Sunday , 23 February 2020
Home » आयुर्वेद » जड़ी बूटियाँ (page 2)

जड़ी बूटियाँ

पैरों की पिण्ड़लियों के पीछे नसो का गुच्छा के कारण, लक्षण और इसे जड़ से खत्म करे ये घरेलु उपाय

वेरिकोज वेन जब हाथ की नसे ( शिराएं ) फूल जाती हैं तो इसमें दर्द उत्पन्न होता है। यह शिराओं में अवरोध होने से होता है। इसको शिरो, ब्रह्म, सुषुम्ना नाड़ी, चक्रवात वाहिनी, स्नायु वात बस्ती और वात कुंडलिका आदि नामों से जाना जाता है। वेरीकोज़ वेन अर्थात पैरों की पिण्ड़लियों के पीछे नसो का गुच्छा बन जाना जो देखने में …

Read More »

शतावरी के औषधीय प्रयोग और रोगों में इस्तेमाल का वीभिन्न तरीके !!

शतावरी का प्रयोग (Uses of Shatavari As Per Ayurveda In Hindi) शतावरी का सेवन (How To Take Shatavari As Per Ayurveda In Hindi) प्रयोग निषेध (Contraindications To Use Of Shatavari As per Ayurveda In Hindi) shatavari ke fayde, shatavari ka upyog यह जड़ी बहुत ही उपयोगी है. यह सम्पूर्ण भारत में क्लाइंबर (climber) की तरह जो जंगल के क्षेत्रों पाई …

Read More »

जिन महिलाओं को गर्भ नहीं ठहरता, बार बार गर्भपात हो जाता है, सिस्ट हो, ल्युकोरिया इत्यादी का रामबाण

महिलाओं में प्रजनन तंत्र सम्बंधित बहुत सी समस्याए होती है। आज के लेख में हम ऐसी ही एक औषधि की चर्चा करने जा रहे है जो महिलाओंं में न केवल प्रजनन तंत्र की समस्याओ का समाधान करती है बल्कि जिन महिलाओं में बार बार गर्भपात होने का डर रहता हैं और जिनमे दूध का सत्राव कम होता है  उनमे भी …

Read More »

ये दो चीजे घर में है तो डेंगू, चिकुनगुनिया, मलेरिया और वायरल बुखार कभी किसी को भी नहीं होगा !!

डेंगू, चिकुनगुनिया, मलेरिया और वायरल बुखार आजकल के मौसम में बहुत तेजी से बढ़ने वाली बीमारियां हो गई हैं। देशभर में कई लोग इन बीमारियों की गिरफ्त में हैं। आलम ये है कि कई लोगों की इन बीमारियों के चलते मौत भी हो गई है। आज की स्थिति ये है कि भारत के कई राज्‍य इसकी चपेट में आ चुके …

Read More »

हजारो लाखो तो खर्च कर दिए पर अब और नहीं कई बिमारिओ का काल है ये औषधी – Scientifically Proven

Scientifically Proven इस औषधी के जितने गुण आप को हजारो खर्चने के बाद भी नहीं मिलेंगे !! चिया के बीज ( Chia Seeds for Health) चिया के बीज, तुलसी की प्रजाति के बहुत ही छोटे बीज होते हैं। ये शरीर को स्वस्थ बनाए रखने में बहुत फायदेमंद होते हैं। चिया के बीजों में कई औषधीय गुण भी होते हैं, जो …

Read More »

सामान्य पौधे, ये करते हैं इन बड़े रोगों में रामबाण का काम का कम करते है !!

पौधे और तमाम तरह की जड़ी-बूटियों को आदिवासी पूजा-पाठ में इस्तेमाल करते हैं। ग्रामीण अंचलों में इन्हीं सब जड़ी-बूटियों से रोगों का उपचार भी किया जाता है। आदिवासी जड़ी-बूटियों के इस्तेमाल से पहले इनकी पूजा करते हैं। ऐसी मान्यता है कि इससे जड़ी-बूटियों की क्षमता दुगुनी हो जाती है। इन जड़ी-बूटियों और उनके गुणों की पैरवी और पुष्टि आधुनिक विज्ञान …

Read More »

महंगी महंगी दवाएं खा खा कर थक चुकें हैं तो एक बार इसकी शरण में आ कर देखो।

मालकांगनी को चरक संहिता में शिरोविरेचनार्थ एवं उन्माद व् अपस्मार की चिक्तिसा में प्रयोग बताया है. सुश्रुत संहिता में ज्योतिषमिति तेल को शिरोविरेचनार्थ उन्माद व् अपस्मार के साथ में कुष्ठ की चिकित्सा में प्रयोग बताया है. मालकांगनी अर्थात ज्योतिषमिति का प्रयोग दिमाग को राकेट जैसा तेज़ करने, कमजोरी दूर करने, ताक़त बढाने, पुरुष रोगों में, कुष्ठ रोगों में,  मिर्गी जैसे कड़े रोगों …

Read More »

अमरबेल के दिव्य औषधिय गुण और 30 औषधीय प्रयोग !! जैसे यकृत, गठिया,छोटा कद, गंजापन…

 अमर बेल ( Amarbel ) एक पराश्रयी (दूसरों पर निर्भर) लता है, जो प्रकृति का चमत्कार ही कहा जा सकता है। बिना जड़ की यह बेल जिस वृक्ष पर फैलती है, अपना आहार उससे रस चूसने वाले सूत्र के माध्यम से प्राप्त कर लेती है। अमर बेल का रंग पीला और पत्ते बहुत ही बारीक तथा नहीं के बराबर होते हैं। …

Read More »

अरंडी का तेल ( Castor Seed oil ) के #61 फायदे( ब्यूटी, वेट लॉस, स्तनपान, पुरुषो के लिए, दांत आदि)

कैस्टर ऑयल के फायदे: Castor Seed oil benefits कैस्टर ऑयल ( Castor Seed oil ) क्या है और यह कैसे बनाया जाता है? कैस्टर ऑयल ( Castor Seed oil ) के विभिन्न प्रकार (जिसमें एक खरीदने के लिए?) सेहत एंव स्वास्थ के लिये कैस्टर ऑयल के फायदे त्वचा में कैस्टर ऑयल के फायदे बालों के लिये कैस्टर ऑयल ( Castor Seed oil ) के …

Read More »

आयुर्वैदिक भस्म और इस के प्रकार से जोड़ी सम्पूर्ण जानकारी !!!

आयुर्वेद में, निस्तापन (कैल्सिनेशन) से प्राप्त पदार्थों (औषधियों) को भस्म कहते हैं।  आयुर्वेद में भस्म, एक ऐसा पदार्थ जिसे पकाकर (निस्तापन) प्राप्त किया गया, के रूप में परिभाषित किया गया है। भस्म (जलाये जाने के बाद बचा अवशेष या जल कर राख कर देने के बाद बची सामग्री) और पिष्टी (बारीक पीसी हुई मणि या धातु) को आयुर्वेद में जड़ी बूटियों के साथ औषधीय रूप …

Read More »
DMCA.com Protection Status