Thursday , 20 September 2018
Home » Kitchen » FOOD » chatni » गर्मी में खायी जाने वाली पांच विशेष चटनिया

गर्मी में खायी जाने वाली पांच विशेष चटनिया

गर्मी में खायी जाने वाली पांच विशेष चटनिया

गर्मी में अक्सर ही खाना खाने को मन नहीं करता, गर्मी के दिनों में फल, शर्बत, लस्सी, जूस और सलाद का अधिक उपयोग करना चाहिए।  लेकिन इन्हीं के साथ अगर भोजन में आप चटनियों को स्थान देवें तो आपका भोजन अत्यंत लज़ीज़ हो जायेगा. और ये स्वाद को बढ़ाने के साथ-साथ आपको पोषण भी देती है। जानिए 5 तरह की मजेदार चटनियां और उनके फायदे और विधि।

1.कैरी यानि कच्चे आम की खटी-मीठी चटनी

सामग्री : कैरी – 3, प्याज – 1, जीरा – आधा छोटा चम्मच, नमक- स्वादनुसार, लाल मिर्च – स्वादनुसार, गु़ड़ – 1 डली या अपने स्वाद के अनुसार, पुदीना – स्वादनुसार

विधि : कैरी और प्याज को मध्यम आकार या छोटे टुकड़ों में काट लें। अब इन्हें मिक्सर के जार में डालें और सभी मसाले ऊपर से डालकर पीस लें। अपने स्वाद के अनुसार नमक, मिर्च या गुड़ की मात्रा बढ़ाई जा सकती है। कैरी की चटनी तैयार है।

फायदे : कच्चे आम यानि कैरी की चटनी का नियमित सेवन खाने का स्वाद तो बढ़ाएगा ही, विटामिन-सी, ए और बी की भी पूर्ति करेगी। इसके सेवन से गर्मी के दुष्प्रभावों से बचा जा सकता है। इसके अलावा यह प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और नई कोशिकाओं के निर्माण में सहायक है। पेट और पाचन संबंधी समस्याओं में यह फायदेमंद है।

2.पुदीने की चटनी

सामग्री : पुदीने की पत्त‍ियां – 1 कप, हरी मिर्च – स्वादनुसार, नमक स्वादनुसार, दही – 3-4 बड़े चम्मच, जीरा – आधा चम्मच, काला नमक – स्वादनुसार

विधि : पुदीने की पत्त‍ियों को धो लें। इसके बाद सभी सामग्री और पुदीने की पत्त‍ियों को मिलाकर मिक्सर में पीस लें। आप चाहें तो इस चटनी में दही के स्थान पर कच्चे आम या कैरी का प्रयोग भी कर सकते हैं। इस चटनी को आप अपनी सुविधा के हिसाब से तरह या गाड़ी बना सकते हैं।
फायदे : गर्मी का बढ़ना, पेट संबंधी समस्याओं और त्वचा के लिए भी पुदीने की चटनी फायदेमंद होगी। यह आपके खाने का भी स्वाद बढ़ाएगी और आपको सेहत से जुड़े कई अन्य फायदे भी देगी। आंतों की समस्या, प्रसव के समय, बुखार और दस्त में भी यह फायदेमंद है।

3.अमचूर की चटनी

सामग्री : अमचूर की चटनी बनाने के लिए आपको चाहिए अमचूर – 2 बड़े चम्मच, तेल – थोड़ा सा, पानी- घोलने के लिए, गुड़ – 1 से डेड़ बड़ा चम्मच, नमक – स्वादनुसार, लाल मिर्च – आधा छोटा चम्मच या स्वादनुसार, भुना हुआ जीरा – आधा चम्मच, काला नमक – स्वादनुसार, हींग – आधा चुटकी।

विधि : सबसे पहले गुड़ को पानी में घोल लीजिए और इसमें अमचूर डालकर फेंट लें। अब नॉनस्ट‍िक पेन में हल्का सा तेल गर्म कर उस में तेल डालें और जीरा, हींग,लाल मिर्च का डालकर अमचूर का पेस्ट डाल दें और अंत में नमक डालकर गर्म करें। जब यह पेस्ट गाढ़ हो जाए तो इसे आंच से उतार लें। टेस्ट के अनुसार आप इसमें नमक या गुड़ बढ़ा सकते हैं।

फायदे : अमचूर की चटनी का सबसे बड़ा लाभ है कि यह नुकसान नहीं करती। इसे खाने के आद आपको सर्दी या गला खराब होने की समस्या नहीं होती। गुण होने के कारण यह पाचन के लिए फायदेमंद है और पेट की समस्याओं के लिए भी लाभप्रद है। गर्मी के दिनों में यह ठंडी होगी और स्वादिष्ट भी लगेगी।

4.निम्बू की चटनी

सामग्री : नींबू – चार, नमक – स्वादनुसार, लाल मिर्च – आधा चम्मच, जीरा – पाव चम्मच, हींग – आधा चुटकी, काला नमक दो चुटकी, शक्कर – स्वादनुसार।

विधि : नींबू के बीज निकालकर छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लीजिए, अब इन टुकड़ों को मिक्सर के जार में डालें और इसमें सारी सामग्री डालकर पीस लें। नींबू की चटनी तैयार है। इस चटनी को आप खाने के साथ खा सकते हैं। इसके अलावा चटपटे व्यंजनों के साथ यह मजेदार होगी।
फायदे : नींबू की ताजी चटनी को खाने से आपको सीधे विटामिन सी का लाभ मिलेगा और पेट व त्वचा की समस्याओं में यह चटनी फायदेमंद होगी। आप चाहें तो नियमित इसका सेवन कर सकते हैं। यह आपको ताजगी का एहसास भी कराएगी।

5.इमली की चटनी

सामग्री : इमली – 1 कटोरी, पानी- आवश्यकतानुसार, हींग – 1 चुटकी, जीरा – आधा चम्मच, काला नमक – स्वादनुसार, नमक – स्वादनुसार, लाल मिर्च – दो चुटकी या स्वादनुसार ।

विधि : इमली को कुछ समय तक गुनगुने पानी में गलाकर रखें। अब इसके बीज निकाल लें और गुड़ एवं सभी मसाले डालकर इसे मिक्सर में पीस लें। अब इस मिश्रण को उबाल लें और बने हुए पेस्ट को जीरे का छौंक लगाएं। इमली की चटनी तैयार है। आप चाहें तो इसे पतला कर पना भी बना सकते हैं।

फायदे : गर्मी के दिनों में इमली की चटनी या पना तासीर को ठंडा करता है और गर्मी के दुष्प्रभाव से बचाता है। इसके अलावा यह पाचन के लिए फायदेमंद है और ऊल्टी, जी मचलाना या दस्त जैसी समस्याओं में भी लाभप्रद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status