Friday , 21 September 2018
Home » Health » baltod » बालतोड़ होने पर रामबाण नुस्खा – गेंहू की पेस्ट.

बालतोड़ होने पर रामबाण नुस्खा – गेंहू की पेस्ट.

बालतोड़ कोई रोग नहीं है, मगर हो जाए तो बड़ो बड़ो को असहाय कर देता है, कई बार ये इतना भयंकर हो जाता है के डॉक्टर इसको ऑपरेट तक भी करने की सलाह दे देते हैं. ऐसे में शरीर में कहीं भी बालतोड़ होने पर गेंहू की पेस्ट लगाना बहुत कारगर है. आइये जाने.

बालतोड़ होने पर रामबाण नुस्खा – गेंहू की पेस्ट.

गेंहू के एक दो दाने मुंह में डालकर चबाएं. चबाते चबाते मुंह में उसकी पेस्ट सी बना लीजिये, ध्यान रखें इनको निगलना नहीं हैं. यह पेस्ट बालतोड़ पर लगा दीजिये. तीन दिन तक दिन में सिर्फ एक बार यह प्रयोग करें. अगर बालतोड़ वाली जगह पर यह पेस्ट रुके नहीं तो यह पेस्ट लगा कर ऊपर से कोई बैंड ऐड जैसी कोई पट्टी लगा लीजिये. चौथे दिन बालतोड़ के स्थान को थोडा सा दबाने पर कील बाहर आएगी. इस जगह पर हल्दी भर दीजिये. बालतोड़ ठीक हो जायेगा.

रामबाण उपायों से करें बालतोड़ ठीक

जब शरीर के किसी भी हिस्‍से का एक भी बाल जड़ से टूट जाता है तो वहां घाव के साथ फोड़ा बन जाता है। और फिर इसमें पस बन जाती है। जिसे बालतोड़ के नाम से जाना जाता है। हालांकि बालतोड़ होना एक समान्य बात है, लेकिन इसमें असहनीय दर्द होता है और शरीर में बेचैनी बनी रहती है। दर्द इतना होता है कि कपड़ा लगने से भी पीडि़त इंसान चिल्‍ला उठता है। लेकिन अब आपको घबराने की जरूरत नहीं हैं क्‍योंकि आयुर्वेदिक उपायों के जरिए बालतोड़ के दर्द से निजात पाई जा सकती है। बालतोड़ को ठीक करने के आसान उपायों के बारे में आपको त्यागी पंचकर्मा और आयुर्वेदिक हॉस्पिटल की आयुर्वेद डॉक्‍टर शिल्पी बता रही है।

सूजन दूर करें हल्‍दी
आयुर्वेदिक डॉक्‍टर शिल्पी का कहना है कि बालतोड़ होने पर हल्‍दी पाउडर का लेप बनाकर लगाने से बालतोड़ से जल्‍दी छुटकारा मिलता है। हल्‍दी में मौजूद एंटी-इफ्लेमेटरी और नैचुरल ब्‍लड प्‍यूरीफायर गुण बालतोड़ के कारण होने वाली सूजन और दर्द को दूर करता है।

बालतोड़ के लिए मेहंदी
जिन लोगों को बालतोड़ वाले हिस्‍से में बहुत ज्‍यादा जलन होती है, उनके लिए मेहंदी बहुत ही उपयोगी उपाय हो सकता है। मेहंदी में मौजूद ठंडक गुण जलन को शांत करने में मदद करते हैं। जी हां पीसी हुई मेंहदी भिगोकर उसे बालतोड़ के स्थान पर गाढ़ा-गाढ़ा लेप सुबह और रात को लगाने से जलन के साथ-साथ बालतोड़ भी जल्‍दी ही ठीक हो जाता है।

4
एंटीबैक्टीरियल गुणों वाली नीम
नीम में एंटीबैक्टीरियल गुण के साथ एंटीमाइक्रोबियल गुण होता है। यह बालतोड़ को आपकी त्वचा से पूरी तरह और बिना किसी दुष्प्रभाव के हटा देता है। इसके लिए मुट्ठी भर नीम की पत्तियों को लेकर उसको पीसकर लेप बना लें। इसे त्‍वचा के प्रभावित हिस्‍से पर लगा लें।

एंटीबैक्टीरियल गुणों वाली नीम
प्‍याज में एंटीसेप्टिक गुण होते है, जिसके कारण यह बालतोड़ के उपचार में काम आता है। प्‍याज का एक स्‍लाइस घाव पर रखें और उसपर कपड़ा बांध लें। एक या दो घंटे के बाद इस कपड़े को हटा लें।

दही और जीरा पाउडर
दही और जीरे या काली मिर्च के पाउडर के इस्‍तेमाल से भी बालतोड़ को दूर किया जा सकता है। बस आपको जीरे को बारीक पीसकर उसे दही में मिलाकर पेस्‍ट बनाकर बालतोड़ पर लगाना है। इससे बालतोड़ की समस्‍या से जल्‍दी छुटकारा मिलता है। इन आयुर्वेदिक उपायों के जरिए आप बालतोड़ के दर्द से निजात पा सकते हो।

One comment

  1. Dr.Shrawan kumar yadav

    very useful guidlines ,thanks

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status