Sunday , 23 September 2018
Home » Kitchen » सरसों के तेल में छिपा है स्वस्थ जीवन का राज़ ..!!

सरसों के तेल में छिपा है स्वस्थ जीवन का राज़ ..!!

सरसों के तेल में छिपा है स्वस्थ जीवन का राज़ ..!!

सरसों का तेल हर घर में इस्तेमाल होता है। साथ ही यह तेल प्राचीन समय से आयुर्वेद में एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। कड़वा तेल यानि सरसों के तेल में कई गुण हैं जो आपकी सेहत और उम्र दोनों को बेहद फायदा पहुंचाते हैं। सरसों का तेल दर्दनाशक होता है जो गठिया व कान के दर्द से राहत देता है इसलिए सरसों का तेल किसी औषघि से कम नहीं है। आज हम आपको सरसों के तेल के इन गुणों को एक-एक कर बताएगा। जिससे आपको सरसों के तेल का फायदा मिल सके।

सरसों के तेल  के  फायदे / benefits of mustard oil / sarson ke tel ke fayde

1. कैंसर को रोके –

सरसों के तेल में कैंसर को रोकने वाला गुण ग्लुकोजिलोलेट होता है। जो कैंसर के टयूमर व गांठ को शरीर में बनने से रोकता है साथ ही किसी भी तरह के कैंसर को शरीर पर लगने नहीं देता है।

2. वजन कम करना –

सरसों के तेल में मौजूद विटामिन जैसे थियामाइन, फोलेट व नियासिन शरीर के मेटाबाल्जिम को बढ़ाते हैं जिससे वजन आसानी से कम होने लगता है।।

3. बढ़ती उम्र को रोके –

सरसों के तेल में विटामिन ए, सी और के की अधिक मात्रा होती है जो बढ़ती हुई उम्र से होने वाले झुर्रिंयां यानि रिंकल और निशान आदि को दूर करती है। सरसों का  तेल एंटीआक्सीडेंट भी होता है। जिससे त्वचा टाइट बनी रहती है।

4. दर्द में आराम –

सरसों के तेल की मालिश से गठिया रोग और जोड़ो का दर्द भी ठीक हो जाता है। ठंड के दिनों में सरसों का तेल गर्माहट के लिए रामबाण इलाज है, और इससे दर्द में आराम मिलता है। हल्के गर्म तेल की मसाज से रूखी-सूखी त्वचा भी नर्म, मुलायम व चिकनी हो जाती है।

5. कोलेस्ट्रॉल कम करें –

सरसों में विटामिन बी 3 की भरपूर मात्रा पायी जाती है। जिसमें कोलेस्ट्रॉल को कम करने का गुण पाया जाता है, जो आर्टऱीज़ को अथेरोक्लेरोसिस से बचाता है जिससे रक्त प्रवाह ठीक रहता है, और शरीर को उच्च रक्तचाप नहीं होता।

6. लम्बे बालों के लिए –

सरसों के तेल से सर में मालिश करने से बालों की ग्रोथ तो अच्छी होती ही है साथ ही ब्लड सर्कुलेशन भी बढ़ता है। तेल लगाने के बाद बालों में प्लास्टिक बैग या गर्म तौलिया लपेट दें, इससे तेल अच्छे से बालों में अब्सॉर्ब हो जायेगा। इसे आधे घंटे के लिए छोड़ दें फिर अच्छे शैम्पू से धो लें।

7. मलेरिया से बचाव  –

मलेरिया मच्छरों के काटने से होता है। ऐसे में सरसों का तेल रात को सोने से पहले अपने शरीर पर लगाकर सोएं।  इस उपाय से मलेरिया के मच्छर नहीं काटते हैं।

8. त्वचा के लिए –

सरसों में सल्फर पाया जाता है, जो एक एंटीफंगल और एंटीबैक्टिरीअल तत्व है, जो शरीर के किसी भी भाग में फंगस को बढ़ने से रोकता है जिससे त्वचा के इन्फेक्शन का खतरा कम हो जाता है और यह त्वचा को स्वस्थ और चमकदार बनाता है।

9. इम्यूनटी बढ़ाये –

सरसों में आयरन मैंगनीज, और कॉपर जैसे तत्व पाये जाते हैं, जो शरीर की रोग प्रतिरोधक छमता को बढ़ाता है।

10. शक्ति बढ़ाए –

सरसों के तेल को कई लोग टॉनिक के रूप में भी प्रयोग करते हैं। यह शरीर की कार्य क्षमता बढ़ा कर शरीर की कमजोरी को दूर करने में सहायता करता है।इस तेल की मालिश के बाद स्नान करने से शरीर और त्वचा दोनों स्वस्थ रहते हैं।

11. हृदय रोग  का खतरा कम करे –

सरसों के तेल का प्रयोग करने से कोरोनरी हार्ट डिसीज का खतरा भी कम होता है। इसलिए सरसों के तेल को अपने खाने में जरुर शामिल करें।

12. भूख बढ़ाए-

भूख नहीं लगने पर भी सरसों का तेल आपके लिए बेहद फायदेमंद साबित हो सकता है। अगर भूख न लगे, तो खाना बनाने में सरसों के तेल का इस्तेमाल करें। शरीर में पाचन तंत्र को दुरूस्त करने में भी यह लाभदायक होता है।

13. ब्लड शुगर से आराम –

सरसों के दानों के चूर्ण को दिन मै एक एक चमच तीन बार लेने पर ब्लड शुगर कन्ट्रोल मै आता है और इन्सुलिन की जरूरत ख़तम हो जाती है |

15. कमर दर्द में –

कमर दर्द से छुटकारा पाने के लिए  सरसों के तेल में अजवाइन, लहसुन और थोड़ी से हींग को मिलाकर कमर की  मालिश करें।

16. दातों के दर्द से आराम देता है सरसों का तेल –

सरसों के तेल में शहद मिलाकर दर्द प्रभावित  जगह पर मसाज करने से दातों का  दर्द कम हो जाता है हर रोज ऐसा करने से दातों का दर्द ख़तम हो जाता है |

17. अस्थमा की रोकथाम –

नियमित रूप से अस्थमा से परेशान लोगों को सरसों का तेल खाने में इस्तेमाल करना चाहिए। सरसों के बीज में मैग्नीशियम ज्यादा होता है। इसके अलावा यह तेल सर्दी और ब्रेस्ट में होने वाली परेशानियों को दूर करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status