Monday , 23 October 2017
Home » Health » fistula » भगन्दर रोग उपचार। (FISTULA-IN-ANO)

भगन्दर रोग उपचार। (FISTULA-IN-ANO)

Bhagandar ka ilaj, Fistula ka ilaj, Fistula treatment in Ayurveda, Fistula Treatment in hindi

कृपया इस पोस्ट को जितना हो सके शेयर करना हैं, इस रोग के मरीज को बेचारे को ना दिन को चैन हैं ना रात को आराम।

परिचय :

बवासीर बहुत पुराना होने पर भगन्दर हो जाता है। जिसे अंग़जी में फिस्टुला कहते हें। इसलिए बवासीर को नज़र अंदाज़ ना करे। भगन्दर का इलाज़ अगर ज्यादा समय तक ना करवाया जाये तो केंसर का रूप भी ले सकता है। जिसको रिक्टम केंसर कहते हें। जो कि जानलेवा साबित होता है। ऐसा होने की सम्भावना बहुत ही कम होती है ।

यह एक प्रकार का नाड़ी में होने वाला रोग है, जो गुदा और मलाशय के पास के भाग में होता है। ये रोग हमारी आज कल की घटिया जीवन शैली की देन हैं, जिसको हम बदलना नहीं चाहते। अपने खान पान पर पूरा ध्यान दे, कूड़ा करकट भोजन ना खाए, कोल्ड ड्रिंक्स तो बिलकुल भी ना पिए। भगन्दर में पीड़ाप्रद दानें गुदा के आस-पास निकलकर फूट जाते हैं। इस रोग में गुदा और वस्ति के चारो ओर योनि के समान त्वचा फैल जाती है, जिसे भगन्दर कहते हैं। `भग´ शब्द को वह अवयव समझा जाता है, जो गुदा और वस्ति के बीच में होता है। इस घाव (व्रण) का एक मुंख मलाशय के भीतर और दूसरा बाहर की ओर होता है। भगन्दर रोग अधिक पुराना होने पर हड्डी में सुराख बना देता है जिससे हडि्डयों से पीव निकलता रहता है और कभी-कभी खून भी आता है। कुछ दिन बाद इसी रास्ते से मल भी आने लगता है।
भगन्दर रोग अधिक कष्टकारी होता है। यह रोग जल्दी खत्म नहीं होता है। इस रोग के होने से रोगी में चिड़चिड़ापन हो जाता है। इस रोग को फिस्युला अथवा फिस्युला इन एनो भी कहते हैं।

इस रोग के उपचार में रोगी को पूरी तपस्या करनी पड़ती हैं, अपने खाने पीने के मामले में।

रोग के प्रकार :

भगन्दर आठ प्रकार का होता है-1. वातदोष से शतपोनक 2. पित्तदोष से उष्ट्र-ग्रीव 3. कफदोष से होने वाला 4. वात-कफ से ऋजु 5. वात-पित्त से परिक्षेपी 6. कफ पित्त से अर्शोज 7. शतादि से उन्मार्गी और 8. तीनों दोषों से शंबुकार्त नामक भगन्दर की उत्पति होती है।

1. शतपोनक नामक भगन्दर :

शतपोनक नामक भगन्दर रोग कसैली और रुखी वस्तुओं को अधिक खाने से होता है। जिससे पेट में वायु (गैस) बनता है जो घाव पैदा करती है। चिकित्सा न करने पर यह पक जाते हैं, जिससे अधिक दर्द होता हैं। इस व्रण के पक कर फूटने पर इससे लाल रंग का झाग बहता है, जिससे अधिक घाव निकल आते हैं। इस प्रकार के घाव होने पर उससे मल मूत्र आदि निकलने लगता है।

2. पित्तजन्य उष्ट्रग्रीव भगन्दर :

इस रोग में लाल रंग के दाने उत्पन्न हो कर पक जाते हैं, जिससे दुर्गन्ध से भरा हुआ पीव निकलने लगता है। दाने वाले जगह के आस पास खुजली होने के साथ हल्के दर्द के साथ गाढ़ी पीव निकलती रहती है।

3. कफदोष से होने वाला भगन्दर :

कफदोष से होने वाला भगन्दर से दुर्गन्ध से भरा हुआ पीव निकलता है।

4. वात-कफ से ऋजु :

वात-कफ से ऋजु नामक भगन्दर होता है जिसमें दानों से पीव धीरे-धीरे निकलती रहती है।

5. परिक्षेपी नामक भगन्दर :

इस रोग में वात-पित्त के मिश्रित लक्षण होते हैं।

6. ओर्शेज भगन्दर :

इसमें बवासीर के मूल स्थान से वात-पित्त निकलता है जिससे सूजन, जलन, खाज-खुजली आदि उत्पन्न होती है।

7. उन्मार्गी भगन्दर :

उन्मर्गी भगन्दर गुदा के पास कील-कांटे या नख लग जाने से होता है, जिससे गुदा में छोटे-छोटे कृमि उत्पन्न होकर अनेक छिद्र बना देते हैं। इस रोग का किसी भी दोष या उपसर्ग में शंका होने पर इसका जल्द इलाज करवाना चाहिए अन्यथा यह रोग धीरे-धीरे अधिक कष्टकारी हो जाता है।

8. शम्बुकावर्त नामक भगन्दर :

इस तरह के भगन्दर से भगन्दर वाले स्थान पर गाय के थन जैसी फुंसी निकल आती है। यह पीले रंग के साथ अनेक रंगो की होती है तथा इसमें तीन दोषों के मिश्रित लक्षण पाये जाते हैं।

लक्षण :

भगन्दर रोग उत्पंन होने के पहले गुदा के निकट खुजली, हडि्डयों में सुई जैसी चुभन, दर्द, दाह (जलन) तथा सूजन आदि लक्षण उत्पन्न होते हैं। भगन्दर के पूर्ण रुप से निकलने पर तीव्र वेदना (दर्द), नाड़ियों से लाल रंग का झाग तथा पीव आदि निकलना इसके मुख्य लक्षण हैं।

भोजन और परहेज :

आहार-विहार के असंयम से ही रोगों की उत्पत्ति होती है। इस तरह के रोगों में खाने-पीने का संयम न रखने पर यह बढ़ जाता है। अत: इस रोग में खास तौर पर आहार-विहार पर सावधानी बरतनी चाहिए। इस प्रकार के रोगों में सर्व प्रथम रोग की उत्पति के कारणों को दूर करना चाहिए क्योंकि उसके कारण को दूर किये बिना चिकित्सा में सफलता नहीं मिलती है। इस रोग में रोगी और चिकित्सक दोनों को सावधानी बरतनी चाहिए।

भगंदर की चिकित्सा

चोपचीनी और मिस्री

भगंदर के लिए चोपचीनी और मिस्री पीस कर इनके बराबर देशी घी मिलाइए।20-20 ग्राम के लड्डू बना कर सुबह शाम खाइए। परहेज नमक तेल खटाई चाय मसाले आदि हैं। अर्थात फीकी रोटी घी शक्कर से खा सकते हैं। दलिया बिना नमक का हलवा आदि खा सकते हैं। इससे 21 दिन में भगन्दर सही हो जायेगा। इसके साथ सुबह शाम १-१ चम्मच त्रिफला चूर्ण गुनगुने पानी के साथ ले। इसके साथ रात को सोते समय कोकल का चूर्ण आपको बाजार से मिल जाएगा वो एक चम्मच गुनगुने पानी के साथ ले। 21 दिन में भगन्दर सही हो जायेगा। ये बहुत लोगो द्वारा आज़माया हुआ नुस्खा हैं।

पुनर्नवाः

पुनर्नवा, हल्दी, सोंठ, हरड़, दारुहल्दी, गिलोय, चित्रक मूल, देवदार और भारंगी के मिश्रण को काढ़ा बनाकर पीने से सूजनयुक्त भगन्दर में अधिक लाभकारी होता है। पुनर्नवा शोथ-शमन कारी गुणों से युक्त होता है।
पुनर्नवा के मूल को वरुण (वरनद्ध की छाल के साथ काढ़ा बनाकर पीने से आंतरिक सूजन दूर होती है। इससे भगन्दर के नाड़ी-व्रण को बाहर-भीतर से भरने में सहायता मिलती है।

नीम:

नीम की पत्तियां, घी और तिल 5-5 ग्राम की मात्रा में लेकर कूट-पीसकर उसमें 20 ग्राम जौ के आटे को मिलाकर जल से लेप बनाएं। इस लेप को वस्त्र के टुकड़े पर फैलाकर भगन्दर पर बांधने से लाभ होता है।
नीम की पत्तियों को पीसकर भगन्दर पर लेप करने से भगन्दर की विकृति नष्ट होती है।

गुड़:

पुराना गुड़, नीलाथोथा, गन्दा बिरोजा तथा सिरस इन सबको बराबर मात्रा लेकर थोड़े से पानी में घोंटकर मलहम बना लें तथा उसे कपड़े पर लगाकर भगन्दर के घाव पर रखने से कुछ दिनों में ही यह रोग ठीक हो जाता है। अगर गुड पुराना ना हो तो आप नए गुड को थोड़ी देर धुप में रख दे, इसमें पुराने गुड जिने गुण आ जाएंगे।

शहद:

शहद और सेंधानमक को मिलाकर बत्ती बनायें। बत्ती को नासूर में रखने से भगन्दर रोग में आराम मिलता है।

केला और कपूर।

एक पके केले को बीच में चीरा लगा कर इस में चने के दाने के बराबर कपूर रख ले और इसको खाए, और खाने के एक घंटा पहले और एक घंटा बाद में कुछ भी नहीं खाना पीना।

अगर भगन्दर बहुत पुरानी हो और इन प्रयोगो से भी सही ना हो तो कृपया उचित शल्य कर्म करवाये। 

Click here to read about piles. बवासीर के लिए यहाँ पर क्लिक कर के पढ़े। 

70 comments

  1. भगन्दर रोग ke liye koi dava batyein jo market main uplabdh ho

  2. lal phul vali guldupehri ko piskar chatni banale aur ek chamach chatni subah sham pani je sath khali pet le. sath hi ek rui ke fohe par is chatni ko lapetkar is fohe ko pet saf hone ke bad andar rakh le har prakar ki samasya me turant aaram milne lagta hai va sujan bhi utar jati hai lagatar 1 saptah tak iske istemal se purani se purani bhagandar va bavasir dono thik hote hai.

  3. mene 2 baar srjri krai h lekin thik nhi ho pa raha hu 2wara jo opretion huaa h usme guda dwar pr fistula ka ched to bnd ho gya h lekin paani abhi bhi niklta h kpya koi upaye btaye bhut presan hu me is bimari se

  4. सर मुझे बबासीर है तीन बार मेरा आपरेशन हो चुका है मुझे कबज की भी परोबलम है मुझे ईलाज बतायें।
    धनयावाद

  5. Anus pass hone wale boil ka upchar bataien. 3rd time mujhe ushi Jagah boil Hua hai. Bohot dard hota hai.

  6. Sar mere 2 sal ka bacha ko bhi fistula he me kaya kar

  7. Suresh chaudhary

    Pl ur not comment in my problem’s

  8. Dr. Ji ye cokal churn nahi mil raha h bajar m is ke liye kya cokla churn le Saket h bataiyega

  9. Sir plz tell me jo advertise me pf2 cure medicine batayi ja rahi hai kya usase fistula 5 year old theek ho sakta hai?

  10. Isme sir kya Kya kha skte hai

  11. Mera fistula ko ek sal char mhine ho gye hai or me lgatar dwai le rhi hu homeopathic plz btaye ye jo billi ya kutte ki hddi Wali jo dwai hai usse shi ho jaega

  12. ap kab se pareshan ho yr mai pareshan hu

  13. रितेश पाण्डेय

    सर मुझे फिसर है कोई उपाय बताये

    • सदाबहार के फूल जो पंसारी के यहां मिल जाता हैं
      एक फूल रोज खाया करे
      बवासीर ठीक होजायेगी

  14. Gajendra Singh Attri

    Aapka address de do sir,I want to meet you.

  15. Dr ji kokal kon chiz hoti h phal ya tana photo bej dijiye plz sar 2 day wait karuga.sar

  16. sir mere ko 1 saal se bhagandar rog hai
    maine facebook par ayurved dr. se iska ilaaz poochha tha
    dr. saab ne 2 spoon amla churana subah aur shaam ko laine ko kaha hai
    aur saath main dood (milk) mein desi gaye ka ghee dalkar khane ko kaha
    kya yeh sahi upchaar hai
    aur sir dood to raat ko hi laina hai na
    plz send answer thanks

  17. Sir mujhe 2001 se 2009 tak har saal fistula ka problem tha. bohot asahniya taklif hoti thi. 1st time jab hua tab meri age – 13 thi mujhe mensus problem nahi thi. but uske baad jab bhi hua nearly 10 baar mensus me hi hota fistula ka ulcer hota tha. but last time jab hua tab mensus me na ane ki wajah se maine operation kar liya. but abhi wah fir se ho gaya. now i am 29 years. what i have to do? Sir pls reply.

  18. Sir mujhe 10 machine she bhagandr ki pareshani h plz btaye ye Ayurveda dawa she sahi hoga ya isko operate krana hoga air plz kol dawA btaye

  19. Very very useful knowledge

  20. manish kumar dubey

    satteshwar auraiya distt. auraiua ( u. p.)

  21. What is kokal .it is not available in pune.what is other name

  22. mitesh prajapati

    dear sir
    mu he gunda ke bich jyada khujali aati hai or dard hota hai koi aayourvedik dabai bata a jo bajar me aasani se mil jaye…ise koi kgatare ki bat to nahi haina sir…

  23. Sir muze b fistula ka problem ho raha hai 1 month se kya aap muze koi dawa bata sakte ho

  24. sir mere ko pahle bawasir tha masa wala masa apne se hi gir gaya lekin baad me bhagandar ho gaya os ka ilaj bhi kar vaya lekin koi
    faida nahi hoa 22 hazar lag
    gay opresion sucess nahi hoa dhage se kata dr.ne fistola ko auns ke paas ake vo gathan ho gaya vahi ek chota sa dana pak ta hai fir foot ta hai lekin dusri side me ek or gataan hai os me bhi bahut dard hota hai na vo pakta hai na hi foot ta hai sir bahut pareshan ho sir kuch samg
    me nahi ata kya karo dr. ko bhi bataya vo bolte hai jab tak pakega nahi my kuch nahi kar sakta ho sir meri shadi hone wali hai nov me 2 mahine ke baad kuch kariye sir bahut taklif me ho plzzzzz sir

  25. Ye chopchini ky ha

    • Sir ji muje bhagndr ki tklif he 3 shall se to koi aayurvidik dava btaiy K opreshn karvu or muje opreshn so dar lgta He please help mi sir

  26. 15 Sal pahle guda me funsi hui or apne ap futi Dard bahut Hua 15 Sal bad fir vahi Hua kya he ye bataey please bagli Dr ne bhgander bataye he eska esthai ejaj bataey please

  27. Sir plz give me your contact number
    I have a serious problem plz

  28. Kela or kapur kitne din tak khana kya es se bhgander ya babasir rog puri tarh se thik ho jayga bataey please sir mene alsi roj khana khane ke bad subh Sam alsi kha raha Hu kya alsi khana chahiye ki nahi bataey please

  29. sir muje badi bvasir hai since 5 year se ek bar guda me injaction bhi lagvaya per 3 mhine bad phir vhi problem.ab muje dar hai jesa ki me net par pdta hu ki khi bhagnder n ho jaye.sir please upay btaye jisse bhagnder n ho.

  30. Sir mene bhagandar ka char sutry
    karbane ke 3 den se bukhar a raha
    doctar ko dikhya par bukhar utar kar
    bapas a jata hai yesa 5 deno se raha
    hai me kya karu

  31. sir iske liye operation hi karne s solve hota h

  32. sar mera fistula 2013 sa hai.ek baar dhaga wala opretion dr sa feb ma karwaa. kuch din thik raha or ab fir ho gya hai.sar presan hai is bimari se koi perfect solution hai to plz btaye

  33. Sir muje 3shal fuels he koi upchar bataye
    I em gujrat se hu please help me

  34. जसवंत राजपूत

    सर मुझे पाईल्स और फिस्टोल भी है और मुझे ऑपरेशन से होने वाला दर्द से बहुत डर लगता है अतः आप निवेदन है कोई उपाय बताएं

  35. Mera name ranjit singh hae mujhe.bhagandar he mene kisi bangoli dr. Se oprestion bhi karwaya par koi faida nahi hua plz sir help me mae chhattisgard durg me rehta hu ..plz jo bhi btaye hindi me btaye..

  36. Sir mujhe 2din pahle guda duwar ke pass lagbhag 2 inch door ek fhoda ho gaya h jisme kaafi dard hai
    Baithne aur letne me kaafi takleef ho rahi
    Plz mujhe bataiye ki ye kahi bhagandar to nhi
    Aur iska ilaaz bhi bataiye plz sir reply me…???

  37. Sir muje fiser ha ma kya karu

  38. 2 years se bhakndar hai mai kya kru

  39. its a very helpful treatment for ayurved … Mere bi 15 mnth se tha but chopchini vala herbs se bot Vdya result mil rha hai .. so please everyone to use it ….thnx admin ….
    gbu

  40. Fistula Abhi 3 month de hai uska upay bataye

  41. Admin ji meri maa ko problem h unki age 65 sal h unke anus k raste h or vagina k raste se bhi mul ata h dono raste ek ho gae sath me bleeding hoti h.ye kya fistula h or bleeding ko kese roka jae.help $ solution .

  42. Sir mujhe fisser problem hai , mujhe khaane mei kiya lena chahiye
    kiya fissure फिशर problem mei GHEE khaana chahiye?
    plz reply

  43. Your Name (required):

    sir mujhe 2 sal pehle bhakender huwa tha or dhage se opratio

  44. Your Name (required):

    sir mujhe 2 sal pehle bhakender huwa tha or dhage se opration karwaya or o lagbhag thik ho gaya par uske dusre side me ek choti se ganth ban gai h aajkal or dard v hota h kya karu plz upchar bataiye.

  45. मेरे गुदाद्वार के पास 2 जगह फोडे की तरह निकल गया और उसमे बहुत दर्द हुआ तो डॉक्टर ने इंजेक्शन से उसमे से पस निकली फिर उसमे से रोज पस व् पानी जाता रहा और डॉक्टर ने betadine से पट्टी करने को कहा अब 2 महीने में वो जगह सुख गई पैर अब उसके पास ही एक और फोड़ा हो गया है जिसमे काफी दर्द है ओट उसमे तथा गुदाद्वार से पस व् पानी निकल रहा है और दर्द भी काफी है।शायद ये भगन्दर है अब मैं क्या इलाज़ करू जल्द बताये में बहुत परेशान हु।

    • आप इस लेख में लिखे हुए प्रयोग कीजिये. अगर ज्यादा प्रॉब्लम हो तो फिर ऑपरेशन ही एक मात्र विकल्प बचेगा.

  46. Ser g muje pehle bewasir ka ek bhut beda mejak tha jo ki mera tike dewara nikal geya lekin uske bad muje Fisher ho geya muje jelander rehne LG gayi jo ki ab dono thik h lekin ab muje wahi gusa ke as pas pani sa nikalta rehta h or kha risk bi rehti kl to muje bludgeoned bi aaya sahi se ser muje begandr ho gayi h please muje eska elaj betaiye bhut taklif hoti h m 21 sal ka hu or abi student hu ser g muje thik hona h please meri help kijiye bs apse yahi gujaris h .

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
DMCA.com Protection Status