Friday , 26 May 2017
Home » Child » बांझपन दूर कर गर्भ धारण करने के उपाय

बांझपन दूर कर गर्भ धारण करने के उपाय

methods-to-overcome-infertility in hindi

बाँझपन के कारण औरतो को बहुत कुछ सहना पड़ता है।वह हमेशा मानसिक रूप से दुखी रहती है तथा अपनेआप में हीनभावना महशुस करती है।लाखो की दवाओ और इलाज के बाद भी संतान के सुख से वंचित रहना पड़ता है।हमारे हजारो वर्ष पुराने आयुर्वेद में इसका इलाज संभव है।आइये जाने क्या हैं बाँझपन दूर करने के सचोट उपाय।

पहला उपाय

कस्तूरी 2 रत्ती, अफीम  एक ग्राम, केसर  एक ग्राम, जायफल  एक ग्राम, भांग के पत्ते 250 मिलीग्राम, पुराना गुड़  छह ग्राम, सफेद कत्था  छह ग्राम, सुपारी गुजराती 3 नग, लौंग 4 नग लें. इन सब औषधियों को कूट छानकर जंगली बेर के समान 10 गोलियाँ बना लेवे

सेवन विधि :-

मासिकधर्म के पश्चात् एक एक गोली सुबह शाम 5 दिन खिलायें।

नोट – इस योग के प्रयोग से 40-50 वर्ष की स्त्री (जिसे मासिक आ रहा हो) का भी बांझपन रोग दूर होकर गर्भ ठहर जाया करता है। यदि प्रथम मास के प्रयोग से गर्भ न ठहरे तो यह प्रयोग जब तक गर्भ न ठहरे दूसरे या तीसरे मास तक कर सकते है।यदि फिर भी गर्भ न ठहरे तो क्रमांक २ अथवा ३ का प्रयोग करे

उपाय क्रमांक :- 2

मोर के पंख के बीच वाले भाग (गहरा नीला) 9 नग लेकर गरम तवे पर भूनकर, बारीक पीसकर पुराने गुड़ में खूब मिलाकर नौ गोलियाँ बना लें। मासिक धर्म आने के दिनों में प्रतिदिन एक गोली 9 दिनों तक प्रातः सूर्योदय से पूर्व, देशी गाय के दूध के साथ सेवन करायें। इसके पश्चात् दम्पत्ति सहवास करें तो निश्चित गर्भ ठहर जायेगा। यदि प्रयोग प्रथम मास में असफल रहे तो पुनः दूसरे या तीसरे मास प्रयोग करें।

उपाय क्रमांक :-३

मासिकधर्म के पश्चात् प्रतिदिन 8 दिनों तक असली नागेश्वर का चूर्ण 3-3 ग्राम गाय के घी में मिलाकर सेवन करने से मात्र पहले या दूसरे महीने में ही अवश्य गर्भ ठहर जाता है। औषधि का सेवन प्रतिदिन दो बार सुबह शाम करायें।

उपाय क्रमांक :- 4

शिवलिंगी के बीज, नागौरी असगन्ध, असली नागकेशर, मुलहठी, कमलकेसर, असली वंशलोचन प्रत्येक 10-10 ग्राम, मिश्री 100 ग्राम लें। सभी औषधियों को कूट-पीसकर चूर्ण बनायें। मासिकधर्म के पश्चात् प्रतिदिन सुबह, दोपहर, शाम 6-6 ग्राम की मात्रा में बछड़े वाली गाय के दूध के साथ प्रयोग करने से तथा स्त्री पुरूष का एक माह पूर्व से ब्रह्मचर्य का पालन करने तथा औषधि प्रयोग के 12वीं रात्रि सहवास करने से अवश्य गर्भ रहता है। एक माह में एक बार ही सहवास करें। अधिक से अधिक चार माह के प्रयोग से ही अवश्य गर्भ ठहर जाता है।

4 comments

  1. masikdharm aa nahi raha to upay bataiye plz

  2. Ek meri bhabhi hai.jiski umar 40 sal hogi uske koi bacha nahi ho raha hai.or usane bahut angreji elaj karvaya h,lekin abhi tak koi fayda nahi ho raha h.or batut pareshan h.pls bataye ki kon si ayurved davai kam karegi.

  3. Blood suger ke baare mein btaay koi achook elaaj

  4. Dheerendra chauhan

    उपाय़ न-२ में मोर के पंख वाली गोली मासिक धम्र शुरू होने से पहले लेनी है य़ा शुरू होने वाले दिन से

Leave a Reply

Your email address will not be published.