Wednesday , 19 December 2018
Home » आयुर्वेद » जड़ी बूटियाँ » घर पे ही बनाये ये चमत्कारिक दावा और पुरे 80 रोग आप को छु भी नहीं पायेंगे – 100% आयुर्वेदिक !!

घर पे ही बनाये ये चमत्कारिक दावा और पुरे 80 रोग आप को छु भी नहीं पायेंगे – 100% आयुर्वेदिक !!

घर में आयुर्वेदिक दवा बनाएं, 80 रोगों को दूर भगाएं

ले ही आपको यकीन न हो, लेकिन सिर्फ एक दवा का प्रयोग कर आप 80 प्रकार के वात रोगों से बच सकते हैं। जी हां, इस दवा का सेवन करने से आप कठिन से कठिन बीमारियों से पूरी तरह से निजात पा सकते हैं। अगर आपको भी होते हैं वात रोग, तो पहले जानिए इस चमत्कारिक दवा और इसकी प्रयोग विधि के बारे में…

आयुर्वेद, AYURVED, AYURVEDA, AYURVEDIC MEDICINE

 विधिः 200 ग्राम लहसुन छीलकर पीस लें। अब लगभग 4 लीटर दूध में लहसुन व 50 ग्राम गाय का घी मिलाकर गाढ़ा होने तक उबालें। फिर इसमें 400 ग्राम मिश्री, 400 ग्राम गाय का घी तथा सौंठ, काली मिर्च, पीपर, दालचीनी, इलायची, तमालपात्र, नागकेशर, पीपरामूल, वायविडंग, अजवायन, लौंग, च्यवक, चित्रक, हल्दी, दारूहल्दी, पुष्करमूल, रास्ना, देवदार, पुनर्नवा, गोखरू, अश्वगंधा, शतावरी, विधारा, नीम, सुआ व कौंचा के बीज का चूर्ण प्रत्येक 3-3 ग्राम मिलाकर धीमी आंच पर हिलाते रहें। जब मिश्रण घी छोड़ने लगे लगे और गाढ़ा मावा बन जाए, तब ठंडा करके इसे कांच की बरनी में भरकर रखें।

आयुर्वेद, AYURVED, AYURVEDA, AYURVEDIC MEDICINE

प्रयोग : प्रतिदिन इस दवा को 10 से 20 ग्राम की मात्रा में, सुबह गाय के दूध के साथ लें (पाचनशक्ति उत्तम हो तो शाम को पुनः ले सकते हैं।)परंतु ध्यान रखें, इसका सेवन कर रहे हैं तो भोजन में मूली, अधिक तेल व घी तथा खट्टे पदार्थों का सेवन न करें और स्नान व पीने के लिए गुनगुने पानी का प्रयोग करें। आयुर्वेद, AYURVED, AYURVEDA, AYURVEDIC MEDICINE
>

आयुर्वेद, AYURVED, AYURVEDA, AYURVEDIC MEDICINE

 इससे पक्षाघात (लकवा), अर्दित (मुंह का लकवा), दर्द, गर्दन व कमर का दर्द,अस्थिच्युत (डिसलोकेशन), अस्थिभग्न (फ्रेक्चर) एवं अन्य अस्थिरोग, गृध्रसी (सायटिका), जोड़ों का दर्द, स्पांडिलोसिस आदि तथा दमा, पुरानी खांसी,हाथ पैरों में सुन्नता अथवा जकड़न, कंपन्न आदि के साथ 80 वात रोगों में लाभ होता है और शारीरिक विकास होता है। आयुर्वेद, AYURVED, AYURVEDA, AYURVEDIC MEDICINE

आयुर्वेद, AYURVED, AYURVEDA, AYURVEDIC MEDICINE

दवा के प्रयोग से पूर्व, अपनी प्रकृति के अनुसार किसी उत्तम वैद्य की सलाह अवश्य लें।

आयुर्वेद, AYURVED, AYURVEDA, AYURVEDIC MEDICINE

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status