Thursday , 29 October 2020
Home » आयुर्वेद » अगरु (Agru)- पहचान, गुण धर्म, प्रयोग मात्रा एवं प्रयोग विधि

अगरु (Agru)- पहचान, गुण धर्म, प्रयोग मात्रा एवं प्रयोग विधि

[ads4]

आज हम आपको अगरु (Agru) के बारे में विस्तार से बताने जा रहें हैं. आइये जाने इसकी पहचान, गुण धर्म, प्रयोग मात्रा एवं प्रयोग की विधि.

अगरु (Agru) का वानस्पतिक नाम: Aquilaria Malaccensis Lam.

Syn- Aquilaria Agallocha Roxb. rx DC

कुल – Thymelaeaceae

English Name – Eagle Wood

संस्कृत – अगरु (Agru), कृमिजग्ध , प्रवर, लोः, राजह्र, योगराज, वंशिक, क्रमीज, अनार्यक,   

हिंदी – अगर, उद,  

असमिया- ससी (Sasi)

उर्दू- अगर (Agar)

कन्नड़- अगरु (Agru), 

गुजरती- अगर (Agar) 

तमिल- अग्गालिचंद्नाम (Aggalichandanam), 

तेलगु- अगरु (Agru), 

बंगाली- अग्गर, (Aggar), अगरु (Agru), उगर  (Ugar),

पंजाबी- पंवार (Panwar), चकुंदा (Chakunda),

 

मराठी- अगर (Agar),  

मलयालम- कायागाहरू (Kayagahru), 

अंग्रेजी- Agar Wood, Aloe Wood, Agallochum, 

अरबी- उद ए गर्की (Ood E Garki), अगरे हिन्दी  (Agre Hindi)

फारसी – अगर, (agar), उद ए हिन्दी (Ood E Hindi)

अगरु (Agru) के बारे में परिचय , एवं औषधीय परयोग और विधि निचे दी गई फोटो को देख कर जाने .

 

[ads3]

[ads4]

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status