Friday , 16 November 2018
Home » Health » asthma » Asthma Treatment अस्थमा का रामबाण इलाज – Only Ayurved

Asthma Treatment अस्थमा का रामबाण इलाज – Only Ayurved

Asthma – अस्थमा श्वांस का ऐसा रोग है जिससे पीड़ित व्यक्ति को बेहद कष्ट का सामना करना पड़ता है. सांस फूल जाना, और बहुत कठिनाई से आना ये इसमें मुख्या लक्षण प्रतीत होते हैं. आज हम इसके लिए एक बेहद सरल सा रामबाण इलाज बता रहें है. आइये जाने अस्थमा का only आयुर्वेद इलाज.

इस प्रयोग के मुख्या घटक है –

सितोपलादि चूर्ण

शहद

सितोपलादि चूर्ण आप झंडू का या बैद्यनाथ या किसी भी अच्छी सी कंपनी का लीजिये. और शहद भी इनमे से ही किसी कंपनी का इस्तेमाल कीजिये. ये दोनों बेहद आसानी से मिल जाने वाले पदार्थ है. अब आइये जाने इसको प्रयोग करने की विधि.

Asthma treatment in hindi.

सितोपलादि चूर्ण को एक चुटकी लीजिये, अभी इसमें ज़रूरत के अनुसार थोडा शहद मिला लीजिये. अभी इसको अंगुली की सहायता से धीरे धीरे चाटना है. ऐसा दिन में दो बार करना है. सुबह और शाम. सुबह खाने के एक घंटे के बाद और रात को सोते समय. यह प्रयोग आपको एक से छः महीने तक करना पड़ सकता है. (ऐसा रोग की स्थिति के अनुसार है) यह प्रयोग बेहद सफल प्रयोग है. इसके लिए बस धैर्य की ज़रूरत है.

विशेष – इस प्रयोग को करने से अस्थमा के साथ साथ छाती के समस्त रोगों में फायदा होता है जैसे खांसी, जुकाम, बुखार इत्यादि.

ये भी पढ़ें

एक खास औषधी ह्रदय को करे मजबूत साथ ही कैंसर और अस्थमा में भी आश्चर्यजनक परिणाम !!

[ ये भी पढ़िए कैंसर का इलाज Cancer ka ilaj ]

अस्थमा में जंगली प्याज, ह्रदय में जंगली प्याज, कैंसर में जंगली प्याज, jangli pyaj in asthma, jagli pyaj in cancer, jangli pyaj in heart,  Indian squill for heart, Indian squill for asthma, Indian squill for cancer

Cardiotonic वो औषधियां होती है जो हार्ट को शक्ति देती है। ये औषधियां उस समय दी जाती है जब हमारा हार्ट शरीर के विभिन्न अंगो तक रक्त की सप्लाई पुरी मात्रा में नहीं कर पाता क्योकि हार्ट कमजोर होने के कारण रक्त की पम्पिंग सही ढंग से नहीं कर पाता है।जैसा की Congestive Heart Failure में होता है। Cardiotonic का उपयोग मुख्य रूप से निम्नलिखित परिस्थितियों में किया जाता है।

Indian squill for heart, Indian squill for asthma, Indian squill for cancer,  jangli pyaj, जंगली प्याज
  • Congestive Heart Failure
  • After Heart attack
  • Shock
  • Cardiac Surgical Procedures

आज हम Only Ayurved में ऐसी ही भारतीय औषधी की चर्चा करने जा रहे है जो हार्ट को शक्ति देती है इसका नाम है इंडियन स्कुइल (Indian squill) जो की Cardiotonic की श्रेणी में आती है इसका वैज्ञानिक नाम Urgenia Indica है इसके कंद को सुखाकर चूरण बनाकर उपयोग में लिया जा सकता है।

[ ये भी पढ़िए जोड़ो के दर्द का इलाज  jodo ke dard ka ilaj, Joint pian ka ilaj, जॉइंट पेन का इलाज ]

Indian squill for heart, Indian squill for asthma, Indian squill for cancer,  jangli pyaj, जंगली प्याज

इंडियन स्कुइल ( Indian squill )का सामान्य नाम।

  • जंगली प्याज ( Jangli Pyaj )
  • समुंद्री प्याज ( Sea onion)
  • सील्ला ( Scilla)
Indian squill for heart, Indian squill for asthma, Indian squill for cancer,  jangli pyaj, जंगली प्याज

सामान्य भाषाओँ में इंडियन स्कुइल (Indian squill) के नाम।

language Name
Bangali jangli pyaj
Gujrati jangli dun
Hindi Jangli pyaj
Kannada Kadu belulli
Malylam Kantena
Marathi Bhui-kanda
sanskarit Kolakanda
Tamil Nari-vengayam
Telgu Adevitellagadda

भारत में मुख्य रूप से कोंकण, उत्तर प्रदेश सहारनपुर, उत्तराखंड के गढ़वाल और कुमायूं ,पश्चिमी हिमालय और सौराष्ट्र में  पाया जाता है।

 Indian squill for heart, Indian squill for asthma, Indian squill for cancer,  jangli pyaj, जंगली प्याज

Chemical composition of Urgenia Indica

Urgenia Indica में मुख्य रूप से Scillaren A और Scillaren B  नमक कार्डियक ग्लाइकोसाइड पाए जाते है। जो हार्ट के लिए टॉनिक का काम करते है।

Urgenia Indica uses

  • Cardiotonic
  • ये diuretic होने के कारण मूत्र निकलने की मात्रा को बढ़ता है इससे ये Congestive Heart Failure के कारण आने वाली सुजन (Edema) को भी कम करता है।
  • ये क्रोनिक ब्रोंकाइटिस और अस्थमा में भी काफी प्रभावी है।
  • इसमें कैंसर रोधी गुण भी पाए जाते है।

[ ये भी पढ़िए सफ़ेद दाग का इलाज Safed daag ka ilaj ]

Indian squill for heart, Indian squill for asthma, Indian squill for cancer,  jangli pyaj, जंगली प्याज

ज्यादा मात्रा में लेने पर ये उल्टी और दस्त कर सकता है।

Dose

Urgenia Indica के कंद का चूरण 100 से 200 mg , सिरप 20 से 30 ml , टिन्चर 5 से 20 बूंदे।

नोट: ये लेख आपके ज्ञानवर्धन के लिए है किसी भी दवा को शुरू या बंद करने से पहले आपने डॉक्टर की राय लें  या स्वयं के विवेक से सोचे।.

Indian squill for heart, Indian squill for asthma, Indian squill for cancer,  jangli pyaj, जंगली प्याज

Refrence

Textbook of pharmacognosy 33rd edition by gokhale, kokate, purohit page no 204

[ ये भी पढ़िए bawasir ka ilaj बवासीर का इलाज ]

 

 

One comment

  1. मेरे पिता जी को सांस की समस्या है.सन 2000 में टी.बी. हुई थी. कोर्स पूरा किया था दवाइ ka. पर अब सांस बहुत फुलता है कोई कार्गार इलाज ब्तयेउम्र 70 साल

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status