Wednesday , 14 November 2018
Home » eyes problem » आँखों की अंजनहारी के तुरंत प्रभाव के लिए अपनाएं ये घरेलु रामबाण इलाज

आँखों की अंजनहारी के तुरंत प्रभाव के लिए अपनाएं ये घरेलु रामबाण इलाज

आँख की अंजनी बोले तो गुहेरी अंजनहारी या English में बोले तो Stye का घरेलु रामबाण इलाज

आँखों में अक्सर ही कई लोगों को जिनको गंदगी से ज्यादा सेंसिटिविटी होती है उनको ये समस्या अधिक होती है. हमारी Eye lid के ऊपर Oil Glands पाए जाते हैं, जिनमे oil निकलता है, कई लोग जो अधिक मेकअप करते हैं, या अधिक गंदगी में रहते हैं, जहाँ धुल मिटटी ज्यादा रहती है, या पेट्रोलियम पदार्थ होते हैं, जिसके प्रभाव में आने की वजह से Oil Gland ब्लाक हो जाते हैं, जिस कारण Oil Production तो होता ही रहता है, मगर वो बाहर नहीं निकल पाता, जिस कारण उसमे बैक्टीरिया पनप जाते हैं और वो भाग सूजन से भर जाता है फिर ये अंजनी का रूप ले लेता है.

इसका एक कारण ये भी है जिन लोगों का काम ज्यादा धुल मिटटी का होता है, उनकी आँखों में अधिक धुल मिटटी के कारण ये ग्लैंड बंद हो जाता है, और इसमें पस भरने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है. ये पस Staphylococcus नामक बैक्टीरिया के कारण होता है. जिस के कारण इन्फेक्शन होता है. अब आइये जानते हैं इसके घरेलु उपाय.

अंजनी में धनिया.

धनिये के अन्दर Anti Inflammatory गुण पाए जाते हैं, ये गुण इसमें मौजूद Geraniol नामक रसायन के कारण होते हैं. जिसकी वजह से ये सूजन और दर्द को कम करता है. आँखों के ऊपर आये हुए लालपन को कम करता है. एक चम्मच धनिया के बीज लो, इसको एक कप पानी में बॉईल करें, अभी इसको ठंडा होने दो, इस पानी को छान लो, इस पानी से आँखों के उपरी हिस्से को दिन में दो तीन चार बार धुलाई करें. ये प्रोसेस आपको तब तक करना है जब तक आपको आराम ना आये.

ग्रीन टी या साधारण टी

टी में Tanic acid पाया जाता है, जो एक अच्छा Anti infective है, इसके साथ ये चाएं सूजन को कम करती हैं और दर्द को कम करती है. इसमें पाए जाने वाले प्राकृतिक Anti Oxidant हीलिंग की प्रोसेस को बढाते हैं. जिस से ये जल्दी ठीक होता है. ग्रीन टी एक बैग या एक चम्मच काली चाय की पत्ती को एक कपडे में डालकर एक कप गर्म पानी में 5 मिनट तक रख दें. अभी इसको निकाल कर कपडे को अच्छे से निचोड़ कर आँख पर लगाओ, जितना गर्म सह सकें उतना ही लगाओ, इस प्रकार से दिन में 3 से 4 बार करें.

अंजनी में हल्दी का उपयोग.

हल्दी के अन्दर Curcumin पाया जाता है जो के प्रक्रितक रूप से दर्द और सूजन को कम करता है और संक्रमण को कम करता है. एक चम्मच हल्दी पाउडर लो, इसको 1 कप पानी में डालें इसको इतना उबालें जब तक ये आधा ना रह जाए, इसको थोडा ठंडा कर के छान लें. और इस पानी में फलालेन के कपडे को गीला कर के आँखों पर सुहाता सुहाता लगायें. ऐसा आप बार बार करें.

अंजनी में एलो वेरा का प्रयोग.

एलो वेरा में Aloein पाया जाता है, जो के प्राकृतिक रूप से सूजन को कम करता है, ठंडक प्रदान करता है, और संक्रमण को कम करता है, और हीलिंग प्रोसेस को भी बढ़ा देता है. एक एलो वेरा की पत्ता लो, इसके अन्दर की जेल निकाल लो, इस जेल को आँख पर 20 मिनट तक लगाओ. और बाद में ठंडा पानी से इसको धुलाई कर लें.

अंजनी में गर्म सेकाव

अक्सर हमने बचपन में देखा होगा के अंजनी होने पर माँ या दादी नानी आँखों पर कपडे को मुंह से गर्म करके सेकाव करती थी, ऐसा करने के पीछे वैज्ञानिक कारण ये है के जब गर्म कपडे को प्रभावित हिस्से पर लगाते हैं तो उस हिस्से पर रक्त का परिसंचरण (Circulation) बढ़ जाता है, जिस से अन्जन्हारी फूट जाती है, और इसका पस निकल जाता है और दर्द में आराम आ जाता है.

इसके साथ बहुत महत्वपूर्ण ये के आप आँखों को नियमित धुलाई करते रहें. और भविष्य में भी आँखों की सफाई पर पूरा ध्यान दें. ऐसे प्रोडक्ट ना इस्तेमाल करें जो रोम छिद्रों को बंद कर दें.

और ये प्रयोग आपको जब तक आराम ना आये तब तक करते रहें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status