Saturday , 23 October 2021
Home » BRAIN STROKE » आयुर्वेद के इन उपायों से किसी भी उम्र में तेज होगा आपका दिमाग –

आयुर्वेद के इन उपायों से किसी भी उम्र में तेज होगा आपका दिमाग –

आयुर्वेद के इन उपायों से किसी भी उम्र में तेज होगा आपका दिमाग –

वर्तमान समय में लाइफस्टाइल, रहन-सहन और भोजन के साथ ही सोचने का तरीका भी बदल चुका है. चाहे नौकरी पेशा लोग हो या बच्चों का क्लास रूम सभी जगह आगे बढ़ने की प्रतिस्पर्धा है. सभी एक दूसरे को पीछे करने की होड़ में लगे हुए हैं. आगे बढ़ने के लिए तमाम कोशिशें करते हैं, लेकिन इसके लिए मेहनत करना ही काफी नहीं है. सफलता के लिए आपको पूरी तैयारी करनी होती है और इसके लिए सबसे पहले अपने दिमाग को तेज रखना जरूरी है. कुछ लोग कितनी भी मेहनत कर लेतें है लेकिन उनका रिजल्ट औसत से आगे नहीं जा पाता है. इसका सबसे कारण दिमाग और दिमाग की ताकत का होता है. जिन लोगों का दिमाग तेज होता है उनकी स्मृति भी उतनी ही तेज होती है. साथ ही उनके अंदर तर्क की क्षमता अच्छी होती है. स्मृति को तेज करने के लिए आप कुछ उपाय कर सकते हैं जिससे आपकी स्मृति शक्ति बढ़ती है और दिमाग तेज होता है. कुछ ऐसे आयुर्वेदिक तरीके हैं जिससे आप औसत से बेहतर हो सकते हैं.

माइग्रेन और दिमाग के रोगों में रामबाण हे = मेमोरी बूस्टर = ( अनुभूत टॉनिक )

ब्राह्मी का प्रयोग

हजारों सालों से दिमाग तेज करने के लिए आयुर्वेद में ब्राह्मी का उपयोग किया जा रहा है. गुनगुने पानी के साथ आधा चम्मच ब्राह्मी आपके मस्तिष्क की क्षमता को बढ़ाता है. बच्चों के लिए छोटी उम्र से यह उपाय करने पर काफी लाभ मिलता है. इससे मस्तिषक एक्टिव होता है.

दालचीनी पाउडर

खाना बनाने में मसाले के तौर पर दालचीनी का प्रयोग किया जाता है. आयुर्वेद में दालचीनी को औषधी बताया गया है. रात को सोने से पहले शहद के साथ एक चुटकी दालचीनी पाउडर लेने से मानसिक तनाव दूर होता है और इससे आपका दिमाग तेज होता है. दिमाग को कमजोर करने में मानसिक तनाव सबसे बड़ा कारण है.

अश्वगंधा

अश्वगंधा स्मृति बढ़ाने में काफी लाभदायक हैं. अश्वगंधा का प्रयोग लगभग सभी हर्बल मस्तिष्क टॉनिक को बनाने में किया जाता है. अश्वगंधा समझने की शक्ति को बढ़ाने का काम करती है.

मुलेठी

मुलेटी एक औषधीय जड़ी बूटी है जो उपचारात्मक गुणों के लिए जाना जाता है. तनाव के समय मुलेठी मानसिक कार्यों को प्रोत्साहित करने का काम करती है. इसके अलावा यह शरीर के तंत्रिका तंत्र में संचलन बढ़ाने और खून में शर्करा के स्तर को संतुलित करने का काम भी करती है.

जटामांसी

आयुर्वेद में जटामांसी का प्रयोग अनेक बीमारियों को दूर करने के लिए किया जाता है. यह औषधि दिमाग तेज करने में रामबाण उपाय है. यह याद रखने की क्षमता बढ़ती है. एक चम्मच जटामांसी को एक कप गुनगुने दूध में घोलकर पीने से दिमाग तेज होता है. इसे दिन में दो बार भी सेवन कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status