Wednesday , 12 December 2018
Home » फल » पपीता » पपीते के बीज हैं उत्तम औषधी Best for “पेट, Skin, एंटी बैक्टीरियल, एंटी एलर्जी even more..

पपीते के बीज हैं उत्तम औषधी Best for “पेट, Skin, एंटी बैक्टीरियल, एंटी एलर्जी even more..

#uses of papaya seeds #health benefits papaya seeds

पपीता पेट और त्वचा के लिए बेहद लाभदायक माना जाता है। पपीते की तरह इसके बीजों के की भी कई स्वास्थ्य लाभ हैं। इनका इस्तेमाल दाद संक्रमण, कैंसर और बच्चों में पेट के कीड़े जैसी विभिन्न समस्याओं से निपटने के लिए किया जा सकता है।
पपीते के बीज भी उतने ही अनमोल और पोषण से भरपूर हैं, जितना पपीता। आइए जानते हैं, पपीते के बीजों के खास गुण –

1 एंटी बैक्टीरियल – पपीते के बीज, एंटी बैक्टीरियल होते हैं, जो बीमारी फैलाने वाले जीवाणुओं से आपकी रक्षा करते हैं।

2 कैंसर से बचाव – पपीते के बीज में पाए जाने तत्व कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से आपकी रक्षा करते हैं। कैंसर से बचने के लिए पपीते के सुखाए गए बीजों को पीसकर प्रयोग किया जा सकता है ।

[ ये भी पढ़िए सफ़ेद दाग का इलाज Safed daag ka ilaj ]

3 इंफेक्शन या एलर्जी – इंफेक्शन होने या शरीर के किसी भाग में जलन, सूजन या दर्द होने पर पपीते के बीज राहत देने का कार्य करते हैं।
4 लीवर – लीवर की समस्याओं से निजात दिलाकर पपीते के बीज उसे मजबूत बनाने का काम भी करते हैं। यह लीवर के लिए बेहतर दवा साबित होते हैं।

5 किडनी – पपीते के बीज किडनी के लिए भी बेहद फायदेमंद होते हैं। किडनी स्टोन और किडनी के ठीक तरीके से क्रियान्वयन में पपीते के बीज कारगर हैं।

6 बुखार – बुखार आने पर पपीते के बीज का सेवन काफी फायदेमंद होता है। इसमें मौजूद एंटी बैक्टीरियल तत्व बार- बार फैलने वाले जीवाणुओं से रक्षा करते हैं, और आपको स्वस्थ रखने में मदद करते हैं ।

7 पाचन तंत्र – पाचन तंत्र की मजबूती के लिए पपीते के बीज रामबाण इलाज है। इसके सेवन से पाचन ठीक से होता है, और पाचन संबंधी सारी समस्याएं खत्म हो जाती है।

सावधानी –

हालांकि गर्भवती महिलाओं को पपीते के बीज खाने से परहेज करना चाहिए. इससे गर्भपात होने का खतरा रहता है. इसके अलावा बहुत छोटे बच्चों को भी इसे खाने से परहेज करना चाहिए. पपीते के बीजों का सेवन करने के दौरान इस बात का ख्याल हमेशा रखना चाहिए कि इसकी मात्रा संतुलित हो.

[ ये भी पढ़िए bawasir ka ilaj बवासीर का इलाज ]

इसके सेवन की विधि.

पपीते के बीज आप कभी भी किसी भी समय खा सकते हैं. या पपीता खाते समय पपीते के साथ भी खा सकते हैं. इसको एक से तीन चम्मच तक खाया जा सकता है.

Here are the health benefits.

Cleaning the body

The content of certain acids and antioxidants in the seeds of papaya and honey helps remove all toxins in the body and other vital organs.

Kill the worms in the stomach

Eating papaya seeds is one of the best natural ways to get rid of worms in the stomach that can damage the digestive health.

Lose weight

The content of healthy lipids and potassium in a combination of papaya seeds and honey will increase the metabolic system in the body thus helping to lose weight.

Build muscle

The combination of papaya seeds and high honey will
proteins that help build muscle tissue and will make your body look firmer.

Fight fatigue

Papaya and honey seeds contain glucosinolates that help the body to fight fatigue.

Kill the flu virus

The content of antioxidants that affect the seeds of papaya and honey will make the immune system so more influential so useful to fight the flu virus.

Increases male fertility

The content of certain enzymes in papaya seeds has the ability to increase the number of male sperm so as to be of positive benefit to their fertility.

वात रोग, कोढ़, सफेद दाग, लकवा, मोटापा और नेत्र रोगों का काल – Skin Revier

कोढ़ का इलाज – वात रोग का इलाज – त्वचा रोग का इलाज – hathipav ka ilaj, psoraisis ka ilaj, skin reviver ark, skin reviver oil

आज हम Only Ayurved  में आप को बताने जा रहे है एक ऐसे काढ़े के बारे में  जिस के निरंतर  3 से 6 महीने सेवन करने से 18 प्रकार के भयंकर चर्म रोग जैसे सफ़ेद दाग, सोराइसिस , कोढ़ , पामा, विचर्चिका, कंडू, दाद, विस्फोटक, वलिपलित, छाया, नीलिका और व्यंग जैस रोगों में आराम आता है और 80 प्रकार के वात रोग जैसे आमवात, जोड़ो का दर्द, सुजन, जोड़ो में पानी भरना, हाथ पैरो में अकडन, जोड़ो का टेढ़ा मेढ़ा होना, शारीर के अंगो की आकृति बिगड़ जाना, यूरिक एसिड बढ़ना, गाउट, सायटिका , गर्दन और कमर में दर्द, एवं शरीर की सभी मांशपेशियों में दर्द , वातरक्त , कोढ़ उपदंश रोग, आतशक, श्लीपद ,हाथी पांव, अंग सुन्यता, पक्षाघात एकांगवात, फालिज, लिपोमा, मेद रोग, और नेत्र रोग इत्यादि 80 प्रकार के वात रोग को भी निरंतर 3 से 6 महीने लगातार अर्क पीने और तेल लगाने से नष्ट हो हो सकते है साथ  ही शारीर भी वायु के समान वेग वाला हो जाता है.

Skin Reviver formulation

मंजीठ, नागर मोथा, कूड़े की छाल या जड़, गिलोय, मीठाकूट,सौठ,  भारंगी कटेरी का पंचांग, बच, नीम की छाल, हल्दी, दारुहल्दी, हरड़, बहेड़ा, आंवला, परवल के पत्ते, कुटकी मुरवा , बायबिडंग, विजयसार, चीते की चाल, शतावर, त्रायमान, छोटी पीपल इंदर जौ, अडूसे के पत्ते, भांगरा, देवदारु, पाढ, खैरसार, लाल चंदन, निशोथ, बरना की छाल, चीरायत बावची, अमलतास का गूदा, संहोड़ा की छाल, बकायन, कंजा, अतीस, नेत्रबाला, इंद्रायण की जड़, धमासा सरिवा और पित्त-पापड़ा इन 25 दवाओं को बराबर बराबर लेकर पीस कूट कर रख लो इसमें से 2 तोले दवा लेकर डेढ़ पाव जल में काढा बनाओ और चौथाई पानी रहने पर छान लो.

Skin Reviver पीने की विधि

इस काढ़े में दो माशे पीपर का चूरन और दो माशे शुद्ध गूगल मिला कर पी लीजिये . इस तरह लगातार एक से तीन महीने पीने से वातरक्त 18 प्रकार के कोढ़, उपदंश रोग, आतशक, श्लीपद ,हाथी पांव, अंग सुन्यता, पक्षाघात एकांगवात, फालिज, मेद रोग, और नेत्र रोग नष्ट हो जाते है यदि इन दवाओ में कचनार के छाल, बबूल की छाल, सालसे की लकड़ी  सरफोंका ये र दवाए मिला ली जाय तो तब तो कहना ही क्या .इस अर्क को शुद्ध शहद या शरबत उन्नाव छह छह ग्राम मिला ली जाय तो यह और भी जल्दी आराम करता है . इस अर्क को 15-15 ml सुबह शाम लेना है अगर शुद्ध शहद या शरबत उन्नाव नहीं है तो एक कप सादा पानी में भी ले सकते है .

इस अर्क को शुद्ध शहद या शरबत उन्नाव छह छह ग्राम मिला कर पिने से अनेक कष्ट साध्य और वैधो के त्यागे हुए रोगियों को भी आराम मिलता है . जिन के शरीर को देखने से भी घृणा होती है , जिन्हें कोई पास भी बैठने नहीं देता है वे सब इस अर्क और तेल के इस्तेमाल से स्वर्ण की सी कान्ति वाले हो सकते है . ध्यान रहे आप को इस का इस्तेमाल करते समय धर्य रखना बोहोत जरुरी है परिणाम आप को अवश्य मिलेंगे पर जो इसे बीच में ही छोड़ देंगे उन्हें लाभ मिलेगा कह नहीं सकते है .

skin reviver, skin reviver ark, skin reviver oil, स्किन रीवाइवर तेल, स्किन रीवाइवर अर्क, ब्रह्मंजीस्ठादी क्वाथ, ब्रह्मंजीस्ठादी तेल, वात रोग का इलाज, कोढ़ का इलाज , सफेद दाग का इलाज, लकवा का इलाज, मोटापा का इलाज, नेत्र रोगों का इलाज, सोराइसिस का इलाज , कोढ़ का इलाज, पामा का इलाज, विचर्चिका का इलाज, कंडू का इलाज, दाद का इलाज, विस्फोटक का इलाज, वलिपलित का इलाज, छाया का इलाज, नीलिका का इलाज, व्यंग का इलाज

आपके नजदीकी Only Ayurved Dealer list और उनकी Location

बिहार

पटना – 7677551854, 7480099296

छपरा – 9473221039

छत्तीसगढ़

बिलासपुर – 9584891808, 9926758959, 9300333438

रायपुर – 9644133772

दुर्ग भिलाई – 9691305217

झारखण्ड

मनिका – लातेहार – 9801290105

पश्चिम बंगाल – West Bengal

कोलकाता –  7003386968

असम

सिलचर – 9954000321

महाराष्ट्र

मालेगांव (नासिक) – डॉ. फरीद शेख 9860785490

धुले – 9860704470

नासिक – 9270928077

पुणे – 9209211786

अकोला – 7020579564

वर्धा – 9579997503

नागपुर – 8830998853

शोलापुर – 8308604642

कल्याण – 8454050864

टिटवाला – 9821315415

मलाड – 9967293444

घाटकोपर – 07738350032

बोरीवली – 9004316923

भंडारा – 9422174853

औरंगाबाद – 8208266068

विरार – 9892967369

अमरावती – 9765332255

कर्नाटक – Karnataka

धारवाड़ (Dharwad) – 9844984103

बैंगलोर (Bangalore) – 7019098485

तामिलनाडू

चेन्नई – 9884164854

तेलंगाना

हैदराबाद – 08374457775

गुजरात

अहमदाबाद – 9974019763

अहमदाबाद घाटलोडिया – 9974019763

पालनपुर ( डॉ. हिदायत मेमन )  –  9428371583

द्वारिका – 9033790000

चिकली – 9427869061

अमरेली – 9427888387

अंकलेश्वर – भरूच – 8460090090

बड़ोदा – 9725245318

सूरत –  8866181846, 9879157588

भुज / मुंद्रा  – 9974576143

मध्यप्रदेश

भोपाल – 7987552689

इटारसी – 6260342004

इंदौर – 9713500239

विदिशा – 9131055585

जबलपुर – 9039868554

ग्वालियर – 9229239248

कटनी – 9074901083

उत्तर प्रदेश

मेरठ – 8449471767

हाथरस ( U. P. ) –  9997397043, 7017840020

मथुरा ( वैध रविकांत जी ) – 9259883028

अलीगढ – 9027021056

आगरा – 8923234014

कासगंज – 7409463111

फ़िरोज़ाबाद – 8445222786 वैध रविन्द्र सिंह

मैनपुरी – 8449601801

फ़र्रुख़ाबाद – 9839196374

रायबरेली – 9236038215

वाराणसी – 9125349199

इलाहाबाद ( डॉ.  सी. पी. सिंह ) – 9520303303

गोरखपुर – 9792960999

सिद्धार्थ नगर – 9936404080

महाराजगंज – 9455426806

लखनऊ – 8417856005

इटावा – 9557463131 डॉ. कौशलेन्द्र सिंह

दिल्ली –  NCR

सराय कालें खां –  9015439622, 9871490307

सुभाष नगर – 9911006202

गाज़ियाबाद – 9719077555

Greater Noida – 9310299100

गुडगाँव – 9310330050

फ़रीदाबाद – 9315154682

हरियाणा

हिसार – 9518884444

हसनपुर पलवल – 9050272757

पानीपत – 9812126662

बाढ़डा ( चरखी दादरी ) – 9813210584

फ़रीदाबाद – 9315154682

चंडीगढ़ – 9877330702

डबवाली – 9416218182

पंजाब

मोगा – 9988009713

बठिंडा – 9779566697

डबवाली – 9416218182

कोट कपूरा – 9872320227

मलोट – 9878100518

मलेर कोटला – 9872439723

लुधियाणा – 9803772304

रोपड़ – 9478391123, 8528386098

जालंधर – 9814832828

अमृतसर – 8872295800

होशियारपुर उड़मुड टांडा – 9803208718

गुरदासपुर – 9815483791

मोहाली – 09216411342

मुकेरियां – 9815296322

चंडीगढ़ – 9877330702

राजस्थान

जयपुर – 8290706173, 8005648255

दौसा – 7737497140

जोधपुर – 8005724956

बीकानेर – 7062169968

अजमेर – 7976779225

सिरोही – 9875238595

उदयपुर – 9875238595

टोंक – 9509392472

अजीतगढ़ – 8005648255

फतेहपुर शेखावाटी – 9636648998

उदयपुर वाटी (झुंझुनू)  डॉ राकेश कुमार – 9351606755

संगरिया – 7597714736

हिमाचल प्रदेश

नालागढ़ – 9816022153

कुल्लू – 8219500630

चिन्तपुरणी – 9816414561

अगर आप Only Ayurved के साथ मिलकर ये काम करना चाहते हैं तो संपर्क कीजिये

उत्तर प्रदेश 7017840020

महाराष्ट्र – 9860758490

मुंबई – 8454050864

गुजरात – 8866141846

बिहार – 7677551854

हरियाणा – 9315154682

पंजाब – 9779566697

मध्य प्रदेश – 7987552689

छत्तीसगढ़ – 9300333438

अन्य राज्यों के लिए संपर्क करें. 7014016190

[ ये भी पढ़िए कैंसर का इलाज Cancer ka ilaj ]

[ ये भी पढ़िए घुटने के दर्द का इलाज, ghutne ke dard ka ialj ]

 

33 comments

  1. ayurveda insan ke liye amrit saman he

  2. yogender k.jain

    लोह पुरुष बनना है तो च्यवनपर्ाश रोज़ लिया करें बेनाता

  3. बिश्व बस्न्यात

    पपीते कि बिज से फायदा ताे बताते है मगर इसके प्रयोग कि बिधिया नहिबताते ।

    • पपीते के बीज आप कभी भी किसी भी समय खा सकते हैं. या पपीता खाते समय पपीते के साथ भी खा सकते हैं. इसको एक से तीन चम्मच तक खाया जा सकता है.

  4. jagmohan singh negi

    बहुत ही लाभदायी जानकारी।

  5. Give me full information about Ayurved

  6. how to use seed of papayya

  7. how to use papayya seed

  8. Best……

  9. papite ke beej ko kis trah khana hai
    pl. detail se bateaye. thanks ayurveda charyas ji

  10. Mohammed Ishtiaq

    Papite k beej use kaise karna hai or kitni matra me plz detail it

  11. Papite Ke Beej Ko kaise Khanna hai & kitni qnty me khanna hai

  12. Papite ke beej khane ka niyam or matra bataye.

  13. गजब जानकारीयाँ

  14. use kaise krna h….

  15. Dheerendra Singhvi

    बीज कैसे
    एवं कितनी मात्रा में खाने चाहिए, यह बताएं

  16. kese khane h papite k bij

  17. Gout ka gharelu ilaj kya h

  18. Sir mujay gas ki probleam ha our wait bhi jayda ho raha ha please kyou acha elaz batao

    • 1. Drink 2 glass of water (try to keep water overnight in a copper glass/vessel/utensil) as soon you wake up in the morning (try to be early riser).
      2. Drink water like tea, sip by sip ( Take 5-10 minute time to drink total water)
      3. Before taking food during breakfast/lunch/snacks in evening and dinner, dring 1-2 glass of water 40 minute prior.
      4. Avoid drinking water during eating food.
      5. If badly required, take juice after morning/ butter milk i.e. chanch (in hindi) after lunch and hot milk after dinner.
      6. Drink water only after 1:30 hrs taking food a glass.

      If any one follow the 6 above steps, shall cure any stomach related problems like me and 100 of others to whom we have shared.

      ‘Be in nature, with nature, for nature’.

      Shree.

  19. Male infrtility me pit pakruti vale ke liye viry ko gadha or viry me sukaranu ki shankya or sukranu ki motility badhane ke aayurvedik upay bataiye adminji

  20. Very good information on Ayurveda .

  21. कृपया शिघृ पतन के लिए दवा बताओ

  22. नसों का फुल जाना गुच्छे बन जाना या नसों में दर्द का होना।muscular pain का होना।इसके लिए कोई दवा बताने का कष्ट करें।धन्यवाद

  23. शंकर प्रसाद काशी

    गोलबलाडर नहीं है पित पेट में काफी बनता है ।गैसटीक अल्सर है ।गैस बनता है कोई रामबान ईलाज बताए।

  24. sir gais ki koi medicine batayen bhookh bhi nhi lagti sath me kbj ki bhi shikayat hai

  25. kya कचऐ papete क बीज भी ले सेंकते ह

  26. I want to know about Ayurveda.

  27. is jankari ke liye ap ka shukriya

  28. दीपक वर्मा

    आपने पपीते के बीज कि जो मात्रा लिखी है, क्या वह उपर लिखी सभी बिमारियो मे ले सकते है ? क्रुपया स्पष्ट करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status