Tuesday , 18 December 2018
Home » Health » दांत » जानें कैसे दांत कर सकते हैं आपके शरीर को प्रभावित

जानें कैसे दांत कर सकते हैं आपके शरीर को प्रभावित

जानें कैसे दांत कर सकते हैं आपके पाचन तंत्र को प्रभावित

स्‍वस्‍थ दांत पूरे शरीर के स्‍वास्‍थ्‍य से संबंधित होते हैं, लेकिन दांतों की ठीक प्रकार से सफाई न होने से इसमें पैदा हुए बैक्टीरिया खाने के साथ पेट में जाते हैं और इससे आपका पौष्टिक आहार भी अनहेल्‍दी हो जाता है।

1:- दांत और पाचन तंत्र में संबंध
भोजन के पाचन की शुरुआत मुंह से ही होती है। आपका पाचन तंत्र पाचन प्रणाली के साथ भोजन को चलाता है और खाद्य पदार्थ को तोड़ता (विखंडित) है जिससे शरीर खाद्य पदार्थों में मौजूद पोषक तत्वों का उपयोग कर सके। आपके दांतों का स्वास्थ्य, खाद्य पदार्थ को विघटित करने में मदद करता है, आपके पाचन तंत्र के द्वारा खाद्य पदार्थ को संसोंधित करना सुनिश्चित करता है। तो यदि दांत साफ न हों तो आपके पाचन तंत्र पर को नुकसान हो सकता है|

2:- दांतों का महत्व
हमारे दांत हमारी खुराक को पेट में पहुंचाने के लिए प्रवेशद्वार की ही तरह नहीं बल्कि चैकपोस्ट का भी काम करते है। दांतों की ठीक प्रकार से सफाई न होने पर दांतों का बैक्टीरिया भी खुराक के साथ पेट में चला जाता है और पौष्टिक खुराक भी स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं रह पाती।

3:-पाचन तंत्र
आपका पाचन तंत्र अपने मुंह में शुरू होता है और गुदा पर समाप्त होता है। स्नायु पाचन तंत्र के माध्यम से भोजन को चलाता है ताकि पाचन तंत्र भोजन को तोड़ पाए और शरीर को विकास और रखरखाव के लिये जरूरी पोषक तत्व मिल पाएं। खाने के टूटने (विखंडन) की प्रक्रिया लार में मौजूद एंजाइम एमिलेज उसे चबाने के दौरान करता है। तो यदि दांत और मुंह साफ न हो तो पाचन पर भी फर्क पड़ता है।

4:- दांतों का काम
दांत के विभिन्न प्रकारों का खाने में तथा भोजन को पाचन तंत्र के लिए तैयार करने में अलग-अलग काम और महत्व होता है। यही कारण है कि मुंह में अलग-अलग प्रकार के दांत होते हैं। तो यदि किसी भी प्रकार के दांत की कार्यप्रणाली में बाधा आये या वो स्वस्थ न हो तो समस्या हो सकती है।

5:- समस्याएं
दर्द, टेड़ा-मेड़ा पन, संक्रमण, मसूड़ों की बीमारी आदि भोजन को चबाने आर उसके विखंडन को प्रभावित करता है और पाचन धीमा हो जाता है। साथ ही दांतों की समस्या के चलते आप कई प्रकार के जरूरी पौष्टिक फल और सब्जियां व अन्य खाद्य पदार्थ भी नहीं खा पाते हैं।

6:- दांतों के रोगों से बचाव
बहुत से लोगों को ऐसा लगता है कि दांतों की समस्याएं केवल बच्चों में होती है। लेकिन वास्तव में तो यह समस्याएं किसी भी उम्र के इंसान को हो सकती है। अगर आप बहुत मीठा खाते हैं और दांतों की ठीक प्रकार से सफाई नहीं करते, तो आपके दांत भी खराब हो सकते हैं। दांतों की साफ सफाई रखकर आप दांतों और मसूड़ों की बीमारियों की आशंका को काफी कम कर सकते हैं।

7:- दांत साफ़ करने का सही तरीका
वैसे तो हर बार खाने के बाद दांत साफ़ करने चाहिए लेकिन व्यवहारिक तौर पर ऐसा नहीं हो पाता है। ऐसे में दिन में कम से कम दो बार दांत साफ़ अवश्य करने चाहिये और हर बार खाने के बाद कुल्ला ज़रूर करना चाहिये। दाँतो की सफाई में काम से काम 5 मिनट ज़ोर देने चाहिए। कई लोग दांतों को बहुत जोर लगाकर ब्रश से साफ करते हैं, जोकि गलत है। ब्रश से आपके दांत साफ़ नहीं होते अपितु घिस जाते हैं। दांतों को हमेशा दातुन या मंजन से साफ करना चाहिेये। इसमें सामान्तया नीम, बबूल, या शीशम की दातुन या कोई आयुर्वेदिक मंजन इस्तेमाल करे, इस से आपके दांत स्वस्थ और मज़बूत रहेंगे। कई गाँवो में तो अब भी कुछ लोग चूल्हे की राख से मंजन करते हैं, और उनके दांत 100 साल की उम्र में भी बिलकुल स्वस्थ हमने देखे हैं। इसका ताज़ा उदहारण एक विदेशी कंपनी हैं जो अब अपना उत्पाद ये कह कर बेच रही हैं के उस में चारकोल हैं, जबकि हमारे पूर्वज तो कब से इस रहस्य को जानते थे, मगर उन्होंने पहले हमको ये कह कर मुर्ख बनाया के हम लोग कोयले से दांत घिसते हैं, और आज झक मार कर इस को कबूल किया।

पहचानिये पेस्ट के षड़यंत्र को। 
कोलगेट पेप्सोडेंट क्लोज अप आदि सेहत के लिए ऐसी घातक है के ये धीरे धीरे आपको मौत के मुह में ले कर जाती हैं, जब ये चीजे आपके मुह में जाती हैं तो ये कहना कोई गलत नहीं होगा के चाहे थोड़ी मात्र में ही सही ये आपके शरीर में प्रविष्ट करती हैं, और ये कम्पनीज खुद मानती हैं के अगर कोई आदमी या बच्चा ये निगल ले तो तुरंत डॉक्टर को दिखाए क्यों के इस से कैंसर तक हो सकता हैं, जहाँ से ये कंपनिया आती हैं, इनके देश के अपने कानून इतने कड़े हैं वह इनको ये लिखना पड़ता हैं के इसकी बहुत थोड़ी मात्र इस्तेमाल करे, और गलती से निगल से तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करे और ५ साल से छोटे बच्चो को इस से दूर रखे और अगर वो करे तो किसी निरीक्षक की देख रेख में। और हम यहाँ खुद अपने बच्चो को ब्रश पर बड़ी सी पेस्ट लगा कर देते हैं और खुश होते हैं के हमारे बच्चे ने ब्रश करना सीख लिया, वरन उसको बीमारियो के मुह में खुद ही भेज रहे हैं। इसलिए सावधान। आज ही इनको अपने घर से बाहर निकालिये, और काले अंग्रेजो से भी बचे, जो भारतीय कंपनिया भी आपको पेस्ट दे रही हैं, वो भी आपकी मित्र नहीं, आप बचना चाहते है तो सिर्फ मंजन या दातुन ही कीजिये।

टूथ पेस्ट की हकीकत। Reality of Tooth Paste.

7 comments

  1. Plz let me know the solution for sensation of teeth. I m using SENSODYNE repair and protect since last one mon month but still there is no improvement.

  2. Namaste Sir, Accident Se Mere Muh Par Chot Aane Se Daanto Ki Jade Kamjor Ho Gayi h Daant Hilne Lag Gaye hain, Kya Ayurved me Daanto Ki Jade Majbut Karne Ka Koi Upaay Ho To Please Bataiye

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status