Thursday , 13 August 2020
Home » Health » memory » दिमाग की कमजोरी और याद दाश्त को बढाने का रामबाण उपाय।
दिमाग की कमजोरी

दिमाग की कमजोरी और याद दाश्त को बढाने का रामबाण उपाय।

दिमाग की कमजोरी और याद दाश्त को बढाने का रामबाण उपाय।

Boost Your Memory . – दिमाग की कमजोरी दूर.

दिमाग की कमजोरी और याद दाश्त को बढाने का रामबाण उपाय – आज कल भाग दौड़ भरी ज़िंदगी में हमारी याद दाश्त शक्ति इतनी कमज़ोर हो चुकी हैं के हमको ये तक याद नहीं रहता के हम सुबह किस से मिले, कल हमने क्या खाया, कहाँ गए। यहाँ तक के अपने ज़रूरी काम भी भूल जाते हैं, जिनकी वजह से हमको अक्सर बहुत परेशान होना पड़ता हैं। आइये जानते हैं मस्तिष्क और दिमाग की कमज़ोरी को दूर करने के सरल से मगर बेहद असरकारक घरेलु नुस्खे।

दिमाग की कमजोरी दूर करने का प्रयोग

सात दाने बादाम गिरी सांय काल किसी कांच के बर्तन में जल में भिगो दे, प्रात उनका छिलका उतार कर बारीक पीस ले, यदि आँखे कमज़ोर हो तो साथी ही ४ काली मिर्च पीस ले। इसे उबलते हुए 250 ग्राम दूध में मिलाये। जब तीन उफान आ जाए तो नीचे उतार कर एक चम्मच गाय का देसी घी और २ चम्मच बुरा चीनी डाल कर ठंडा करे। पीने लायक गर्म रह जाने पर इसे १५ दिन से ४० दिन तक ले। ये दूध मस्तिष्क और स्मरण शक्ति की कमज़ोरी दूर करने के लिए अति उत्तम होने के साथ वीर्य बल वर्धक हैं।

विशेष।

1. यह बादाम का दूध सर्दियों में विशेष लाभप्रद हैं। और दिमागी मेहनत करने वाले विद्यार्थियों के लिए अत्यंत उपयोगी हैं। प्रात खाली पेट इस दूध को लेने के बाद २ घंटो तक कुछ ना खाए।

2. उपरोक्त बादाम का दूध तीन चार दिन पीने से आधे सर के दर्द में आराम होता हैं।

3. बादाम को चन्दन के समान बरीकतम पीसना या खूब चबा कर मलाई की तरह कोमल बना कर सेवन करना आवश्यक हैं। इस से बादाम आसानी से हज़म हो जाने पर पूरा लाभ मिलता हैं। और कम बादाम से भी अधिक लाभ प्राप्त किया जा सकता हैं।

अन्य विधि –

यदि उपरोक्त विधि से बादाम का दूध लेना संभव ना हो तो सात भिगोई हुई बादाम की गिरिया छील कर (चार काली मिर्च के साथ पीस कर बारीक कर के अथवा वैसे ही ) एक एक बादाम को नित्य प्रात खूब चबा चबा कर खा ले और ऊपर से गर्म दूध पी ले। स्मरण शक्ति की वृद्धि के साथ इस से आँखों के अनेक रोग जैसे आँखों की कमज़ोरी, आँखों का थकना, आँखों से पानी गिरना, आँख आना आदि दूर हो जाते हैं।

विकल्प –

तीन ग्राम(एक चाय वाला चम्मच भर) शंखपुष्पी का चूर्ण दूध या मिश्री की चाशनी के साथ रोज़ाना प्रात तीन चार सप्ताह (विशेष कर गर्मियों में) तक लेने से स्मरण शक्ति बढ़ती हैं। और मस्तिष्क की दुर्बलता दूर होती हैं तथा विश्लेषणात्मक बुद्धि बढ़ती हैं। हरी शंखपुष्पी (पंचांग) 10 ग्राम घोट छान कर दूध मिला कर ठंडाई की भाँती भी ले सकते हैं।

 

3 comments

  1. What are the benefits of “Amla murabba” & how it is prepared .

  2. Sir mouth me chale bar bar ho jate h… pl info me

  3. Can you please send these help tips to my Gmail
    Account

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status