Wednesday , 14 November 2018
Home » Beauty » body odor » पसीने की बदबू दूर करने के लिए प्राकृतिक तरीके

पसीने की बदबू दूर करने के लिए प्राकृतिक तरीके

पसीने की बदबू दूर करने के लिए प्राकृतिक तरीके

गर्मी में पसीना आना एक आम बात है और जरूरी भी है पर पसीने की बदबू आपको कई बार शर्मिंदा कर देती है। ऐसे में आजकल के युवा डियो इस्तेमाल करते हैं, जो के त्वचा के लिए बहुत हानिकारक है. मगर अंधाधुंध झूठे प्रचार और भाँड़ो के बहकावे में आकर आजकल के युवा अपना भला बुरा भी नहीं जान सकते. चलिए वो एक अलग विषय है.

पसीना पसीने की ग्रंथिओं से तब निकलता होता है जब शरीर गर्म हो जाता है। तब ये ग्रंथियां त्वचा पर पानी की बूंदें छोड़ती है और यह नमी भाप बनकर उड़ जाती है तो शरीर के ताप में कुछ कमी आती है। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि पसीने की अपनी कोई गंध नहीं होती है, बल्कि जब पसीना शरीर के बैक्टीरिया से मिल जाता है तब उसमें बदबू आने लगती है। इसका एक कारण और भी है जो भोजन हम खाते हैं और वो भोजन जब तक पचता नहीं और ऐसे में अगर पसीना आ जाए, या फिर अगर शरीर में  विषाक्त पदार्थ जमा हो या शरीर की अच्छी तरह सफाई न होने पर स्वेद छिद्रों के बंद हो जाने से तथा धूल के साथ त्वचा पर जमे जीवाणुओं के गतिशील होने से पसीने में विकार और बदबू पैदा हो जाती है।

पसीने की बदबू से छुटकारा पाने के लिए सेब, अजवाइन और पत्तागोभी से बना ग्रीन जूस।

एक सेब, कुछ अजवाइऩ के पत्ते, थोड़ी सी पत्तागोभी, एक दो अदरक के छोटे टुकड़े और एक कटा हुआ नींबू लें। सारी सामग्री को अच्छे से धोकर साफ करें। फिर सभी को ब्लेंडर में डालकर पीस लें। जूस खुरदुरा सा लगने लगे तो एक गिलास में डालकर रोजाना सुबह खाली पेट इसका सेवन करें। पहले इस जूस तो थोड़ी मात्रा में लेना शुरू करें। अगर ये आपके शरीर में कोई दिक्कत नहीं करता है तो आप इसे रोजाना पी सकते है। इस जूस को 48 घंटे से ज्यादा के लिए स्टोर ना करें। इसका प्रभाव खत्म हो जाता है।

ग्रीन जूस में शामिल सभी सामग्री त्वचा में पीएच संतुलन को बनाए रखती है। साथ ही इसके एंटीबैक्टीरियल व एंटी ऑडर प्रॉपर्टीज बैक्टीरिया को शरीर मे पनपने नहीं देती जिससे बदबू आने की संभावना कम हो जाती है।

सेब में साइट्रिक एसिड होता है, जो नेचर में एसिडिक है, जिस वजह से ये बैक्टीरिया को फैलने से रोकने में सहायक है। इतना ही नहीं ये अत्यधिक पसीने के कारण बैक्टीरियल या फंगल संक्रमण को फैलने से रोकता है। बैक्टीरिया को नष्ट करने के लिए नींबू भी बेहद कारगर है।

अजवाइन के सेवन से बॉडी डिटोक्स (शरीर की भीतरी सफाई) से शरीर की गंध कम करने में मदद होगी तथा आपको ताजी महक का एहसास होगा। विटामिन के, ए और सी से भरपूर होने के साथ ही इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट की भी अच्छी मात्रा होती है।

कम पानी पीने से आपके पसीने में बदबू ज्यादा आती है। पसीने की बदबू से निजात पाना है तो दिन भर में कम से कम आठ गिलास पानी पिएं। पानी पेट में मौजूद टॉक्सिन को बाहर कर गैस विकार में भी राहत देता है।

अगर पसीना ज्यादा आता हो तो नहाने के पानी में 5 ग्राम फिटकरी डाल कर नहायें. पसीना आना बहुत कम हो जायेगा.

2 comments

  1. Sir muje aap se bat karni

  2. अमर नायक

    बहुत उम्दा तरीके और टीप्स/ नुस्खें!! केवल आयुर्वेद!!! हर तरह की बीमारी का रामबाण ईलाज़!!!”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status