Tuesday , 20 November 2018
Home » Health » पेट के रोग » गैस और कब्ज » पेट में गैस का इलाज के 14 आसान उपाय और रामबाण घरेलू नुस्खे !!

पेट में गैस का इलाज के 14 आसान उपाय और रामबाण घरेलू नुस्खे !!

कई बार पेट की गैस की समस्या से व्यक्ति दूसरों के लिए उपहास का पात्र बन जाते है जिस वजह से उन्हें शर्मिंदगी महसूस होती है। जिन लोगों को गैस अधिक बनती है वे खुद को दूसरों से दूर रखने लगते है। पेट में गैस वैसे तो हर किसी को बनती है, पर जिनका पाचन खराब रहता है या फिर जिन्हें एसिडिटी और कब्ज़ रहती है उन्हें गैस की शिकायत औरों से अधिक होती है। अगर पेट की गैस लंबे समय तक रहे तो पेट में अफारा महसूस होना, पेट में भारीपन, अल्सर और बवासीर जैसी कई प्रकार की परेशानियां होने की आशंका बढ़ जाती है। इस लेख में हम जानेंगे घरेलू दवा, उपाय और आयुर्वेदिक देसी नुस्खे से पेट की गैस का उपचार कैसे करे, natural home remedies treatment tips for stomach gas problem solution in hindi.

आँत में गैस बनने से पेट दर्द होने लगता है और जब ये दर्द बड़ी आँत की बाईं और होता है तो इससे ह्रदय के रोग का भ्रम हो जाता है और जब दाईं और दर्द होता है तब ये अपेंडिक्स का दर्द भी हो सकता है।

सौंफ अर्क एसिडिटी गैस अपच अल्सर कब्ज त्वचा रोग और दिमाग बढाने के लिए अति उत्तम है अधिक जानकारी और खरीदने के लिए CLICK करें .

 

पेट की गैस का घरेलु उपचार

एक चम्मच अजवाइन के साथ चुटकी भर काला नमक भोजन करने के बाद चबाकर खाने से पेट की गैस शीघ्र ही निकल जाती है।

अदरक और नींबू का रस एक-एक चम्मच की मात्रा में लेकर उसमें थोड़ा-सा काला नमक मिलाकर भोजन के बाद दोनों समय सेवन करने से गैस की सारी तकलीफें दूर हो जाती हैं और खाना भी ठीक से हजम हो जाता है |

भोजन करते समय बीच-बीच में लहसुन, हींग थोड़ी मात्रा में खाते रहने से गैस की समस्या से छुटकारा मिलता है |

हरड, सोंठ का पाउडर आधा-आधा चम्मच की मात्रा में लेकर उसमें थोड़ा-सा सेंधा नमक मिलाकर भोजन के बाद पानी से सेवन करने से पाचन ठीक होता है और पेट की गैस की समस्या से भी छुटकारा मिलता है |

नीबू का रस व मूली खाने से गैस की तकलीफ नहीं होती और पाचन क्रिया सुधरती है।

इसके अतिरिक्त सिर्फ अजवायन के चूर्ण को गर्म पानी के साथ सेवन करने से अफारा, पेट का तनाव, बदहजमी आदि रोगों में लाभ होता है। आवश्यकतानुसार 1-2 सप्ताह तक लगातार प्रयोग करें। इससे पेट की गैस की समस्या से छुटकारा मिलता है |

125 ग्राम दही के मट्ठे में अजवायन 2 ग्राम और आधा ग्राम काला नमक (पीसकर व मिलाकर) भोजनोपरांत सेवन करने से पेट की गैस, अफारा, कब्ज आदि में बहुत लाभ होता है। आवश्यकतानुसार 1-2 सप्ताह तक प्रयोग करें।

लहसुन की 1-2 कली छीलकर, बीज निकाली हुई मुनक्का में लपेटकर भोजनोपरांत थोडा सा चबाकर निगल लें यह पेट की गैस की अचूक दवा है |

पेट और गैस से जुडी सैकड़ो बीमारियों से बचा सकता है – Gastro Sanjeevni

पेट में गैस की समस्या के मुख्य कारण एसिडिटी, बदहज़मी, पेट में दर्द और सीने में जलन।

गैस्ट्रोइसोफेगल रिफ्लक्स रोग,पेट फूलना, इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम IBS, एसिडिटी, फंक्शनल डिस्पेप्सिया, मोटापा, कब्ज, फिस्टुला, fissure ,, गैस्ट्रिक, अपच, एसिडिटी जैसे सैकड़ो रोगों की शुरुआत पेट से होती है इन सब से बचने के आप बस अपनी रोज की जीवनशैली में Only Ayurved की GASTRO SANJEEVNI को शामिल करे और मुक्त रहे अनेको बिमारियों से Only Ayurved की GASTRO SANJEEVNI दिन में दो बार 15 ml  से 30 ml सुबह खाली पेट और रात को सोते समय आधा कप पानी के साथ लेना है इसे लेने के 30 min पहले और 30 min बात तक कुछ नहीं खाना पीना है .  Only Ayurved की GASTRO SANJEEVNI की कीमत 200 ml 160 रूपए और 500 ml 380 रूपए में उपलब्ध है इस के साथ Only Ayurved का त्रिफला रस लेने से आप को कुछ दिनों में ही राहत मिलना शुरू हो जाएगी  .

  • प्रतिदिन 3 छोटी हरड मुंह में डालकर चूसते रहने से भी पेट की गैस की समस्या दूर हो जाती है|
  • प्याज के रस में काला नमक और हींग पीसकर व मिलाकर पीने से पेट की गैस और गैस का दर्द ठीक हो जाता है |
  • गुड़ और मैथीदाना को उबालकर पीने से पेट की गैस की समस्या से छुटकारा मिलता है।
  • नोट – जिन लोगों को गर्म तासीर वाली वस्तुएं हजम न होती हो या जिनके शरीर में जलन अनुभव होता हो, उन्हें भी मैथीदाना का प्रयोग नहीं करना चाहिए या जो लोग कमजोर हों अथवा चक्कर आते हों, उन्हें भी मैथीदाने का निरंतर प्रयोग नहीं करना चाहिए।
  • पेट की गैस हो जाने पर पिसी हुई हल्दी 1 ग्राम में पिसा हुआ नमक 1 ग्राम मिलाकर गर्म पानी के साथ सेवन करने से गैस निकलकर पेट हल्का हो जाता है।
  • काली हरड (इसको छोटी हरड, बाल हरड़, आदि नामों से भी जाना जाता है) को पानी से भली-भांति धोकर किसी साफ-स्वच्छ कपड़े से पोंछकर साफ करके सुरक्षित रख लें। भोजनोपरांत दिन में 2 बार 1 हरड को मुंह में रखकर चूसने से गैस व कब्ज में लाभ होता है। हरड भी पेट की गैस की रामबाण दवा होती है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status