Tuesday , 20 August 2019
Home » Women » PCOS / PCOD » PCOS PCOD के लिए घरेलु उपचार।

PCOS PCOD के लिए घरेलु उपचार।

PCOS PCOD  क्या हैं ?

PCOS PCOD से महिलाओ के मासिक धर्म (Menstrual Cycle) के साथ प्रजनन क्षमता (Fertility) पर भी असर पड़ता है, और महिला गर्भधारणा करने में असमर्थ हो जाती है। अगर PCOD का इलाज न किया जाए तो आगे जाकर यह गर्भाशय के कर्करोग (Cancer) का रूप भी ले सकती है।

महिलाओ के अंडाशय में Androgen Hormones के असंतुलन, सामान्य से अधिक मात्रा में ये हार्मोन निर्मिति होने पर ये रोग उत्पन्न होता हैं, ये रोग महिलाओ में बच्चा पैदा करने की आयु या आज कल तो 15 साल की आयु में भी पाया जाता हैं, महिलाओं की जो प्रजनन प्रणाली होता हैं जिसमे गर्भाशय, fellopin tube, और 2 अंडाशय (ovaries जहाँ अंडा तैयार होता हैं) होते हैं, ovaries में कुछ हार्मोन निकलते हैं, जिनकी नियमितता pitutory ग्रंथि द्वारा की जाती हैं, pitutory ग्लैंड हमारी बॉडी की मुख्य ग्रंथि हैं, इसमें अलग अलग तरह के हार्मोन निकलते हैं जो हमारी शरीर के अलग अलग भागों को नियमित रूप से कार्य करने में सहयोग देते हैं, pitutory ग्लैंड में गड़बड़ी के कारण भी ये रोग होने की सम्भावना अधिक बढ़ जाती हैं। इसकी गड़बड़ी से थाइरोइड रोग उत्पन्न होता हैं। इसलिए महिलाओ को पहले थाइरोइड रोग को सही करने के लिए कदम उठाने चाहिए। मधुमेह एक और समस्या हैं जिस कारण से ये रोग होने की आशंका अधिक हो जाती हैं, इसलिए मधुमेह नियंत्रण भी अहम हैं इस रोग के उपचार में। शरीर में इन्सुलिन रेसिस्टेंट की समस्या के कारण भी ये रोग हो जाता हैं जिसमे शरीर में इन्सुलिन तो बनता हैं, मगर सेल इसको ग्रहण नहीं कर पाते, जिस कारण से खून में मधुमेह बढ़ जाता हैं। । और ये रोग माँ से बेटी में भी आ सकता हैं, यानी के अनुवांशिक भी हो सकता हैं।
pcos
PCOD :- POLY CYSTIC OVARIAN DISEASE
PCOS :- POLY CYSTIC OVARIAN SYNDROME

PCOD या PCOS क्या हैं

ये दोनों एक ही रोग के नाम हैं। पोली सिस्टिक का अर्थ ही होता हैं पोली अर्थात बहुत सारी सिस्टिक अर्थात गांठे (ये छोटी छोटी दानो के रूप में ओवरी (अंडाशय) के ऊपर द्रव्य से भरी होती हैं)

अब ये आती कहाँ से हैं, जिन महिलाओ के मासिक सही से नहीं आते, और यूँ कहे के जो अंडे ओवरी से बाहर नहीं आ पाते या पूर्ण विकसित नहीं हो पाते, यही ओवरी पर छोटी छोटी गांठो का रूप ले लेते हैं।

PCOD से शरीर पर क्या असर होता हैं।

इस कारण से महिलाओ के मासिक धर्म (Menstrual Cycle) के साथ प्रजनन क्षमता (Fertility) पर भी असर पड़ता है, और महिला गर्भधारणा करने में असमर्थ हो जाती है।
अगर PCOD का इलाज न किया जाए तो आगे जाकर यह गर्भाशय के कर्करोग (Cancer) का रूप भी ले सकती है।

लक्षण।

PCOD में मुख्यत लक्षण दिखने में आते हैं।

अनियमित माहवारी

बांझपन / बार बार गर्भपात

वजन का बढ़ना

चेहरे पर या शरीर पर अवांछनीय बाल आना

मुहांसे

यौन इच्छा में अचानक कमी आ जाना

अगर आपको इन में से कोई भी 2 या 3 लक्षण भी दिखते हैं तो आप इसकी जांच ज़रूर करवाये।

PCOD का निदान करने के लिए निम्नलिखित परिक्षण किया जाता है :

Ultra Sound Scan of Pelvis / Vagina
Serum LH
Serum FSH
LH : FSH ratio
DHEA-S Level
उपचार के दौरान हर महीने sonography कराती रहें ।

कारण।

बदलती जीवन शैली इसका मुख्य कारण हैं, आलसी जीवन, तनाव, पूरा दिन घर में ही घुसे रहना, कसरत ना करना
असंतुलित आहार ज्यादा तेलयुक्त, वसायुक्त और मीठा आहार।

जंक फ़ूड, कोल्ड ड्रिंक्स, वज़न बढ़ना ये सब इसके कारण हैं।

भोजन में पर्याप्त मात्रा में विटामिन, मिनरल्स और कैल्शियम की कमी।

धूम्रपान और शराब का सेवन।

देर रात तक जागना भी हार्मोन इम्बैलेंस में बड़ा कारण हैं। सुबह सूर्य उदय से पहले उठे और रात को 10 बजे तक सो जाए।

तनाव एक बड़ा कारण हैं, इसलिए खुश रहने का प्रयास करे।

कैफीन का सेवन, कैफीन कॉफ़ी में या एनर्जी ड्रिंक्स में या अनेको पैक्ड प्रोडक्ट में पाया जाता हैं, जहाँ तक संभव हो पैक्ड फ़ूड से परहेज करे।

बंद माहवारी को चालू करने, PCOS PCOD के घरेलु उपाय Only Ayurved’s स्त्री संजीवनी

PCOD होने के पीछे मधुमेह (Diabetes) THYROID और उच्च रक्तचाप (Hypertension) जैसे रोग भी एक बड़ी वजह है। अगर Cholesterol का बढ़ना, HDL कम होना या उच्च Triglycerides के वजह से भी PCOD हो सकता है।

परिवार में किसी को PCOD का इतिहास है तो अनुवांशिकता यह भी एक कारण है।

मोटापा (Obesity) : आज की युवा पीढ़ी में मोटापा एक बहोत बड़ी समस्या के रूप में उभरा है। ऐसे तो मोटापा कई बीमारियो का घर है परन्तु मोटापे में शरीर में बढ़ी हुई अत्याधिक चर्बी के कारण Estrogen hormone की निर्मिति सामान्य से ज्यादा होती है, जो की अंडाशय में cyst बनाने के लिए जिम्मेदार माना जाता है।

तनाव (Stress) : आज के दौड़भाग के युग में बढ़ रहे तनाव के कारण लोगो का खानपान और दिनचर्या बिगड़ चुकी है। धूम्रपान, शराब, देर रात का खाना इत्यादि कारणों से भी hormonal imbalance होता है।
PCOS affected
PCOS – PCOD घरेलु आयुर्वेदिक सरल उपचार

अलसी :-

अलसी में ओमेगा ३ होता हैं, जो हार्मोन इमबैलन्स में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं, इसका सेवन इस रोग से लड़ने में बहुत सहयोगी हैं।

बादाम और अखरोट : –

बादाम और अखरोट भी बहुत उपयोगी हैं। आप सुबह नाश्ते में इसका एक ड्रिंक बनाये, 5 बादाम 5 अखरोट की गिरी और 5 ग्राम अलसी के बीज डाल कर पहले मिक्सर में ग्राइंड कर लीजिये फिर गाय का एक गिलास गर्म दूध पीने लायक इसमें डाल कर शेक कर लीजिये, इस शेक को नाश्ते में पीजिये। ये शेक बहुत फायदेमंद हैं।

अंकुरित अनाज:-

नाश्ते में अंकुरित अनाज ले। इसके लिए आप गेंहू दालों और जौ को अंकुरित कीजिये। ये बहुत ही फायदेमंद हैं PCOD के लिए।

जौ

भोजन में जौ का थोड़ा मोटा आटा इस्तेमाल करे। इसका Glycemic Index (GI) बहुत कम होता हैं, जिस से पैंक्रियास अधिक सक्रिय होता हैं और अधिक इन्सुलिन स्त्राव करता हैं, जिस से रक्त शर्करा नियंत्रित रहती हैं। और वज़न नियंत्रण करने में बहुत सहयोगी हैं।

बंद माहवारी को चालू करने, PCOS PCOD के घरेलु उपाय Only Ayurved’s स्त्री संजीवनी

दालचीनी

दाल चीनी :- ये मसालों में श्रेष्ठ हैं, दालचीनी में hydroxychalcone मुख्य सक्रिय संघटक हैं, जो इंसुलिन के प्रभाव को बढ़ाने के लिए बहुत उपयोगी हैं। और ये मोटापे को भी रोकता हैं, हर रोज़ आधा चम्मच कम से कम इसको अपने भोजन में जगह दे।

मेथीदाना

मेथी दाना :- मेथी दाना रात को 3 चम्मच पानी में भिगो कर रख दे, सुबह 1 चम्मच मेथी दाना एक चम्मच शहद के साथ मिला कर खाएं, और ऐसा ही 1-1 चम्मच दोपहर और रात के भोजन के 10 मिनट पहले करे, इस से आपका इन्सुलिन लेवल सही रहेगा और खून में बढ़ी हुयी शर्करा नियंत्रित होगी।

या आप दालचीनी लीजिये या मेथी दाना, दोनों में से एक प्रयोग करना हैं।

ब्रोक्कोली :-

ब्रोक्कोली ये एक प्रकार की पत्ता गोभी होती हैं, जिसमे विटामिन प्रचुर मात्र में होते हैं, और कैलोरीज भी बहुत काम होती हैं, ये PCOD के मरीजों के लिए बहुत फायदेमंद हैं। इस का सेवन करने वाली महिलाओ को कभी भी ये रोग नहीं होता।

मशरुम :-

मशरुम का सेवन इस बीमारी में बहुत ही ज़्यादा फायदेमंद हैं, ये लो कैलोरी भोजन हैं जिसमें विटामिन बी २, बी ३, पाया जाता हैं, जो थाइरोइड से लड़ने और मधुमेह नियंत्रण में बहुत सहायक हैं। इसको नित्य अपने भोजन का हिस्सा बनाये।

हरी पत्तेदार सब्जियों को अपने भोजन में स्थान दे।

पालक का सेवन इस बीमारी में बहुत ही ज़्यादा फायदेमंद हैं, इसको नित्य अपने भोजन का हिस्सा बनाये।

सलाद में टमाटर और खीरे का सेवन करे।

शकरकंद का इस्तेमाल बहुत ही उपयोगी हैं PCOD में।

विटामिन और मिनरल्स से भरपूर खाद्य पदार्थ भोजन में शामिल करे।

कैल्शियम :-

इसके इलाज में कैल्शियम बहुत उपयोगी हैं, इसलिए देसी गाय का दूध और दही बहुत फायदेमंद हैं, हर रोज़ २ गिलास गाय का दूध पीजिये और दही में गेंहू के दाने के समान चुना (जो पान में लगते हैं) डाल कर नित्य खाए। कैल्शियम अंडे को परिपक्व करने में और अंडाशय को विकसित करने में बहुत सहयोगी हैं। दही ना केवल कैल्शियम से भरपूर होता हैं, बल्कि ये मूत्राशय में होने वाले संक्रमण से भी बचता हैं , और चूना महिलाओ की समस्त बीमारियो के लिए बेहद उपयोगी हैं।

तरबूज़:-

तरबूज़ भी एक सुपर फ़ूड हैं, इस को नित्य खाए। इस से PCOD में बहुत लाभ मिलता हैं।

मुलेठी :-

यह एक ऐसी हर्ब है, जिसे खाने से महिलाओ के शरीर में Androgen Hormones कम होने लगते हैं और PCOD से सुरक्षा मिलती हैं। यह महिलाओ के लिए हर प्रकार से लाभदायक होता हैं।

इसके साथ में ये चीजें अपने भोजन में ज़रूर अपनाएं.

असली अशोका के पत्ते चटनी बना के या रस निकाल कर, सेब का सिरका, हल्दी, अदरक, लहसुन, निम्बू इत्यादि.

पुदीने की चाय बहुत उपयोगी हैं, इसके सेवन से इस रोग में बहुत फायदा होता हैं। ये Anti Androgen हैं।

PCOD के लिए वैद्यनाथ की काञ्चनार गुग्गुलु तथा वृद्धि बाधिका वटी की दो दो गोलियाँ प्रातः सायं चबा कर पानी से लें ।

PCOD के उपचार के लिए जीवन शैली में परिवर्तन ?

वजन कम करना (Weight loss) :

अगर आपका वजन बढ़ा हुआ है तो उसे कम करने का प्रयास करे। कई PCOD के मरीजों में केवल वजन कम करने से ही बेहद फायदा होते देखा गया है।

बंद माहवारी को चालू करने, PCOS PCOD के घरेलु उपाय Only Ayurved’s स्त्री संजीवनी

व्यायाम (Exercise) :

व्यायाम करने से आपका वजन नियंत्रण में रहेगा और PCOD की वजह से होने वाली insulin resistant की समस्या भी कम हो जाएंगी। आप अपने उम्र और शरीर अनुसार चलना, दौड़ना, तैराकी या aerobic व्यायाम कर सकता है।

प्राणायाम :-

कपाल भाति, अनुलोम विलोम और भ्रामरी ये तीनो विशेष प्राणायाम इस समस्या से निजात दिलाने में बहुत सहयोगी हैं।

संतुलित आहार (Balanced Diet) :

खाने में पिज़्ज़ा, बर्गर जैसे शरीर के लिए नुकसानकारी आहार लेने की जगह हरे पत्तेदार सब्जी और फल का समावेश करे।

जीवनशैली (Lifestyle) :

चिंता, शोक, भय, क्रोध इत्यादि तनाव बढ़ाने वाली चीजो से दूर रहे। योग और प्राणायाम करे। हमेशा सकारात्मक विचार रखे।

PCOD से पीड़ित महिलाओ में मधुमेह, उच्चरक्तचाप और कर्करोग होने का खतरा रहता है। जल्द उपचार आदि कार्यवाही करने से PCOD के दीर्घकालीन जाखिमो से बचाव किया जा सकता है।

अगर आप  इस बीमारी से मुक्ति पाना चाहते हैं तो आपको अपनी जीवन शैली बदलनी होगी। और ऊपर बताई गयी सभी बातो को फॉलो करना पड़ेगा।

[Read. बांझपन को दूर करने के आयुर्वेदिक नुस्खे । Sterility – infertility]

 

आपके नजदीकी Only Ayurved Dealer list और उनकी Location

बिहार

पटना – 7677551854, 7480099296

छपरा – 9473221039

गोपालगंज – 9431059379

गया (इमामगंज) – 9771898989

मधेपुरा – 9546552233

छत्तीसगढ़

बिलासपुर – 9584891808, 9926758959, 9300333438

रायपुर – 9644133772

दुर्ग भिलाई – 9691305217

झारखण्ड

मनिका – लातेहार – 9801290105

पश्चिम बंगाल – West Bengal

कोलकाता –  7003386968

असम

 

महाराष्ट्र

मालेगांव (नासिक) – डॉ. फरीद शेख 9860785490

धुले – 9270558484

नासिक – 9270928077

पुणे – 9209211786

अकोला – 7020579564

वर्धा – 9579997503

नागपुर – 8830998853

शोलापुर – 8308604642

कोल्हापुर – 9923280004

अहमद नगर – राओरी – 8605606664

कल्याण – 8454050864

टिटवाला – 9821315415

मलाड – 9967293444

घाटकोपर – 07738350032

बोरीवली – 9004316923

भंडारा – 9422174853

औरंगाबाद – 7020505445

जालना – 7020505445

विरार – 9892967369

अमरावती – 9765332255

कर्नाटक – Karnataka

धारवाड़ (Dharwad) – 9844984103

बैंगलोर (Bangalore) – 7019098485

तामिलनाडू

चेन्नई – 9884164854

तेलंगाना

हैदराबाद – 08374457775

गुजरात

अहमदाबाद – 9974019763, 7874559407

पालनपुर ( डॉ. हिदायत मेमन )  –  9428371583

द्वारिका – 9033790000

चिकली – 9427869061

अमरेली – 9427888387

अंकलेश्वर – भरूच – 8460090090

वड़ोदरा – 7574857452

सूरत –  8866181846, 9879157588

भुज / मुंद्रा  – 9974576143

जामनगर – 9974199748

मध्यप्रदेश

भोपाल – 7987552689

इटारसी – 6260342004

सारणी – 8989831927

इंदौर – 9713500239

विदिशा – 9131055585

जबलपुर – 9039868554

ग्वालियर – 9229239248

कटनी – 9074901083

उत्तर प्रदेश

मेरठ – 8449471767

हाथरस ( U. P. ) –  9997397043, 7017840020

मथुरा ( वैध रविकांत जी ) – 9259883028

अलीगढ – 9027021056

आगरा – 9027143749, 8923234014

फ़िरोज़ाबाद – 8445222786 वैध रविन्द्र सिंह

मैनपुरी – 8449601801

फ़र्रुख़ाबाद – 9839196374

सुल्तानपुर – 9125131178

रायबरेली – 9236038215

वाराणसी – 9125349199

इलाहाबाद ( डॉ.  सी. पी. सिंह ) – 9520303303

गोरखपुर – 9792960999

सिद्धार्थ नगर – 9936404080

महाराजगंज – 9455426806

लखनऊ – 9140546350

इटावा – 9557463131 डॉ. कौशलेन्द्र सिंह

उत्तराखंड

ऋषिकेश – 7456987328

दिल्ली –  NCR

सराय कालें खां –  9015439622, 9871490307

सुभाष नगर – 9911006202

कड़कड़डूमा – 7827444007

गाज़ियाबाद – 9719077555

Greater Noida – 9310299100

गुडगाँव – 9310330050

फ़रीदाबाद – 9315154682

हरियाणा

हिसार – 9518884444

हसनपुर पलवल – 9050272757

पानीपत – 9812126662

रोहतक – 9467770773

बाढ़डा ( चरखी दादरी ) – 9813210584

फ़रीदाबाद – 9315154682

चंडीगढ़ – 9877330702

डबवाली – 9416218182

पंजाब

बठिंडा – 9779566697

डबवाली – 9416218182

कोट कपूरा – 9872320227

मलोट – 9878100518

मलेर कोटला – 9872439723

लुधियाणा – 9803772304

मोगा – 9988009713

जगराओं – 9646683463

रोपड़ – 9478391123, 8528386098

जालंधर – 9814832828

अमृतसर – 8872295800

होशियारपुर उड़मुड टांडा – 9803208718

गुरदासपुर – 9815483791

मोहाली – 09216411342

मुकेरियां – 9815296322

चंडीगढ़ – 9877330702

राजस्थान

जयपुर – 8290706173

दौसा – 7737497140

जोधपुर – 8005724956

अजमेर – 7976779225

मकराना – 8619299924

सिरोही – 9875238595

उदयपुर – 9875238595

टोंक – 9509392472

फतेहपुर शेखावाटी – 9636648998

चुरू – 7976194800

उदयपुर वाटी (झुंझुनू)  डॉ राकेश कुमार – 9351606755

संगरिया – 7597714736

हिमाचल प्रदेश

नालागढ़ – 9816022153

कुल्लू – 8219500630

चिन्तपुरणी – 9816414561

अगर आप Only Ayurved के साथ मिलकर ये काम करना चाहते हैं तो संपर्क कीजिये

उत्तर प्रदेश 7017840020

महाराष्ट्र – 9860785490

मुंबई – 8454050864

गुजरात – 8866141846

बिहार – 7677551854

हरियाणा – 9315154682

पंजाब – 9779566697

मध्य प्रदेश – 7987552689

छत्तीसगढ़ – 9300333438

अन्य राज्यों के लिए संपर्क करें. 7014016190

4 comments

  1. you told me about PCOD & its home remedies, so i m very thankful to you bcoz i m also facing this decease, i found way of fight for this decease.

  2. My wife has a problem of pertonial cysts. She had a surgery in 2010 of hystetmic at the time of second delivery. Now what we can do. She did aspiration process twice in two year. Cyst size up to 18. Appox 800ml water aspirate this time in January 2016.

  3. I have bilateral cyst on ovaries i m unmarried it is very painful…..plzz suggest me gud treatment ……………..

  4. Sir, namaste
    Meri wife ke pet me 5.5 c.m ki gath (cyst) ho gya hai.
    Sir apke pass is ka ilaj ho to please batane ke kripa kre.

  5. d parameswaran,international alternate health consultant

    THANKS FOR THE VERY GOOD FULLY DETAILED ARTICLE. I AM A NATUROPATH IN CHENNAI. I AM DIAGNOSING AND CURING FULLY AS PER YOUR PHILOSOPHY ONLY BY CHANGING LIFESTYLE ANDDIET. THIS IS A DISEASE DUE TO BAD LIFESTYLE AND BAD FOODS. OUR OWN ORIGINAL TRADITIONAL FOODS ARE BETTER FORUS. THANKS FOR ALL GOOD ARTICLES.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status