Thursday , 19 July 2018
Home » gharelu gyaan » क्या एलुमिनियम फॉयल में लपेटा हुआ खाना वाकई है सुरक्षित?

क्या एलुमिनियम फॉयल में लपेटा हुआ खाना वाकई है सुरक्षित?

Why Aluminium Foil dangerous for health.

लंच के लिए टिफिन में रखे पराठे या रोटी गर्म रहे इसके लिए एल्युमिनियम फॉयल का प्रयोग आम हो गया है। साथ ही इससे खाने की चीजें नर्म और मुलायम भी रहती हैं। वैसे तो एल्यूमिनियम प्रतिक्रिया करता है जिसकी वजह कुछ एल्यूमिनियम फॉयल खाने के साथ मिल जाता है जोकि सेहत को नुकसान कर सकता है।

वैसे तो किचन में एल्यूमिनियम का प्रयोग बहुत होता है। एल्यूमिनियम के बर्तन हर घर में दिख जाएंगे। लेकिन इसके कई सारे नुकसान भी हैं। एल्यूमिनियम की बहुत अधिकता से हड्डियों की कई सारी बीमारी घेर लेती है या फिर किडनी की गंभीर बीमारी सामने आ सकती है। कुछ बातों का ध्यान रखा जाए तो इससे होने वाले खतरों से बचा जा सकता है।

बहुत ज्यादा गर्म खाना फॉयल में ना लपेटें। ऐसा करने से एल्यूमिनियम पिघलकर खाने में मिल सकता है जो अल्जाइमर और डिमेंशिया के खतरा पैदा कर देता है। ऐसे खतरें से खुद को दूर रखना है तो अच्छी क्वालिटी का एल्यूमिनियम का प्रयोग करें।

खाने की ऐसी चीजें जो एसिड प्रकृति की हैं उन्हें फॉयल में ना रखें। टमाटर से बनी या फिर अगर सिरके का प्रयोग हुआ हो तो इन्हें फॉयल में ना लपेटे। ये सारी चीजें एल्यूमिनियम के साथ मिलकर उसे खराब कर सकते हैं जिससे खाने में नमी और बैक्टीरिया आसानी से प्रवेश कर सकते हैं।

जिन चीजों में निम्बू डाला गया है,उनको भी एल्युमीनियम फॉयल में मत रखें, क्योंकि ये एल्युमीनियम के साथ प्रतिक्रिया करता है, जिस से भोजन में एल्युमीनियम आ जाता है। और इसकी अधिकता के कारण शरीर अनेक रोगों में घिर सकता है।

बचें हुए खाने को भी एल्यूमिनियम में पैक ना करें। इन्हें किसी ग्लास के बर्तन में रखें। साथ ही एल्यूमिनियम फॉयल में लपेटा हुआ या ढका हुआ भोजन ना पकाएं।

क्या करें एल्युमीनियम की जगह प्रयोग।

1. कपड़ा

घरों में कॉटन के कपडे होतें हैं जिनमे रोटियों को आसानी से रखा जा सकता है, इन कपड़ों का प्रयोग घरों में सदियों से ही रोटियों को अधिक देर तक सुरक्षित रखने के लिए किया जाता है।

2. टिफ़िन

प्लास्टिक की जगह अच्छे स्टील के टिफिन इस्तेमाल करें, क्योंकि न तो ये गुण करते हैं और न ही नुक्सान।

3. केले के पत्ते

केले के पत्ते में भोजन लपेटने से भोजन में गुण बढ़ जाते हैं और यह स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा है आज भी दक्षिण भारत में अनेक लोग केले के पत्तों पर भोजन करते हैं और भोजन पैक करते समय केले के पत्तों का इस्तेमाल करते हैं।

आशा करते हैं के हमारे द्वारा दी गयी जानकारी आपको अच्छी लगी होगी। इसको शेयर करना ना भूलें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status