और उनकी Location

बिहार

पटना – 7677551854, 7480099296

छत्तीसगढ़

बिलासपुर – 9584891808, 9926758959, 9300333438

रायपुर – 9644133772

दुर्ग भिलाई – 9691305217

झारखण्ड

मनिका – लातेहार – 9801290105

पश्चिम बंगाल – West Bengal

कोलकाता –  7003386968

असम

सिलचर – 9954000321

महाराष्ट्र

मालेगांव (नासिक) – डॉ. फरीद शेख 9860785490

धुले – 9860704470

नासिक – 9270928077

पुणे – 9209211786

अकोला – 7020579564

वर्धा – 9579997503

नागपुर – 8830998853

शोलापुर – 8308604642

कल्याण – 8454050864

टिटवाला – 9821315415

मलाड – 9967293444

घाटकोपर – 07738350032

बोरीवली – 9004316923

भंडारा – 9422174853

औरंगाबाद – 8208266068

विरार – 9892967369

अमरावती – 9765332255

कर्नाटक – Karnataka

धारवाड़ (Dharwad) – 9844984103

बैंगलोर (Bangalore) – 7019098485

तामिलनाडू

चेन्नई – 9884164854

तेलंगाना

हैदराबाद – 08374457775

गुजरात

अहमदाबाद – 9974019763

अहमदाबाद घाटलोडिया – 9974019763

पालनपुर ( डॉ. हिदायत मेमन )  –  9428371583

द्वारिका – 9033790000

चिकली – 9427869061

अमरेली – 9427888387

अंकलेश्वर – भरूच – 8460090090

बड़ोदा – 9725245318

सूरत –  8866181846

भुज / मुंद्रा  – 9974576143

मध्यप्रदेश

भोपाल – 7987552689

इटारसी – 6260342004

इंदौर – 9713500239

विदिशा – 9131055585

जबलपुर – 9039868554

ग्वालियर – 9229239248

कटनी – 9074901083

उत्तर प्रदेश

मेरठ – 8449471767

हाथरस ( U. P. ) –  9997397043, 7017840020

मथुरा ( वैध रविकांत जी ) – 9259883028

अलीगढ – 9027021056

आगरा – 8923234014

कासगंज – 7409463111

फ़िरोज़ाबाद – 8445222786 वैध रविन्द्र सिंह

मैनपुरी – 8449601801

फ़र्रुख़ाबाद – 9839196374

रायबरेली – 9236038215

वाराणसी – 9125349199

इलाहाबाद ( डॉ.  सी. पी. सिंह ) – 9520303303

गोरखपुर – 9792960999

सिद्धार्थ नगर – 9936404080

महाराजगंज – 9455426806

लखनऊ – 8417856005

इटावा – 9557463131 डॉ. कौशलेन्द्र सिंह

दिल्ली –  NCR

सराय कालें खां –  9015439622, 9871490307

सुभाष नगर – 9911006202

गाज़ियाबाद – 9719077555

Greater Noida – 9310299100

गुडगाँव – 9310330050

फ़रीदाबाद – 9315154682

हरियाणा

हिसार – 9518884444

हसनपुर पलवल – 9050272757

पानीपत – 9812126662

बाढ़डा ( चरखी दादरी ) – 9813210584

फ़रीदाबाद – 9315154682

चंडीगढ़ – 9877330702

डबवाली – 9416218182

पंजाब

मोगा – 9988009713

बठिंडा – 9779566697

डबवाली – 9416218182

कोट कपूरा – 9872320227

मलोट – 9878100518

मलेर कोटला – 9872439723

लुधियाणा – 9803772304

जालंधर – 9814832828

अमृतसर – 8872295800

होशियारपुर उड़मुड टांडा – 9803208718

गुरदासपुर – 9815483791

मोहाली – 09216411342

मुकेरियां – 9815296322

चंडीगढ़ – 9877330702

राजस्थान

जयपुर – 8290706173, 8005648255

दौसा – 7737497140

जोधपुर – 8005724956

बीकानेर – 7062169968

अजमेर – 7976779225

सिरोही – 9875238595

उदयपुर – 9875238595

टोंक – 9509392472

अजीतगढ़ – 8005648255

फतेहपुर शेखावाटी – 9636648998

उदयपुर वाटी (झुंझुनू)  डॉ राकेश कुमार – 9351606755

संगरिया – 7597714736

हिमाचल प्रदेश

नालागढ़ – 9816022153

कुल्लू – 8219500630

चिन्तपुरणी – 9816414561

अगर आप Only Ayurved के साथ मिलकर ये काम करना चाहते हैं तो संपर्क कीजिये

उत्तर प्रदेश 7017840020

महाराष्ट्र – 9860758490

मुंबई – 8454050864

गुजरात – 8866141846

बिहार – 7677551854

हरियाणा – 9315154682

पंजाब – 9779566697

मध्य प्रदेश – 7987552689

छत्तीसगढ़ – 9300333438

अन्य राज्यों के लिए संपर्क करें. 7014016190

One comment

  1. I am interested u have syp or tablet available
    I need call me 9960354518
    TB cough Bhar niklna hai

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status