Saturday , 17 November 2018
Home » आयुर्वेद » जड़ी बूटियाँ » बवासीर, मासिक विकार , वीर्य विकार, दाद , मिर्गी और नेत्र रोग में अत्यंत लाभकारी है अखरोट – walnut
अखरोट

बवासीर, मासिक विकार , वीर्य विकार, दाद , मिर्गी और नेत्र रोग में अत्यंत लाभकारी है अखरोट – walnut

Walnut, Walnut Benefits, Akhrot, Akhrot ke fayde, अखरोट , अखरोट के फायदे ,

अखरोट का परिचय :

अखरोट पर्णपाती , बहुत सुन्दर और सुघंधित वृक्ष होते है, स्थानभेद से तथा अंतस्तर के रूप के अनुसार इसके दो प्रकार होते है।

1. जंगली अखरोट
2. कागजी (कृषिजन्य) अखरोट

जंगली अखरोट : जंगली अखरोट 30 – 40 मी. तक ऊँचे, अपने आप उगने वाले तथा इस के फल का छिलका मोटा होता है ।

कागजी (कृषिजन्य) अखरोट : कागजी अखरोट 15 – 25 मी. तक ऊँचे होते है, तथा इस के फल का छिलका पतला होता है, इसकी मींगी स्वेत तथा स्वादिष्ट होती है।

[ ये भी पढ़िए सफ़ेद दाग का इलाज Safed daag ka ilaj ]

Walnut, Walnut Benefits, Akhrot, Akhrot ke fayde, अखरोट , अखरोट के फायदे ,

रासायनिक संघटन :

इस के कैफीक, क्लोरोजेनिक, सिनापिक, P-कौमेरिक,फेरुलिक, गैलिक, जेन्टिसिक, प्रोटोकैटेचुइक, सैलीसिलिक, वैनीलिक, यूजीनॉल,जेरानिक अम्ल तथा सिरिंजीक अम्ल है, इसकी छाल में रिजिओलोन पाया जाता है।
इस के पुष्प में जुगलों, एस्ट्राडिओल और स्टिगमास्टराल पाया जाता है।
इस के फल में जुगलनसिन, विटामिन A, B, एस्काबिर्क अम्ल, लोहा तत्व, फॉस्फोरस और जुगलों पाया जाता है, इस के मूलत्वक में जुगलों, साईक्लोट्राइजुगलोन, एवं बिसिजुगलोन पाया जाता है। Walnut, Walnut Benefits, Akhrot, Akhrot ke fayde, अखरोट , अखरोट के फायदे ,

[ ये भी पढ़िए bawasir ka ilaj बवासीर का इलाज ]

नेत्र रोग में अख़रोट का इस्तेमाल :

आँखों के ज्योति बढ़ने के लिए दो अखरोट हरड़ की गुठली को जलाकर उनकी भस्म के साथ चार काली मिर्च को पीसकर अंजन (काजल या सुरमा) करने से नेत्रों की ज्योति बढ़ती है।-Walnut, Walnut Benefits, Akhrot, Akhrot ke fayde, अखरोट , अखरोट के फायदे ,

बवासीर में अखरोट का इस्तेमाल :

अखरोट के तेल का फोहा गुदा में धारण धारण करने से बवासीर के कारण उत्पन्न वेदना अर्थात दर्द का शमन होता है।- Walnut, Walnut Benefits, Akhrot, Akhrot ke fayde, अखरोट , अखरोट के फायदे ,

[ ये भी पढ़िए कैंसर का इलाज Cancer ka ilaj ]

खुनी बवासीर :

2 – 3 ग्राम अखरोट फल और छाल भस्म को प्रातः छाछ के साथ तथा शांयकाल जल के साथ सेवन करने से रक्त का बहना रुक जाता है। – Walnut, Walnut Benefits, Akhrot, Akhrot ke fayde, अखरोट , अखरोट के फायदे ,

मासिक धर्म विकार :

20 – 30 ग्राम अखरोट फल को छिलका सहित कूटकर काढ़ा बनाये, काढ़ा में दो चमच्च शहद मिलकर 3 – 4 बार पिलाने से मासिक धर्म की रूकावट में लाभ होता है। इससे मासिक के समय होनेवाले दर्द लाभ होता है। -Walnut, Walnut Benefits, Akhrot, Akhrot ke fayde, अखरोट , अखरोट के फायदे ,

वीर्य विकार :

अखरोट के छिलके की भस्म बना ले और इसमें बराबर मात्रा में मिश्री मिलकर इसे 10 ग्राम तक की मात्रा में साथ 10 दिन सुबह शाम सेवन से धातुस्राव या वीर्यस्राव बंद होता है। -Walnut, Walnut Benefits, Akhrot, Akhrot ke fayde, अखरोट , अखरोट के फायदे ,

दाद अखरोट का इस्तेमाल :

सुबह बिना मंजन किये अखरोट की गिरी को मुँह से चबा कर दाद पर लगाने से कुछ दिनों में दाद में लाभ होता है।- Walnut, Walnut Benefits, Akhrot, Akhrot ke fayde, अखरोट , अखरोट के फायदे ,

[ ये भी पढ़िए घुटने के दर्द का इलाज, ghutne ke dard ka ialj ]

मिर्गी में अखरोट इस्तेमाल :

अखरोट की गिरी को निर्गुण्डी के रस में पीस कर अंजन करने से और 4 – 6 बूंद प्रतिदिन प्रातः काल खली पेट नाक में डालने से मिर्गी में लाभ होता है। -Walnut, Walnut Benefits, Akhrot, Akhrot ke fayde, अखरोट , अखरोट के फायदे ,

अन्य उपयोग :-Walnut, Walnut Benefits, Akhrot, Akhrot ke fayde, अखरोट , अखरोट के फायदे ,

Joint Rebuilder SYRUP & TAB – घुटनों का दर्द, कमर का दर्द, सर्वाइकल, साइटिका या स्लिप डिस्क सबकी रामबाण दवा

 

अखरोट के छाल के काढ़े से घावों को धोने से लाभ होता है और इस से घाव जल्दी भरता है।

Walnut, Walnut Benefits, Akhrot, Akhrot ke fayde, अखरोट , अखरोट के फायदे ,

10 ग्राम अखरोट की गिरी को 10 ग्राम मुनक्का के साथ सुबह खाना चाहिए . इस से शाररिक और मानसिक बल की पप्राप्ति होती है , यदि यह आप को न पचे तो इस की मात्रा कम कर दे ।

Walnut, Walnut Benefits, Akhrot, Akhrot ke fayde, अखरोट , अखरोट के फायदे ,

अखरोट फल के 10 से 20 ग्राम चिलको को 400 मिली जल में पका का काढ़ा बना कर सुबह शाम पिलाने से कब्ज में लाभ होता है ।

Walnut, Walnut Benefits, Akhrot, Akhrot ke fayde, अखरोट , अखरोट के फायदे ,

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status