Monday , 23 July 2018
Home » Health » wbc count » WBC के कम होने से या ज्यादा होने पर ये घरेलु इलाज ही बचा सकते हैं आपकी जान

WBC के कम होने से या ज्यादा होने पर ये घरेलु इलाज ही बचा सकते हैं आपकी जान

WBC Increase, TLC (Total Leukocyte count) Increase, Leukocytosis home Remedy

TLC अर्थात Total Leukocyte count जिनको WBC भी कहा जाता है. इनकी संख्या शरीर में अधिकतम 11000 तक होनी चाहिए. TLC बढ़ना बेहद खतरे का संकेत है, इस को Leucocytosis कहते हैं अगर TLC 80000 के ऊपर पहुँच जाए तो  ये ही  Leukemia अर्थात Blood Cancer हो सकता है. और कम हो जाए तो इसको Leukopenia कहते हैं. इस से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता खत्म होकर शरीर अनेक भयंकर रोगों से ग्रसित हो सकता है और छोटे छोटे रोग भी जल्दी से सही नहीं होते, और ये रोग जानलेवा हो जाते हैं जैसे टी बी, Aids के मरीज में रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने के कारण टी बी जैसी समस्या आसानी से हो जाती हैं, जो उसकी मौत का कारण भी बन जाती है. Www.onlyayurved.com

Leukocytes मुख्यतः हमारे शरीर को Infection से बचाने के लिए हमारे शरीर में मौजूद होते हैं. जब हमारे शरीर में किसी प्रकार का बाहरी तत्व जाता है जो हमारे शरीर में इन्फेक्शन फैलाने का काम करता है तो उस बाहरी तत्व से लड़ने के लिए सबसे पहले Leukocytes ही सामने आते हैं. ये उस बाहर तत्व से लड़ने के लिए अपनी संख्या बढाते हैं. इसी तरह से बाहरी संक्रमण को ख़त्म करने के लिए रोग प्रतिरोधक प्रणाली का एक मुख्य अंग हैं. www.onlyayurved.com

Leukocytes शरीर में मुख्य 5 प्रकार के पाए जाते हैं.

  1. Lymphocytes – Lymphocytes शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाए रखने के लिए सबसे पहला Defense Mechanism है, ये शरीर में Anti Bodies बनाती है, जो हमारे शरीर को बैक्टीरिया वायरस और अन्य प्रकार के बाहरी तत्वों से रक्षा करने में सहायता करते हैं. ये अक्सर Virus, Infection, T.B. Tuberculosis, Cancer और Leukemia के कारण बढती है.
  2. Neutrophils – Neutrophils बहुत ही ताक़तवर WBC है, ये बैक्टीरिया और फंगस को ख़त्म करती है. ये बैक्टीरिया या वायरस को अपने अन्दर समा लेती है और उसको Enzymetic process से उसको ख़त्म कर देती है. ये अक्सर किसी Infection, Injury, Rheumatoid Arthritis और Leukemia में बढ़ जाते हैं.
  3. Basophils – Basophils शरीर में Antigen और Antibodies के रिएक्शन के बाद कुछ केमिकल को रक्त के अन्दर निकालने का काम करती है. ये अक्सर Hypo Thyrodism में बढ़ते हैं,
  4. Eosinophils – Eosinophils ये Paracites और कैंसर सेल्स को नष्ट करने का काम करते हैं. ये अक्सर Allergic Condition में बढती है.
  5. Monocytes – Monocytes शरीर में आने वाले Germs, Bacteria, Fungus को नष्ट करने का काम करती है. ज़रूरत के समय Monocytes रक्त से निकलकर जिस अंग में इन्फेक्शन या विकार है ये उन अंगों में चली जाती है, और वहां पर जाकर ये Macrophage बन जाती है. Macrophage जो भी कैंसर जन्य कोशिका है, या डैमेज टिश्यू है या डेड टिश्यू है उनको नष्ट करती है. Monocytes अक्सर शरीर में Chronic infection, Auto Immune Disorder, Blood Disorder और Cancer के होने के कारण बढ़ जाते हैं.

H.I.V. AIDS जैसी बीमारियाँ होने से शरीर का Immune System कमज़ोर हो जाता है अर्थात उनमे WBC की संख्या Normal से कम हो जाती है, जिस कारण H.I.V. के मरीज को दूसरी बीमारियाँ होने के Chances बढ़ जाते हैं.

Leukocytes के बढ़ने का कारण, Leukocytes in hindi

Leukocytes के बढ़ने की प्रक्रिया को Leukocytosis कहा जाता है, ये मुख्यतः निमिन्लिखित परिस्थितियों में बढ़ जाते हैं. जैसे –

  • Infection
  • Immuno Suppression
  • Steroid Therapy
  • Bone Marrow or Immunity disorder
  • Certain Cancer like Leukemia 
  • Rheumatoid Arthritis
  • Injury
  • Emotional Stress
  • Labor Pregnancy
  • smoking
  • Allergic Reaction
  • Excessive Exercise
  • T.B.

Leukemia के लक्षण, Symptoms of Leukomia in hindi

  • रात को पसीना अधिक आना.
  • थकान और कमजोरी जो के आराम करने से भी सही नहीं होती.
  • एक दम से वजन कम होना
  • हड्डियों में दर्द होना
  • Lymph node में बिना दर्द के सूजन आना
  • Liver और तिल्ली (Spleen) का बढ़ना.
  • त्वचा पर लाल चकते.
  • छोटी मोटी चोट से तुरंत रक्त आना और रक्त का आसानी से न रुकना
  • बार बार इन्फेक्शन का होना

TLC कम करने के घरेलु उपाय.

TLC मुख्यतः शरीर में किसी भी प्रकार के इन्फेक्शन होने के कारण बढती है. सबसे पहले उस इन्फेक्शन को हटाने की कोशिश करनी चाहिए, प्रक्रितक रूप से हम इन्फेक्शन हटाने के लिए प्राकृतिक एंटी इन्फेक्टिव चीजों का सेवन कर सकते हैं. Allopathy में एंटी Biotics दी जाती हैं. जो इन्फेक्शन को कम करती है. जिससे TLC की काउंट कम हो जाती है. Www.onlyayurved.com

इन्फेक्शन को कम करने के लिए.

  • तुलसी
  • नीम
  • लहसुन
  • चिरायता
  • कुटकी
  • हल्दी
  • त्रिफला
  • त्रिकुटा

उपरोक्त चीजों को जैसे तुलसी रोजाना सुबह शाम 5 से 10 मि.ली. लो, नीम की पत्तियों का रस एक चममच लीजिये, और इसके साथ में कच्चा लहसुन दिन में ३ से 5 कलियाँ खाएं, इसके सेवन की विधि बहुत महत्वपूर्ण हैं, इसके लिए आप हमारी ये नीचे दी गयी पोस्ट ज़रूर पढ़ें. इसके बाद चिरायता, कुटकी, हल्दी, त्रिफला चूर्ण, त्रिकुटा चूर्ण ये सब 100 – 100 ग्राम ले लीजिये, त्रिफला चूर्ण 1:2:३ अनुपात से बनायें. अर्थात 1 भाग हरड, 2 भाग बहेड़ा, और ३ भाग आंवला इनको मिलवा कर चूर्ण तैयार करवा लीजिये. अभी इन सबको मिला कर रख लीजिये, और इसका एक एक चम्मच सुबह शाम पानी के साथ लीजिये. Www.onlyayurved.com

[लहसुन के सेवन की विधि]

उपरोक्त चीजों के सेवन से रक्त में बढे हुए TLC कम होते हैं. इनको आप अपनी चल रही Allopathy दवाओं के साथ लेते रहें. हम आपको कोई दवा बंद करने की सलाह नहीं दे रहे. आप ये अपने डॉक्टर से संपर्क कर के ही बंद करें.

अभी हम आपको बता रहें हैं अगर WBC अर्थात TLC कम हो जाए तो क्या करे.

TLC किन किन बिमारियों में कम हो जाती है.

  • HIV AIDS
  • Aplastic Anemia – ये एक प्रकार का Anemia है, जिसमे खून की कमी हो जाती है.
  • Auto Immune Disorder – इन रोगों में शरीर अपने सेल्स अपने आप ही नष्ट कर देता है. जैसे Rheumatoid arthritis, Vitiligo, Psoriasis, Irritable bowl Syndrome (IBS), Type – 1 Diabetes,
  • Lupus – ये एक प्रकार की त्वचा का रोग है.

अगर ये कम हो जाए तो व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता बिलकुल ख़त्म हो जाती है, जिस से व्यक्ति को कोई भी रोग आसानी से घेर लेता है और लम्बे समय तक बना रहता है. www.onlyayurved.com

इम्युनिटी बढाने के लिए शरीर को एंटी ऑक्सीडेंट, Flavonoid देने पड़ते हैं, ये हमारे शरीर को फ्री रेडिकल के प्रभाव से बचाते हैं. इसके अन्दर vitamin A, Vitamin C, Vitamin E ये तीनो एंटी ऑक्सीडेंट हैं. इनके लिए आप ये चीजें लीजिये जैसे.

  • अंगूर, मुनक्का
  • आंवला
  • गेंहू के जवारे का रस
  • टमाटर, पत्ता गोभी, लौकी, निम्बू, गाजर
  • सेब, शहतूत
  • सभी प्रकार की Berries
  • लौंग
  • दालचीनी
  • जीरा
  • अजवायन
  • अदरक
  • तुलसी
  • हल्दी
  • गौ मूत्र सिर्फ देसी गाय का जो गर्भवती ना हो.
  • सभी प्रकार के ड्राई फ्रूट्स
  • Olive Oil, Almond Oil

यही उपरोक्त घरेलु नुस्खे कैंसर और किसी भी प्रकार के इन्फेक्शन होने पर जिसमे WBC की संख्या बढ़ी हुई हो उसमे भी पूरी सफलता के साथ आजमाए जाने चाहिए.

इसके साथ ब्लड कैंसर और HIV के रोगी ये नीचे दी गयी पोस्ट क्लिक कर के ज़रूर पढ़ें. www.onlyayurved.com

[HIV का आयुर्वेदिक इलाज]

[कैंसर का रामबाण इलाज सिर्फ घरेलु नुस्खों से]

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status