Wednesday , 23 August 2017
Home » Health » leucoderma - vitiligo - psoraisis » सफ़ेद दाग का रामबाण इलाज – Safed Daag ka ayurvedic ilaj

सफ़ेद दाग का रामबाण इलाज – Safed Daag ka ayurvedic ilaj

Safed Daag ka ayurvedic ilaj.

Only Ayurved Vitiligo treatment, safed dag ka ilaj

प्रिय मित्रो आज हम ओनली आयुर्वेद में आपको बता रहें हैं सफ़ेद दाग का रामबाण इलाज. और इस प्रयोग में विशेष बात ये है के अगर इस प्रयोग से आपको आराम आना होगा तो ये 15 दिन में अपना असर दिखा देगा. तो आइये जाने बेहद सरल ये रामबाण प्रयोग.

सबसे पहले ओनली आयुर्वेद में हम आपसे एक बात कहना चाहेंगे के ये प्रयोग करते समय आपको नमक, मिर्ची, तला हुआ, मांस, मछली, शराब, धुम्रपान बिलकुल बंद करना होगा. अगर आप ये काम कर सको तो ही इस प्रयोग को शुरू करें. और इस प्रयोग को करते समय इसके साथ में आपको कोई अच्छा सा झंडू का या बैद्यनाथ का ब्लड Purifier भी पीना होगा.

इस प्रयोग की सफलता के लिए बेहद उपयोगी है सुबह एक गिलास लौकी का जूस इसको आप 11 पत्ते तुलसी और 11 पत्ते पोदीने के डाल कर बनाये. और इसको नित्य 15 दिन तक पीना है. आइये अब जानते हैं – सफ़ेद दाग का रामबाण इलाज.

सफ़ेद दाग का रामबाण इलाज – Safed Daag ka ayurvedic ilaj

इस प्रयोग के लिए आवश्यक सामग्री.

बावची – 50 ग्राम.

नारियल का तेल – 100 मि.ली.

नौशादर – 25 ग्राम.

इस प्रयोग को बनाने की विधि.

सबसे पहले बावची को कूट पीसकर महीन चूर्ण बना लीजिये. और नारियल तेल में नौशादर मिला लीजिये.

इसको प्रयोग करने की विधि.

प्रथम सप्ताह.

सबसे पहेल रात को 2 ग्राम चूर्ण को पानी में भिगो कर रख दीजिये. बावची के ताज़ा चूर्ण को 2 ग्राम. हर रोज़ सुबह पानी के साथ नाश्ते के एक घंटे के बाद फांक लीजिये. इसके बाद में नौशादर वाले तेल को दाग वाली जगह पर लगायें. और इसी तेल वाली जगह पर रात को भिगोया हुआ बावची का चूर्ण लगा दें. यह काम प्रातः काल सुबह एक हफ्ते तक करें.

दूसरा सप्ताह.

दुसरे सप्ताह में यह चूर्ण दो दो ग्राम सुबह शाम खाएं अर्थात दिन में दो बार. तेल और चूर्ण सिर्फ प्रातः काल लगायें अर्थात दिन में एक बार.

विशेष:-

यदि 15 दिन अर्थात दो सप्ताह के अन्दर सफ़ेद दागों पर बारीक बारीक बिंदियाँ ना बनें तो समझ लें की लाभ नहीं होगा. फिर यह प्रयोग बंद कर दें. और यदि बिंदियाँ बनती हैं तो वे धीरे धीरे बड़ी होती जाएँगी और सफ़ेद दाग हमेशा के लिए गायब हो जायेगा. यदि कोई हानि, उपद्रव या परेशानी ना हो तो इस प्रयोग को जारी रखें.

नोट:- 

होंठ, पलक, हथेली, तलवे और गुप्तांगों के लिए यह दवा प्रायः ठीक नहीं होती. प्रयोग की यह मात्रा दस वर्ष की आयु से अधिक उम्र वालों के लिए है. इस से कम उम्र वाले को आधा अर्थात एक ग्राम चूर्ण दें. और तेल और बावची का भीगा हुआ चूर्ण सफ़ेद दाग पर ही लगाना है, आसपास की त्वचा पर नहीं.

क्या खाएं.

सफ़ेद दाग में खान पान पर बहुत ध्यान देना पड़ता है. खटाई तो हर हाल में बंद होनी चाहिए.ऐसे में आप ये निमिन्लिखित चीजों का सेवन कर सकते हैं.

  • अंगूर, मुनक्का
  • आंवला
  • गेंहू के जवारे का रस
  • पत्ता गोभी, लौकी, गाजर
  • सेब, शहतूत
  • सभी प्रकार की Berries
  • लौंग
  • दालचीनी
  • जीरा
  • अजवायन
  • अदरक
  • तुलसी
  • हल्दी
  • गौ मूत्र सिर्फ देसी गाय का जो गर्भवती ना हो.
  • सभी प्रकार के ड्राई फ्रूट्स
  • Olive Oil, Almond Oil

Disclaimer.

यह प्रयोग सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से दिया गया है. पाठक इसको प्रयोग करते समय अपने विवेक से निर्णय करें. अगर कोई साइड effect दिखे या सफ़ेद दाग की जगह और कहीं लग जाए तो तुरंत इस तेल को साफ़ कर के बर्फ घिसे और डॉक्टर से संपर्क करें.

9 comments

  1. Next page nahi khulta hai, next par click he nahi hota hai.

  2. Psorisis ke liye kya upchar hai

  3. 9657349564
    Plz given medicine leucoderma.

  4. Me nemichand choudhary me mera weight badana chathata hu so WO upay btana OK thanks

  5. pimple me liye kya ilaj hai .mere chehre per bhahut he jyada pimle nikal aaye hain or dard bhi kar rage hai

  6. बावची और नौसादर कहा मिलेगे

  7. Your suggestion is very mostly purifier

  8. हमारे एक मित्र को सफ़ेद दाग है. क्या वो ठीक हो सकता है इस फोर्मुले से ?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
DMCA.com Protection Status